Menu Close

ठाकुर रोशन सिंह का जीवन परिचय – काकोरी कांड

फांसी से पहले की पहली रात को ठाकुर साहब कुछ घंटे सोए और देर रात से ही भगवान की पूजा करते रहे। प्रात:काल को स्नान किया, कुछ समय गीता पाठ में व्यतीत करके और फिर पहरेदार से कहा – चलो। वह हैरानी से देखता रह गया, यह आदमी है या भगवान। ठाकुर साहब ने अपनी कालकोठरी को प्रणाम किया और गीता को हाथ में लेकर फांसी घर की ओर चल पड़े। अगर आप नहीं जानते की ठाकुर रोशन सिंह कौन थे और Thakur Roshan Singh की क्या कहानी है? तो हम इसके बारे में बताने जा रहे है।

ठाकुर रोशन सिंह कौन थे - Thakur Roshan Singh

ठाकुर रोशन सिंह कौन थे

ठाकुर रोशन सिंह भारत के स्वतंत्रता संग्राम के क्रांतिकारी थे। असहयोग आंदोलन के दौरान उत्तर प्रदेश के बरेली जिले में सजा काट कर शांतिपूर्ण जीवन व्यतीत करने के लिए घर लौटते ही वे हिन्दुस्तान रिपब्लिकन एसोसिएशन में शामिल हो गए। क्रांतिकारी ठाकुर रोशन सिंह का जन्म 22 जनवरी 1892 को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के फतेहगंज से 10 किमी दूर नबाडा गांव में हुआ था। आपकी माता का नाम कौशल्या देवी जी और पिता का नाम ठाकुर जंगी सिंह जी था। पूरा परिवार आर्य समाज से प्रेरित था।

ठाकुर रोशन सिंह पांच भाई-बहनों में सबसे बड़े थे। आपने उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर और बरेली जिलों के ग्रामीण क्षेत्रों में असहयोग आंदोलन में अद्भुत योगदान दिया। इतना ही नहीं बरेली में हुई फायरिंग की घटना में एक पुलिसकर्मी की राइफल छीन कर उसने जमकर फायरिंग शुरू कर दी, जिससे हमलावर पुलिस को पीछे की ओर भागना पड़ा। मुकदमा चलता रहा और श्री ठाकुर रोशन सिंह को सेंट्रल जेल, बरेली में दो साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई गई थी।

Thakur Roshan Singh काकोरी कांड

क्रांतिकारियों को जब अपने कार्य करने के लिए धन की कमी हुई तब ट्रेन से ब्रिटिश सरकार का सरकारी खजाना लूटने की योजना बनाई, जो काकोरी कांड के नाम से जानी जाती है। हालांकि, ठाकुर साहब ने काकोरी कांड में प्रत्यक्ष रूप से भाग नहीं लिया था, फिर भी आपके नजदीकी रिश्तों को देखते हुए काकोरी कांड के मुख्य सूत्रधार पंडित राम प्रसाद बिस्मिल और उनके सहयोगी श्री अशफाक उल्ला खान के साथ 19 दिसंबर 1927 को फांसी दे दी गई थी। ये तीनों क्रांतिकारी उत्तर प्रदेश के शहीदगढ़ जिले के शाहजहांपुर के निवासी थे। इनमें ठाकुर साहब सबसे बड़े थे।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!