Menu Close

1G फोन से लेकर 5G स्मार्टफोन में क्या अंतर है

आपको शायद पता होगा की सालों पहले तक वायर्ड टेलीफोन हुआ करते थे। तारों के जाल के कारण संचार बहुत कठिन था। सेवा की समस्या बनी रही। कभी केबल कट गई तो कभी शॉर्ट हो गई। 1G फोन की तकनीक ने इस समस्या से छुटकारा पा लिया और इसी तकनीक के कारण आज दुनिया में 5G स्मार्टफोन की तकनीक विकसित हो रही है। इस आर्टिकल में आप 1G फोन से लेकर 5G स्मार्टफोन में क्या अंतर है क्या है इसे हम विस्तार से जानेंगे।

हम 5G स्मार्टफोन की ओर बढ़ रहे हैं। बहुत जल्द हमारे हाथ में एक फोन होगा जिसकी मदद से हम केवल ऑडियो वीडियो संचार तक ही सीमित नहीं रहेंगे, बल्कि एसी और कार से लेकर घर के दरवाजे तक के सभी ऑपरेटिंग कमांड आपके मोबाइल फोन में होंगे। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि संचार की दुनिया में क्रांति लाने वाला 1जी फोन कैसा था।

1G फोन से लेकर 5G स्मार्टफोन में क्या अंतर है

1G वायरलेस फोन क्या था

1G फोन को बोलचाल की भाषा में वायरलेस फोन कहा जाता था। इसमें एनालॉग सिग्नल का इस्तेमाल किया गया था। इसकी मदद से आप ऐसी जगह खड़े होकर बात कर सकते हैं जहां वायर कनेक्टिविटी नहीं है। 1जी फोन में पहली बार बिना तार के संचार किया जा सकेगा। डेटा ट्रांसफर संभव है लेकिन एनालॉग फॉर्मेट के कारण इसमें कुछ समस्याएं थीं। सबसे बड़ी समस्या यह थी कि एनालॉग सिग्नल आसानी से परिवर्तित हो जाता था। यह सुरक्षित नहीं था। इसमें कई बार आवाज की क्वालिटी काफी खराब हो जाती थी। कहा जाता है कि हर समस्या एक आविष्कार का कारण होती है।

2G फोन क्या था

2G फोन क्या था

2जी फोन, जिसका नाम बदलकर मोबाइल फोन कर दिया गया, 1जी फोन की समस्याओं का समाधान था। इसमें पहली बार डिजिटल मल्टीपल एक्सेस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया था। जिसे टीडीएमए (टाइम डिवीजन मल्टीपल एक्सेस) और सीडीएमए (कोड डिवीजन मल्टीपल एक्सेस) नाम दिया गया था। 2जी मोबाइल फोन में सबसे क्रांतिकारी बदलाव यह था कि आप वॉयस कॉल के अलावा एसएमएस भी कर सकते थे। इसे अपडेट करते समय इंटरनेट ब्राउजिंग की सुविधा भी दी गई थी, लेकिन यह काफी सीमित थी।

3G फोन को स्मार्ट फोन क्यों कहा जाता है

3G फोन को स्मार्ट फोन क्यों कहा जाता है

लोग अपने 2जी मोबाइल फोन से ज्यादा कुछ चाहते थे। इसी मांग को पूरा करने के लिए 3जी ​​तकनीक का विकास किया गया। पहली बार मोबाइल फोन को 3जी की वजह से स्मार्टफोन कहा जाने लगा। 3जी तकनीक में खास बात यह थी कि यह डाटा ट्रांसफर की हाई स्पीड (2एमबीपीएस) मुहैया कराती थी। इससे इंटरनेट ब्राउजिंग आसान हो गई। इससे यूजर्स वीडियो भी भेज सकते थे। लेकिन इसके साथ दिक्कत यह थी कि इंटरनेट पर मूवी देखने के लिए उसे डाउनलोड करना पड़ता था।

4G और 3G फ़ोन तकनीक में क्या अंतर है

4G और 3G फ़ोन तकनीक में क्या अंतर है

4जी तकनीक इस नई मांग को पूरा करने में सक्षम है। इसमें 100 एमबीपीएस तक की स्पीड हासिल की जा सकती है। इसकी मदद से आप कोई भी हाई रेजोल्यूशन वीडियो अपने मोबाइल फोन में बिना डाउनलोड किए देख सकते हैं। यह चमत्कार MIMO तकनीक की वजह से हुआ है।

5G फोन में क्या है खास

5G फोन में क्या है खास

5G स्मार्टफोन आपके घर को बना देगा स्मार्ट होम बेहतर गुणवत्ता वाली वॉयस कॉल, एसएमएस, इंटरनेट ब्राउजिंग और ऑनलाइन वीडियो चैटिंग के बाद अब 5जी तकनीक विकसित की जा रही है। यह तकनीक आम आदमी की सभी घरेलू जरूरतों को पूरा करती है। आपका फोन नेटवर्क कभी नहीं छूटेगा। नेटवर्क की समस्या हमेशा के लिए दूर हो जाएगी। 5जी स्मार्टफोन की मदद से आप बिना ड्राइवर के कार चला सकते हैं। यानी आप अपने बच्चों को कार से स्कूल भेज सकते हैं और कार चलाने के लिए आपको ड्राइविंग सीट पर बैठने की जरूरत नहीं पड़ेगी। आप घर बैठे कार चला सकते हैं, जैसे आप मोबाइल पर गेम खेलते हैं।

यह भी पढ़े –

Related Posts

error: Content is protected !!