Menu Close

उड़ने वाला सांप कौन सा होता है? जानें, सच्चाई

हम अक्सर उड़ने वाले सांपों की कई कहानिया सुनी है जिसमें साप उड़ने की क्षमता रखता है, ऐसा बताया जाता है। इसके साथ भारत में कई जगह ऐसे है जहा उड़ने वाले साप पाए जाते है, ऐसा कहा जाता है। लेकिन सामान्यतः हमने किसी सांप को पंख लगे हुए नहीं देखा है या हवा में उड़ते हुए भी नहीं देखा है; तो यह सवाल काफी दिलचस्प बन जाता है की वाकई में क्या सांप उड़ सकता है और उड़ने वाला सांप कौन सा होता है इसे हम इस लेख में जानेंगे।

उड़ने वाला सांप कौन सा होता है

उड़ने वाला सांप में मुख्य तौर पर गोल्डन ट्री सांप, पैराडाइज ट्री सांप और पैराडाइज ट्री सांप शामिल है। यह सांप वास्तव में, पक्षियों की तरह नहीं उड़ सकता हैं, लेकिन एक पेड़ की डालों से दूसरे पेड़ की डालो पर यह कूद सकता हैं। यह सांप सामान्य तौर पर शिकार की तलाश में या खतरे से बचने के लिए कूदता है। कुछ लोग इस तरह से कूदने को ही उड़ना बताते है, जो की एक भ्रामक कल्पना है।

इस तरह से उड़ने के लिए यह सांप पहले, एक ऊंची डाल पर चढ़ता है, फिर डाल के खुले सिरे की ओर; अपने शरीर को “S” आकार में मोड़ता है, फिर अपने शरीर को आगे की ओर धकेलता है। एक बार डाल से गिरने के बाद यह सांप तुरंत अपने शरीर को चपटा कर अपनी पसलियों को फैलाता है, इसका उद्देश्य इसके गिरने की गति को धीमा करना है। ग्लाइडिंग करते समय, यह सांप अपने सिर और पूंछ को दाईं ओर और बाईं ओर अपने शरीर को लक्ष्य पेड़ की शाखा तक निर्देशित करने के लिए ले जाता है। 

जब उतरने वाला होता है, तो यह सांप लैंडिंग को आसान बनाने के लिए अपने शरीर के पिछले हिस्से को नीचे की ओर ले जाता है, फिर पहले की तरह शरीर और पसलियों के खिंचाव को तुरंत बहाल करता है। जैसे ही यह एक डाल पर उतरता है, यह सांप तुरंत अपने शरीर को फिर से सामान्य कर लेता है, ताकि यह सांप हमेशा की तरह पेड़ के चारों ओर घूम सके।

उड़ने वाला सांप की प्रजातियां

उड़ने वाले साँप की पाँच मान्यता प्राप्त प्रजातियाँ हैं, जो पश्चिमी भारत से लेकर इंडोनेशियाई द्वीपसमूह तक पाई जाती हैं। जंगली में उनके व्यवहार का ज्ञान सीमित है, लेकिन उन्हें अत्यधिक वृक्षारोपण माना जाता है, शायद ही कभी छत से उतरते हैं। सबसे छोटी प्रजाति लगभग 2 फीट (0.6 मीटर) लंबाई तक पहुंचती है और सबसे बड़ी 4 फीट (1.2 मीटर) तक बढ़ती है। उड़ने वाले सांप की मुख्य 5 प्रजातीया है, जो इस प्रकार है:

गोल्डन ट्री स्नेक

उड़ने वाला गोल्डन ट्री सांप

यह उड़ने वाले सांप की सबसे बड़ी प्रजाति है, जिसकी लंबाई चार फीट तक होती है। हालांकि इसे गोल्डन ट्री स्नेक कहा जाता है, लेकिन इसके अन्य रंग भी हैं; उदाहरण के लिए, कुछ में शुद्ध पीले रंग के बजाय चूने के हरे रंग की ओर झुकते हैं, जबकि भारत में, इसमें नारंगी से लाल निशान और पृष्ठीय पर छोटी काली पट्टियाँ होती हैं।

पैराडाइज ट्री स्नेक

उड़ने वाला पैराडाइज ट्री सांप

इस पैराडाइज सांप को अंग्रेजी में उड़ने वाले सांप की यह प्रजाति तीन फीट तक की लंबाई तक पहुंचती है और यूरोप में पाई जाती है। उनके शरीर और हरे रंग के पट्टे होते हैं। उड़ने वाले सांपों इस प्रजाति में उनकी ग्लाइडिंग क्षमता को सर्वश्रेष्ठ में से एक माना जाता है।

ट्विन-बार्ड ट्री स्नेक या बैंडेड फ्लाइंग स्नेक

यह उड़ने वाली सबसे छोटी प्रजाति है, जिसकी लंबाई दो फीट तक होती है। इसका आधार रंग काला या गहरा भूरा है, और पूरे शरीर को काले पट्टे के साथ मोटी लाल और पतली पीले रंग से ढका हुआ है। यह निस्संदेह अपनी सीमा के भीतर सबसे दुर्लभ उड़ने वाले सांपों में से एक है।

मोलुकन फ्लाइंग स्नेक

यह सांप इंडोनेशिया में अंबोन और सुलावेसी में पाया जाता है, लेकिन इसपर सार्वजनिक तौर पर ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है।

श्रीलंकाई उड़ने वाला सांप

यह सांप श्रीलंका में पाया जाता है, लेकिन इसपर सार्वजनिक तौर पर ज्यादा जानकारी उपलब्ध नहीं है।

इस लेख में हमने, डोकलाम प्रकरण क्या है को जाना। इस तरह के और बाकी ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए आप नीचे दिए गए लेख पढे:

Related Posts