मेन्यू बंद करे

Fat क्या होता है | सैचुरेटेड, अनसैचुरेटेड फैट और कोलेस्ट्रॉल

फैट (Fat) जिसे वसा भी कहा जाता है, ये मानव शरीर का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है जो शरीर को ऊर्जा प्रदान करता है। जब कोई व्यक्ति अपनी आवश्यकता से अधिक भोजन करता है तो उसके शरीर पर चर्बी दिखने लगती है और इससे उसका आकार भी बदल जाता है। वैसे तो फैट शरीर को स्वस्थ रखने में मदद करता है लेकिन आपको इसका सेवन संतुलित मात्रा में करना चाहिए। फैट ऐसे पदार्थ हैं जो पानी में अघुलनशील होते हैं और हाइड्रोजन, ऑक्सीजन और कार्बन के अणुओं से बने होते हैं। ये ग्लिसरॉल या स्टेरॉयड के रूप में पाए जाते हैं। इस आर्टिकल में हम, फैट क्या होता है और सैचुरेटेड, अनसैचुरेटेड फैट और कोलेस्ट्रॉल का मतलब क्या है जानेंगे।

Fat क्या होता है | सैचुरेटेड, अनसैचुरेटेड फैट और कोलेस्ट्रॉल

फैट का कार्य (Function of Fat)

  • शरीर को सबसे अधिक ऊर्जा फैट से मिलती है। 1 ग्राम फैट से 9 कैलोरी मिलती है।
  • स्किन के नीचे का फैट शरीर के तापमान को नियंत्रित करता है।
  • फैट का उपयोग अधिकांश वसा-घुलनशील विटामिनों के अवशोषण के लिए किया जाता है जिन्हें आप जानते हैं।
  • शरीर में फैट के रूप में कई हार्मोन होते हैं। उदा. एस्ट्रोजन, प्रोजेस्टेरोन, टेस्टोस्टेरोन ग्लूकोकार्टिकोस्टेरॉइड आदि।
  • कोलेस्ट्रॉल फैट है।
  • जैसे प्रोटीन अमीनो एसिड से बनते हैं, वसा फैटी एसिड से बनते हैं।

कोलेस्ट्रॉल क्या है

कोलेस्ट्रॉल (Cholesterol) एक प्रकार का फैट है। कोलेस्ट्रॉल का कार्य हार्मोन के निर्माण के साथ-साथ कोशिका झिल्ली के निर्माण में मदद करना है। यदि आहार में इसकी मात्रा अधिक हो तो यह हृदय विकारों का कारण बनता है।

आम तौर पर, शुद्ध कोलेस्ट्रॉल कमरे के तापमान पर स्थिर होता है और पानी में नहीं घुलता है। आम तौर पर मानव शरीर में 60 ग्राम कोलेस्ट्रॉल होता है, जिसमें से 1 ग्राम रोजाना इस्तेमाल किया जाता है। HDL – Hight Density Lipoprotien को उच्च घनत्व कोलेस्ट्रॉल कहा जाता है। तो, LDL Low density lipoprotien को कम घनत्व वाले कोलेस्ट्रॉल कहा जाता है।

फैटी एसिड के प्रकार (Types of Fatty Acids)

फैटी एसिड दो प्रकार के होते हैं। जो इस प्रकार हैं-

सैचुरेटेड फैट (Saturated Fat)

सैचुरेटेड फैट (Saturated Fat), जिसे संतृप्त वसा और ट्रांस फैट (Trans Fat) भी कहा जाता है, यह आपके लिए हानिकारक माना जाता है। वास्तव में, वे हृदय रोगी के स्ट्रोक के जोखिम को बढ़ाते हैं और आपके LDL (बैड) कोलेस्ट्रॉल के स्तर को भी बढ़ाते हैं। संतृप्त वसा कमरे के तापमान पर ठोस रहती है। यह उष्णकटिबंधीय तेलों, ताड़ के तेल और नारियल के तेल में पाया जाता है।

अनसैचुरेटेड फैट (Unsaturated Fat)

अनसैचुरेटेड फैट (Unsaturated Fat), जिसे असंतृप्त वसा और गुड फैट (Good Fat) भी कहा जाता है। आपको अधिक गुड फैट का ही सेवन करना चाहिए, इसे सेहत के लिए अच्छा माना जाता है। इसमें मोनोअनसैचुरेटेड और पॉलीअनसेचुरेटेड फैट्स होते हैं, जो कई गंभीर बीमारियों के खतरे को कम करते हैं। गुड फैट से भरपूर खाद्य पदार्थ वनस्पति तेल जैसे कैनोला, सूरजमुखी, सोया और मकई के तेल, मछली, आदि हैं।

यह भी पढ़ें-

Related Posts