Menu Close

वर्मी कम्पोस्ट क्या है

Vermicompost में दुर्गंध नहीं होती है, मक्खियाँ और मच्छर नहीं पैदा होते हैं और पर्यावरण को प्रदूषित नहीं करते हैं। तापमान को नियंत्रित करने से बैक्टीरिया सक्रिय और सक्रिय रहते हैं। इस लेख में हम वर्मी कम्पोस्ट क्या होता है जानेंगे।

वर्मी कम्पोस्ट क्या है

वर्मी कम्पोस्ट क्या है

वर्मीकम्पोस्ट पोषक तत्वों से भरपूर एक उत्कृष्ट जैविक खाद है। यह केंचुए आदि जैसे कीड़ों द्वारा वनस्पति और खाद्य अपशिष्ट आदि को विघटित करके बनाया जाता है। इस प्रक्रिया को वर्मीकम्पोस्टिंग कहा जाता है, जबकि इस उद्देश्य के लिए कृमियों के पालन को वर्मीकल्चर कहा जाता है।

इस खाद से बदबू नहीं आती और मक्खी, मच्छर नहीं पनपते जिससे पर्यावरण स्वस्थ रहता है। यह सूक्ष्म पोषक तत्वों के साथ नाइट्रोजन 2 से 3 प्रतिशत, फास्फोरस 1 से 2 प्रतिशत, पोटाश 1 से 2 प्रतिशत प्रदान करता है। प्रक्रिया स्थापित होने के बाद इस खाद को तैयार करने में एक से डेढ़ महीने का समय लगता है। प्रति माह एक टन खाद प्राप्त करने के लिए 100 वर्ग फुट आकार की नर्सरी बेड पर्याप्त है। केवल 2 टन प्रति हेक्टेयर वर्मीकम्पोस्ट की आवश्यकता होती है।

वर्मीकम्पोस्ट में पानी में घुलनशील पोषक तत्व होते हैं और यह एक उत्कृष्ट, पोषक तत्वों से भरपूर जैविक खाद और मृदा कंडीशनर है। इसका उपयोग बागवानी और टिकाऊ, जैविक खेती में किया जाता है। प्रक्रिया का एक रूप वर्मीफिल्ट्रेशन है जिसका उपयोग अपशिष्ट जल से या सीधे फ्लश शौचालयों के काले पानी से कार्बनिक पदार्थ, रोगजनकों और ऑक्सीजन की मांग को दूर करने के लिए किया जाता है। डेढ़ से दो महीने में वर्मी कम्पोस्ट तैयार हो जाता है। इसमें 2.5 से 3% नाइट्रोजन, 1.5 से 2% सल्फर और 1.5 से 2% पोटाश होता है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!