मेन्यू बंद करे

Bank Account में नॉमिनी बनाना क्यों आवश्यक है, जानिए इसके पीछे का कारण

Bank Account Nominee: बैंक में खाता खोलते समय हमें दिए गए फॉर्म में नॉमिनी की भी जगह होती है। बैंक में खाता खोलते समय नॉमिनी का नाम और उससे जुड़ी जानकारी भरना बहुत जरूरी है। हालांकि, बहुत से लोग बैंक खाते में नॉमिनी के महत्व को नहीं जानते हैं। इसीलिए इस लेख में हम, Bank Account में नॉमिनी बनाना क्यों आवश्यक है और नॉमिनी किसे बना सकता है, जानेंगे।

Bank Account में नॉमिनी बनाना क्यों आवश्यक है

Bank Account में नॉमिनी बनाना क्यों आवश्यक है

किसी भी Bank Account में नॉमिनी (Nominee) का विवरण भरा जाता है ताकि खाताधारक की मृत्यु के बाद उसके खाते में जमा की गई सारी राशि नॉमिनी के खाते में ट्रांसफर हो जाए। यदि किसी व्यक्ति के बैंक अकाउंट में नामांकन विवरण नहीं भरा जाता है और उसकी मृत्यु हो जाती है, तो उसके बैंक खाते में जमा धन को निकालने में कई समस्याएं होती हैं।

आरबीआई के अनुसार, भारत भर के कई बैंकों में करोड़ों की लावारिस जमा राशि बेकार पड़ी है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इन खातों में कोई बैंक नॉमिनी नहीं था और बिना नॉमिनेशन के पैसे निकालना बहुत मुश्किल है। मृतक का परिवार, जो परिवार के लिए आर्थिक सहायता होता, न केवल दुःख का सामना करता है, बल्कि वित्तीय सुरक्षा का भी अचानक नुकसान होता है।

बैंक नॉमिनी (Bank Nominee) के रूप में जीवनसाथी या परिवार के किसी सदस्य का साधारण नामकरण इस उथल-पुथल का समाधान करता है। इसलिए आपके बैंक खाते में एक बैंक नॉमिनी महत्वपूर्ण है, ताकि किसी भी अप्रत्याशित घटना की स्थिति में नॉमिनी खाताधारक अपने आप उस बैंक अकाउंट का हकदार बन जाता है।

अगर आपने अपने Bank Account में किसी व्यक्ति को नॉमिनेट नहीं किया है तो बिना देर किए किसी भी व्यक्ति को नॉमिनी बना लें। आप अपने बैंक अकाउंट को नॉमिनी बनाने के लिए नेट बैंकिंग का उपयोग कर सकते हैं। इसके अलावा आप अपनी बैंक शाखा में जाकर किसी व्यक्ति को अपने बैंक अकाउंट के लिए नॉमिनी भी बना सकते हैं।

बैंक खाते का Nominee किसे बना सकता है

आप अपने बैंक खाते के लिए अपने माता-पिता, बच्चों, जीवनसाथी या भाई-बहनों को भी अपना Nominee बना सकते हैं। खाताधारक की मृत्यु के बाद नॉमिनी को खाते में जमा सारा पैसा आसानी से मिल जाता है। यदि आप अपने बैंक खाते के लिए किसी व्यक्ति को नामांकित नहीं करते हैं, तो आपकी मृत्यु के बाद आपके बैंक खाते में जमा राशि आपके कानूनी उत्तराधिकारियों के पास जाएगी, जिसमें आपके बच्चे और जीवनसाथी शामिल हैं।

हालांकि, यह प्रक्रिया काफी लंबी और जटिल है जिसमें लंबा समय लग सकता है। ऐसे में आपकी एक छोटी सी गलती के कारण आपकी गैरमौजूदगी में आपके परिवार को जरूरत के समय पैसे नहीं मिलते और उन्हें कई तरह की आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

यह भी पढ़ें-

Related Posts