Menu Close

OTP क्या होता है | ओटीपी अधिक सुरक्षित क्यों है

जब भी आप ऑनलाइन अकाउंट बनाते हैं और अपना नंबर डालते हैं तो आपके नंबर पर कुछ डिजिट का पासवर्ड आता है, जिसे हम ओटीपी कहते हैं। इस सुविधा का उपयोग आज सरकारी सेवाओं में खाता सत्यापन करने के लिए किया जा रहा है। लेकिन आज भी बहुत से लोग यह नहीं जानते हैं कि वास्तव में यह कुछ अंकों का OTP क्या होता है, ओटीपी अधिक सुरक्षित क्यों है और इसका उपयोग और महत्व क्या है? तो हम इस लेख में इन सभी बिंदुओं पर प्रकाश डालेंगे।

OTP क्या होता है

OTP क्या होता है

OTP (One Time Password) एक तरह का पासवर्ड है जो कुछ समय (मिनट या घंटे) के लिए वैध होता है। आपके फोन में हर बार ओटीपी आने का अलग ही मजा होता है। इसका उद्देश्य जानकारी की सुरक्षा करना है। उदाहरण के लिए, यदि आपने ऑनलाइन भुगतान किया है, तो उस समय प्राप्त OTP अगले भुगतान के लिए उपयुक्त नहीं होगा। इस तरह हर बार सिस्टम आपको एक नया OTP भेजता है।

इसका मतलब है कि जीतने के बाद आप लेन-देन करेंगे, उतनी ही बार आपको नया OTP देखने को मिलेगा। पुराना ओटीपी डालकर आप इसका इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे। इसका मतलब यह है कि यह आपके बैंक खाते के अलावा अन्य सोशल मीडिया खातों की भी काफी हद तक सुरक्षा करता है। यही कारण है कि बैंक के अलावा कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म, गूगल, ई-कॉमर्स वेबसाइट आदि इसका भरपूर उपयोग कर रहे हैं।

OTP का महत्व और उपयोग

आज के डिजिटल युग में हर कोई इंटरनेट से जुड़ा है और लोग अपनी सेवा के लिए इंटरनेट की सुविधा का उपयोग करते हैं। इसका मतलब है कि आप जो कुछ भी जानना चाहते हैं, आप उसे गूगल कर सकते हैं और तुरंत देख सकते हैं। अगर आप कुछ खरीदना चाहते हैं तो पहले आप इंटरनेट पर रिव्यू, कीमत देखकर खरीदारी करते हैं। यही वजह है कि हर कोई इंटरनेट या डिजिटल सर्विस पर निर्भर है।

इन डिजिटल सेवाओं में ऑनलाइन शॉपिंग और ऑनलाइन अकाउंट वेरिफिकेशन शामिल हैं। इन मुख्य दो कारणों से OTP का उपयोग किया जाता है। यदि आपने कुछ ऑनलाइन खरीदारी की है, तो भुगतान के लिए कार्ड डिटेल्स देने के बाद, बैंक सर्वर से आपके सत्यापित मोबाइल नंबर पर जो कोड आता है, उसे ओटीपी कहा जाता है। इस कोड को डालने से ही आपका भुगतान पूरा होता है।

दूसरा मुख्य उपयोग खाता सत्यापन (Verification) के लिए है। यदि आप किसी सोशल मीडिया वेबसाइट या सरकारी साइट पर अपना अकाउंट बनाते हैं तो उस समय अपनी पहचान की पुष्टि करने के लिए वह साइट आपको अपने सर्वर से एक ओटीपी भेजती है, जिसे वह साइट दर्ज करके आपकी पहचान की पुष्टि करती है। आजकल आधार कार्ड से लेकर गूगल तक हर जगह OTP Code का इस्तेमाल हो रहा है।

ओटीपी अधिक सुरक्षित क्यों है

जब भी आप किसी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर अपना अकाउंट खोलते हैं। फिर ज्यादातर लोग एक सामान्य यूजरनेम और आसान पासवर्ड रखकर छोड़ जाते हैं। यही कारण है कि कोई भी आपका अकाउंट हैक या खोल सकता है। सोशल मीडिया के शुरुआती दिनों में बहुत से लोग अपना पासवर्ड, बर्थडे या फोन नंबर रखते थे, जिससे उनका अकाउंट कभी-कभी हैक हो जाता था।

लेकिन अब लोग ज्यादा जागरूक हो गए हैं। ज्यादातर लोग अपना पासवर्ड किसी को नहीं बताते हैं, जो बहुत अच्छी बात है। लेकिन कभी-कभी आप अपना पासवर्ड डालकर भूल जाते हैं, तो आपको अपना खाता वापस पाने के लिए खाता रीसेट करना होगा। तो यह रीसेट कार्रवाई केवल ओटीपी के माध्यम से की जाती है। इसमें आपको ‘Forget Password’ नाम का एक ऑप्शन मिलता है। जिससे आपके नंबर पर OTP आता है उसे डालकर ही आपका अकाउंट रीसेट करना होता है।

इसे भी पढे:

Related Posts