Menu Close

Turmeric Benefits in Hindi: हल्दी के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण

Turmeric Benefits in Hindiहल्दी के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण : हल्दी का भारत मे प्रयोग एक सामान्य बात है। दाल से लेकर शादी ब्याह की रस्मों तक हल्दी का इस्तेमाल किया जाता है। भारतीय लोगों की आयुर्वेद के प्रति समर्पण को हल्दी भलीभाँति दिखता है। यह हल्दी अपने पौधे के जड़ के गाँठो से मिलती है। यह ५-६ फुट तक का बढ़ने वाला पौधा है। हल्दी का महत्व आयुर्वेद में प्राचीन काल से ही उल्लेखित है। इसे आज भी हम जख्मों पर घावों को ठीक करने के लिए प्रयोग मे लाते है। हालांकि, इसका सबसे ज्यादा इस्तेमाल भारत के हर घर के रसोई मे होता है। हल्दी की छाप लोगों पर इस कदर पड़ी है की हर हर्बल प्रॉडक्ट मे हल्दी का इस्तेमाल बढ़ रहा है। इसमे सबसे ज्यादा बड़ा नाम उन सौन्दर्य प्रसाधनों का है, जो त्वचा को निखारने का वादा करती है। लैटिन भाषा मे इसे करकुमा लौंगा (Curcuma longa) तथा अंग्रेजी मे हम सभी इसे टरमरि‍क (Turmeric) नाम से जानते है।

हल्दी के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण : Turmeric Benefits in Hindi

हल्दी के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण

  • हमारी रसोई की शान होने के साथ हल्दी कई औषधीय गुणों से भरपूर है। आयुर्वेद में तो हल्‍दी को बेहद ही महत्वपूर्ण माना गया है। क्योंकि हल्दी अनेक बीमारियों के इलाज़ में काम आती है।
  • इसके अलावा हल्दी सौन्दर्यवर्धक भी मानी जाती है और प्रचीनकाल से ही इसका उपयोग रूप को निखारने के लिए किया जाता रहा है। वर्तमान समय में हल्दी का प्रयोग उबटन से लेकर विभिन्न तरह की क्रीमों में भी किया जा है।
  • हल्दी (Haldi in hindi) और करक्यूमिन का विभिन्न मानव रोगों और विभिन्न शारीरिक इस्तेमाल के लिए फायदेमंद माना गया है। इसलिए बहोत सी औषधि कंपनीया इसपर अनेक प्रकार के औषधि तथा सौन्दर्य प्रसाधने बनाने मे लगी हुई है।
हल्दी के फायदे, उपयोग और औषधीय गुण : Turmeric Benefits in Hindi
  • हल्दी की तासीर गरम होने के कारण इसका प्रयोग सर्दी जुकाम मे असरदार साबित होता है। हमारे भारत मे इस अवस्था मे हल्दी का सेवन करना आम बात है।
  • सरसों का तेल, हल्दी मिलाकर सुबह-शाम मसूड़ों पर लगाकर अच्छी प्रकार मालिश करने तथा बाद में गर्म पानी से कुल्ले करने पर मसूड़ों  के सब प्रकार के रोग दूर हो जाते हैं।
  • गले मे खराश होने पर भी हल्दी काम आती है। इसके लिए आपको अजमोदा, हल्दी, यवक्षार और चित्रक इन सबके 2-5 ग्राम चूर्ण को एक चम्मच शहद के साथ सेवन करना होगा।
  • 10 ग्राम हल्दी (Haldi in hindi) को 250 ml पानी में उबालकर इसमें गुड़ मिलाकर पिया जाए तो पेट दर्द की समस्या दूर होती है।
  • सूखी और बलगम दोनों खांसी मे हल्दी का प्रयोग उत्तम माना जाता है।

इसे भी पढ़े:

Related Posts

error: Content is protected !!