Menu Close

HDR 10 Plus और Dolby Vision डिस्प्ले तकनीक क्या होती है? जानें सबकुछ

HDR १० Plus और Dolby Vision डिस्प्ले तकनीक: पिछले एक दशक में टीवी की दुनिया में बहुत कुछ बदल गया है। हमने बड़े पिक्चर ट्यूब वाले टीवी से LCD, LCD से स्लिम LED TV मे बदलते हुए देखा है। बाद मे HD, Full HD, 4K और आज 8K टीवी भी बाजार मे उपलब्ध हैं। TV Resolution के साथ तस्वीरों को भी और ज्यादा वास्तविक बनाने मे टीवी प्रौद्योगिकी क्षेत्र जोर लगा रहा है। तेजी से बदलती इस तकनीक की दुनिया मे HDR डिस्प्ले के विभिन्न प्रकारो के साथ स्मार्टफोन और टीवी हररोज मार्केट मे आ रहे है। लेकिन अभीभी हम में से अधिकांश अभी भी HDR को समझने की कोशिश कर रहे हैं। जबकि तकनीक इससे कई गुणा आगे बढ़ चुकी है। तो चलिए, ज्यादा कन्फ्यूज़ न होते हुए मुख्य बातों की जानकारी लेते है।

HDR और Dolby Vision डिस्प्ले तकनीक

HDR 10 Plus और Dolby Vision डिस्प्ले तकनीक क्या है

HDR का LONG FORM, High Dynamic Range होता है। HDR का उद्देश्य एक वास्तविक चित्र बनाना है, जो मानवी आँखों द्वारा देखे जाने के करीब है। इसका मतलब है, आप परछाई और रोशनी के बीच के रंगों की गहराई की विस्तृत श्रृंखला देखते हैं। रंगों और कंट्रास्ट को संतुलित करते हुए यह तकनीक चित्रों को उच्चतम गुणवत्ता स्तर पर निर्माण करने के लिए उच्चतम ब्राइटनेस लेवल पैदा करती है। HDR तकनीक चित्र या तस्वीरों को ज्यादा डिटेल्स के साथ वास्तविक कलर टोन मे बदलती है। तस्वीरों मे परछाई और रोशनी को काफी हद तक वास्तविक कलर कंट्रास्ट देने का काम HDR तकनीक के मदद से होता है। यह तस्वीरों मे कन्ट्रैस्ट को सही से ऍडजस्ट करता है, मतलब तस्वीरों मे अंधेरा और रोशनी के दृश्यों को डिटेल्स के साथ आकर्षक बनाता है। HDR के मदद से दिखे कलर काफी ब्राइट और कलरफुल प्रतीत होते है।

HDR डिस्प्ले तकनीक क्या होती है

HDR 10 और HDR 10 Plus डिस्प्ले तकनीक क्या है

HDR 10 और HDR 10+ यह दोनों HDR के नए आधुनिक तकनीकी मानक है। HDR 10 को पहिले Consumer Technology Association ने लॉन्च किया था। जबकि बाद मे सैमसंग और ऐमज़ान विडिओ प्लेटफॉर्म ने HDR 10+ को जन्म दिया। यह दोनों ही तकनीक दिखाई गई तस्वीरों को और ज्यादा सटीक बनाने के साथ वास्तविक बनाती है। इन दोनों तकनीक मे मात्र थोडासा फरक नजर आता है। HDR 10 मानक वीडियो स्ट्रीम करने में स्टैटिक मेटाडेटा भेजता है, जो कि चित्र को वास्तविक बनाने के लिए आवश्यक रंग कैलीब्रैशन सेटिंग्स पर जानकारी इनकोडेड करता है।

जबकि HDR 10+ थोडे अलग तरीके से काम करता है। यह डायनामिक मेटाडेटा भेजता है, जो टीवी के रंग और चमक के स्तर को फ्रेम-दर-फ्रेम सेट करने की अनुमति देता है। यह चित्र को वास्तविक बनाता है। HDR 10 यह 1000 nits तक ब्राइटनेस पैदा करने मे सक्षम है, जबकि HDR 10+ 4000 nits तक की ब्राइटनेस सपोर्ट करता है। इसके अलावा, दोनों मानक 10 bit रंग की गहराई को सपोर्ट करते हैं। HDR 10 और HDR 10+ दोनों भी आजकल लोकप्रिय मानक बन गए हैं, जो मिड और हाई एंड टीवी के साथ आते है।

Dolby Vision डिस्प्ले क्या होता है

Dolby Vision डिस्प्ले तकनीक क्या है

HDR तकनीक के बाद Dolby Vision का जन्म होता है। Dolby Vision यह तकनीक Dolby Laboratories ने लॉन्च की थी। उच्चतम कीमत के कई 4K और 8K टीवी इस तकनीक के साथ आते थे, लेकिन अभी मिड रेंज की टीवी सेट मे भी यह तकनीक आम होती जा रही है। HDR तकनीक की तरह Dolby Vision तकनीक भी गतिशील मेटाडेटा को टीवी को भेजता है। यह 12-bit Depth को सपोर्ट करता है। इसके अलावा, डॉल्बी विजन 10,000 nits तक की ब्राइटनेस दिखाने मे सक्षम है। हालांकि, ऐसे बहुत कम टीवी हैं जो 10,000 nits की ब्राइटनेस को सपोर्ट करते हैं। Dolby Vision एक शक्तिशाली सिनेमा तकनीक है जो धीरे-धीरे महंगे से आम टीवी में लागू होती जा रही है।

यह भी पढे:

Related Posts

error: Content is protected !!