Menu Close

Patent क्या है और पेटेंट क्यों & किसे दिया जाता है

‘पेटेंट’ शब्द लैटिन शब्द Lilterae Patents से आया है। इस लिल्टेरा पेटेंट का शाब्दिक अर्थ खुला पत्र होता है। पुराने समय में, शासकों या सरकारों द्वारा विशेष अधिकार पत्रों के माध्यम से दिया जाता था। ये आधिकारिक दस्तावेज थे और चूंकि ये जनता को दिए जाते थे, इसलिए ये हमेशा ‘खुले’ रहते थे। इस लेख में हम, Patent क्या है और पेटेंट क्यों & किसे दिया जाता है इसे संक्षेप में जानेंगे।

बौद्धिक संपदा अधिकार में से सबसे महत्वपूर्ण पेटेंट हैं। एक पेटेंटधारी के पास पेटेंट का उल्लंघन करने वाली किसी विधि या उत्पाद के निर्माण को रोकने वाला न्यायालयीन अधिकार होता है। बहुत से लोग कहते हैं कि पेटेंट तकनीक को आगे बढ़ाते हैं, लेकिन कई लोग यह भी कहते हैं कि पेटेंट इस युग में प्रौद्योगिकी की प्रगति में बाधक हैं। इसलिए जरूरी है कि हम पेटेंट को समझें और देखें कि यह हमारे देश की प्रगति में बाधक नहीं है।

Patent क्या है और पेटेंट क्यों & किसे दिया जाता है

पेटेंट (Patent) क्या है

सरकारी व्याख्या अनुसार, ” पेटेंट सरकार द्वारा पेटेन्ट का आवेदन करने वालों को उसकी सहमति के बिना पेटेंट कराए गए उत्पाद बनाने, उपयोग करने, बेचने, आयात करने अथवा उन प्रयोजनों के लिए उत्पाद के उत्पादन की प्रक्रिया का उपयोग करने से अन्य व्यक्तियों को रोकने के लिए आविष्कार की पूरी जानकारी देकर एक सीमित समय अवधि के लिए एक आविष्कार हेतु दिए जाने वाला एक सांविधिक अधिकार है।”

पेटेंट या एकस्व किसी उत्पाद या आविष्कार को बनाने, उपयोग करने या बेचने वाला एकमात्र व्यक्ति होने का आधिकारिक अधिकार या वह वो दस्तावेज़ होता जो यह दर्शाता है कि यह आपका अधिकार है। पेटेंट या एकस्व किसी देश द्वारा किसी अन्वेषक या उसके द्वारा नामित व्यक्ति को अपने शोध को सार्वजनिक करने के बदले में दिए गए अनन्य अधिकारों का एक समूह है। यह एक निश्चित अवधि के लिए दिया जाता है। पेटेंट देने की प्रक्रिया, पेटेंटधारी द्वारा पूरी की जाने वाली शर्तें और उक्त अधिकारों का दायरा हर देश में अलग-अलग होता है।

पेटेंट कानून के तहत, पेटेंट धारक के पास निर्दिष्ट वर्षों के लिए उत्पादन, बिक्री और उपयोग के संबंध में एक निश्चित एकमात्र अधिकार है: कानूनी तौर पर, एक पेटेंट एक आविष्कार का उपयोग या बेचने का अधिकार प्रदान नहीं करता है। किया जा सकता है, लेकिन यह दूसरों को ऐसा करने से रोकता है। एक व्यक्ति या कंपनी पेटेंट के उल्लंघन का दोषी होगा यदि वह इसका उपयोग करता है, यदि वह इसे अपने उपयोग के लिए चिह्नित करता है; यदि वह एक भाग खरीद कर दूसरे में मिला देता है, तो वह भंग हो जाता है।

पेटेंट (Patent) क्यों दिया जाता है

पेटेंट आविष्कार का सटीक और प्रत्यक्ष ज्ञान होने के एवज में राज्य द्वारा एक निश्चित अवधि के लिए दिया जाता हैं। इससे राज्य (सरकार) को नए आविष्कार की जानकारी मिलती है और पेटेंट धारक को एक निश्चित अवधि के लिए अधिकार मिल जाता है। साथ में वह अपने शोध एवं संशोधन का मूल्य इस पेटेंट के द्वारा सुरक्षित करता है।

पेटेंट (Patent) किसे दिया जाता है

आविष्कारों के लिए अविष्कारकर्ता को पेटेंट दिया जाता है। ‘आविष्कार’ का अर्थ एक ऐसी प्रक्रिया या उत्पाद है जो औद्योगिक अनुप्रयोग में सक्षम है। आविष्कार नया और उपयोगी होना चाहिए और यह उस समय की तकनीक के ज्ञान में अगला कदम होना चाहिए। यह आविष्कार उस कला में कुशल व्यक्ति के लिए भी स्पष्ट नहीं होना चाहिए।

आविष्कार को भारत के पेटेंट अधिनियम की धारा 3 के आलोक में भी देखा जाना चाहिए। यह खंड परिभाषित करता है कि क्या अपरिवर्तनीय नहीं होते हैं। कुछ भी आविष्कार नहीं कहा जा सकता जब तक कि वह नया न हो। यदि किसी प्रकाशित दस्तावेज़ से किसी चीज़ की भविष्यवाणी की जा सकती थी या पेटेंट आवेदन दाखिल करने से पहले दुनिया में कहीं और इस्तेमाल किया जा सकता था, तो इसे नया नहीं कहा जा सकता है।

यदि कोई वस्तु सार्वजनिक क्षेत्र में है या पहले की कला के एक भाग के रूप में उपलब्ध है, तो उसे भी आविष्कार नहीं कहा जा सकता है। भारत में परमाणु ऊर्जा से संबंधित आविष्कारों का पेटेंट नहीं कराया जा सकता है। हम उम्मीद करते है की आपको Patent क्या है और पेटेंट क्यों & किसे दिया जाता है इस संकल्पना को जान गए होंगे।

यह भी पढ़े:

Related Posts

error: Content is protected !!