मेन्यू बंद करे

वैभव लक्ष्मी व्रत के 10 फायदे

माता लक्ष्मी के आठ रूपों में से एक को वैभव लक्ष्मी कहा जाता है। हिंदू धर्म में, माँ वैभव लक्ष्मी व्रत धन, वैभव, सुख और समृद्धि प्राप्त करने के लिए मनाया जाता है। ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति शुक्रवार का व्रत पूरी श्रद्धा और विश्वास के साथ करता है। देवी मां की कृपा उनके मन की सभी इच्छाओं को पूरा करने में मदद करती है। देवी लक्ष्मी के इस व्रत को कोई भी पुरुष या महिला कर सकते हैं। इस आर्टिकल में हम, वैभव लक्ष्मी व्रत रखने के फायदे क्या है जानेंगे।

वैभव लक्ष्मी व्रत के 10 फायदे
Vaibhav Laxmi Vrat Ke Fayde

वैभव लक्ष्मी व्रत पूजा कैसे करें

वैभव लक्ष्मी व्रत के दिन यानि शुक्रवार के दिन ब्रह्ममुहूर्त में स्नान कर स्वच्छ वस्त्र धारण करें। एक चौकी पर लाल कपड़ा बिछाकर माता लक्ष्मी की मूर्ति रखें। मां को फूल चढ़ाकर व्रत का संकल्प लें। इसके बाद मां लक्ष्मी को लाल या सफेद चंदन का तिलक लगाएं। इसके बाद माता वैभव लक्ष्मी को अक्षत, फल, कमलगट्टा का भोग लगाएं। फिर घी का दीपक और धूप जलाकर वैभव लक्ष्मी माता की कथा का पूरे मन से पाठ करें। अगर आपके घर में और भी सदस्य हैं तो उन्हें पूजा में शामिल करें। पूजा-पाठ पूरा करने के बाद देवी की आरती करें और सभी में प्रसाद बांटें।

व्रत के दिन बुरे विचार, ईर्ष्या-घृणा, लड़ाई-झगड़े की भावना न रखें, इससे आपका व्रत टूट सकता है और देवी लक्ष्मी भी आपसे नाराज हो सकती हैं। व्रत के दिन ब्रह्ममुहूर्त में उठकर स्नान करना आवश्यक है। पूरे दिन उपवास करके एक बार ही भोजन करें। तन और मन को पवित्र रखें, बुरे विचार न आने दें। किसी का दिल न दुखाएं, कोमल शब्दों का ही प्रयोग करें।

वैभव लक्ष्मी के व्रत में क्या नहीं खाना चाहिए

वैभव लक्ष्मी के व्रत में सम्पूर्ण रूप से शाकाहारी और सात्विक भोजन करना चाहिए और मांसाहारी भोजन बिल्कुल नहीं करना चाहिए। शाकाहारी में आप साबूदाने की खिचड़ी, एवं पुलाव, कुटू की सब्जी, कुटू के पराठे, सिंघाड़े की नमकीन बर्फी, आलू, खीरे और मूंगफली का सलाद, कच्चे केले की टिकी आदि खा सकते हैं। इस दिन अपने मन में किसी भी तरह के बुरे या नकारात्मक विचार न लाएं। अपने मन में ईर्ष्या या घृणा की भावना के बिना शुद्ध हृदय से व्रत का पालन करें।

वैभव लक्ष्मी व्रत के फायदे

  1. वैभव लक्ष्मी व्रत रखने से मन शांत और स्थिर बना रहता है। आध्यात्मिक और सकारात्मक विचारों को यह व्रत प्रोत्साहित करता है।
  2. यह व्रत आपके अंदर सकारात्मक सोच लाता है और आपको उत्साही बनाता है।
  3. इस व्रत को करने से भटका हुआ व्यक्ति मार्ग पर आता है और उसके सभी काम अपने आप होने शुरू हो जाते हैं।
  4. जो लोग आर्थिक तंगी से गुजर रहे हैं, उन्हें देवी भी सही राह दिखाती हैं और उन्हे धन लाभ देती है।
  5. गरीबी और आर्थिक संकट को दूर करने में सहायक होता है ये व्रत।
  6. घर में मौजूद नकारात्मक ऊर्जा दूर होने से रुके हुए काम अपने आप होने लगते हैं।
  7. परिवार में चल रहे विवाद समाप्त होते हैं और घर में खुशहाल माहौल बनने लगता है।
  8. बुरी शक्तियां घर से दूर रहती हैं, जिनसे आपकी समस्याएं दूर होने शुरू हो जाती हैं।
  9. लंबे समय से चल रहा घरेलू कलह खत्म होने वाला है और पारिवारिक स्थिति मजबूत होने लगती है।
  10. आपके रुके हुए धन संबंधित काम में तेजी आ जाती है और आपको धनलाभ होता है।

यह भी पढ़ें-

Related Posts