मेन्यू बंद करे

श्रीनिवास रामानुजन कौन हैं? जानें, Srinivasa Ramanujan की पूरी कहानी

रामानुजन ने जब अपना शोध कार्य प्रोफेसर हार्डी के पास भेजा तो उन्हें भी पहले तो पूरी तरह समझ में नहीं आया। जब उन्होंने अपने मित्र गणितज्ञों से परामर्श किया, तो वे इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि रामानुजन गणित के क्षेत्र में एक दुर्लभ व्यक्तित्व थे और उन्हें अपने द्वारा किए गए कार्यों को बेहतर ढंग से समझने और इसमें आगे शोध करने के लिए इंग्लैंड आना चाहिए। इसलिए उन्होंने रामानुजन को कैम्ब्रिज आने के लिए आमंत्रित किया। अगर आप नहीं जानते की, श्रीनिवास रामानुजन कौन हैं और Srinivasa Ramanujan के कार्य और खोज की क्या कहानी है। तो हम इस बारे में बताने जा रहे है।

श्रीनिवास रामानुजन कौन हैं - Srinivasa Ramanujan

श्रीनिवास रामानुजन कौन हैं

श्रीनिवास रामानुजन एक महान भारतीय गणितज्ञ हैं। उन्हें आधुनिक समय के महानतम गणितीय विचारकों में गिना जाता है। उन्होंने गणित में कोई विशेष प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया, फिर भी उन्होंने विश्लेषण और संख्या सिद्धांत के क्षेत्रों में व्यापक योगदान दिया। उन्होंने अपनी प्रतिभा और समर्पण से न केवल गणित के क्षेत्र में अद्भुत आविष्कार किए बल्कि भारत को अतुलनीय गौरव भी दिलाया।

वे बचपन से ही असाधारण प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने स्वयं गणित सीखा और अपने जीवनकाल में गणित के 3,884 प्रमेयों का संकलन किया। इनमें से अधिकतर प्रमेय सही साबित हुए हैं। उन्होंने अपने गणितीय अंतर्ज्ञान और बीजगणितीय गणना की अद्वितीय प्रतिभा के बल पर कई मूल और अपरंपरागत परिणाम प्राप्त किए, जिसने आज तक अनुसंधान को प्रेरित किया, हालांकि उनकी कुछ खोजों को अभी तक गणित की मुख्यधारा में नहीं अपनाया गया है।

Srinivasa Ramanujan की कहानी

श्रीनिवास रामानुजन का जन्म 22 दिसम्बर 1887 को इरोड, तमिल नाडु में हुआ। वर्ष 1908 में उनके माता-पिता ने उनका विवाह जानकी नाम की लड़की से कर दिया। शादी के बाद सब कुछ भूलकर गणित में डूबना उनके लिए संभव नहीं था। इसलिए वह नौकरी की तलाश में मद्रास आ गया। बारहवीं की परीक्षा पास नहीं करने के कारण उन्हें नौकरी नहीं मिल पाई और उनकी तबीयत भी काफी खराब हो गई। अब डॉक्टर की सलाह पर उन्हें अपने घर कुंभकोणम लौटना पड़ा।

बीमारी से उबरने के बाद वे वापस मद्रास आ गए और फिर से नौकरी की तलाश करने लगे। वह जब भी किसी से मिलता था तो उसे अपना एक रजिस्टर दिखाता था। इस रजिस्टर में उनके द्वारा गणित में किए गए सभी कार्य होते थे। वहीं किसी के कहने पर Srinivasa Ramanujan ने वहां के डिप्टी कलेक्टर श्री वी. रामास्वामी अय्यर से मुलाकात की। अय्यर गणित के बड़े विद्वान थे। इधर श्री अय्यर ने रामानुजन की प्रतिभा को पहचाना और जिलाधिकारी श्री रामचंद्र राव से पूछकर उनके लिए 25 रुपये मासिक छात्रवृत्ति की व्यवस्था की।

मद्रास में एक वर्ष तक रहने के दौरान श्रीनिवास रामानुजन ने इस पेशे पर अपना पहला पेपर प्रकाशित किया। शोध पत्र का शीर्षक था “बर्नौली नंबर्स के कुछ गुण” और यह पेपर जर्नल ऑफ इंडियन मैथमैटिकल सोसाइटी में प्रकाशित हुआ था। यहां एक साल पूरा करने के बाद उन्होंने मद्रास पोर्ट ट्रस्ट में क्लर्क के रूप में काम किया।

सौभाग्य से, इस नौकरी में काम का बोझ ज्यादा नहीं था और यहां उन्हें अपने गणित के लिए पर्याप्त समय मिला। यहां रामानुजन पूरी रात जागकर गणित के नए-नए सूत्र लिखते थे और फिर कुछ देर विश्राम करके कार्यालय के लिए निकल जाते थे। रामानुजन स्लेट पर गणितीय शोध लिखते थे। और बाद में रजिस्टर में लिखता था। रात में Srinivasa Ramanujan की स्लेट और लाठियों की आवाज ने परिवार के अन्य सदस्यों की नींद उड़ा दी।

श्रीनिवास रामानुजन् की खोज

रामानुजन ने अपने 32 साल के छोटे जीवन काल में लगभग 3,900 परिणाम संकलित किए हैं। उनकी सबसे महत्वपूर्ण कृतियों में पाई की अनंत श्रृंखला शामिल है। उन्होंने पाई के अंकों की गणना के लिए कई सूत्र प्रदान किए जो पारंपरिक तरीकों से अलग थे। उन्होंने कई चुनौतीपूर्ण गणितीय समस्याओं को हल करने के लिए नए विचार पेश किए, जिन्होंने गेम थ्योरी के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। गेम थ्योरी में उनका योगदान विशुद्ध रूप से अंतर्ज्ञान पर आधारित है और अभी भी गणित के क्षेत्र में सम्मान के साथ देखा जाता है।

वर्ष 1976 में, जॉर्ज एंड्रयूज ने ट्रिनिटी कॉलेज के पुस्तकालय में रामानुजन की एक नोटबुक की खोज की। इस नोटबुक को बाद में एक पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया गया था। रामानुजन का गणित में सबसे बड़ी खोज रामानुजन संख्या यानी 1729 माना जाता है। यह सबसे छोटी संख्या है जिसे दो अलग-अलग तरीकों से दो घनों के योग के रूप में लिखा जा सकता है।

श्रीनिवास रामानुजन के कार्य

रामानुजन और उनके द्वारा किए गए अधिकांश कार्य आज भी वैज्ञानिकों के लिए एक अबूझ पहेली बने हुए हैं। एक बहुत ही सामान्य परिवार में जन्म लेकर पूरे विश्व को चकित करने के इस सफर में उन्होंने भारत को अभूतपूर्व गौरव दिलाया है।

इनका पुराना रजिस्टर जिस पर वे अपने प्रमेय और सूत्र लिखते थे, 1976 में ट्रिनिटी कॉलेज के पुस्तकालय में अचानक मिल गया। लगभग सौ पन्नों का यह रजिस्टर आज भी वैज्ञानिकों के लिए पहेली बना हुआ है। इस रजिस्टर को बाद में रामानुजन की नोट बुक के नाम से जाना गया। इसे टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च, मुंबई द्वारा भी प्रकाशित किया गया है।

रामानुजन के शोध की तरह उनका गणित में काम करने का अंदाज भी अजीब था। वह कभी-कभी आधी रात को उठकर स्लेट पर गणितीय सूत्र लिखता और फिर सो जाता। इस तरह मानो वह सपने में भी गणित के प्रश्न हल कर रहा हो। Srinivasa Ramanujan के नाम के साथ-साथ उनकी कुलदेवी का भी नाम लिया जाता है। उन्होंने हमेशा शून्य और अनंत को ध्यान में रखा और इसके अंतर्संबंध को समझाने के लिए गणितीय सूत्रों का इस्तेमाल किया।

रामानुजन के काम की एक विशेषता थी। पहले वे गणित का कोई नया सूत्र या प्रमेय पहले लिखते थे लेकिन उसके प्रमाण पर अधिक ध्यान नहीं देते थे। इस बारे में पूछे जाने पर वे कहते थे कि ये सूत्र उन्हें नामगिरी देवी की कृपा से प्राप्त हुए हैं। रामानुजन का अध्यात्म में इतना गहरा विश्वास था कि वे गणित के क्षेत्र में किए गए किसी भी कार्य को अध्यात्म का अंग मानते थे।

उस समय रामानुजन ने अपने संख्या सिद्धांत के कुछ सूत्र प्रोफेसर सेशु अय्यर को दिखाए, फिर उनका ध्यान लंदन के ही प्रोफेसर हार्डी की ओर गया। प्रोफेसर हार्डी उस समय के विश्व के प्रसिद्ध गणितज्ञों में से एक थे। शुरू में जब रामानुजन ने अपना शोध कार्य प्रोफेसर हार्डी को पत्रों के माध्यम से भेजा, तो उन्हें भी पहले तो पूरी तरह समझ में नहीं आया। जब उन्होंने अपने मित्र गणितज्ञों से परामर्श किया, तो वे इस निष्कर्ष पर पहुंचे कि रामानुजन गणित के क्षेत्र में एक दुर्लभ व्यक्तित्व थे और उन्हें अपने द्वारा किए गए कार्यों को बेहतर ढंग से समझने और इसमें आगे शोध करने के लिए इंग्लैंड आना चाहिए। इसलिए उन्होंने रामानुजन को कैम्ब्रिज आने के लिए आमंत्रित किया।

Srinivasa Ramanujan की मृत्यु

प्रोफेसर हार्डी के प्रयासों से रामानुजन को कैम्ब्रिज जाने के लिए आर्थिक मदद मिली। रामानुजन ने इंग्लैंड जाने से पहले अपनी नोटबुक में गणित के 3000 से अधिक नए सूत्र लिखे थे। इंग्लैंड की इस यात्रा से उनके जीवन में क्रांतिकारी परिवर्तन आया। उन्होंने प्रोफेसर हार्डी के सहयोग से उच्च गुणवत्ता के पत्र प्रकाशित किए। अपने विशेष शोध के कारण उन्हें कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय द्वारा बी.ए. उपाधि भी प्राप्त की। लेकिन वहां का माहौल और रहन-सहन उनके अनुकूल नहीं था और उनका स्वास्थ्य बिगड़ने लगा। डॉक्टरों ने इसे क्षय रोग बताया। उस समय क्षयरोग की कोई दवा नहीं थी और रोगी को सेनेटोरियम में रहना पड़ता था।

इसके बाद रामानुजन को रॉयल सोसाइटी का फेलो नामित किया गया। रॉयल सोसाइटी के पूरे इतिहास में उनसे उम्र में छोटा कोई सदस्य कभी नहीं रहा था। रॉयल सोसाइटी की सदस्यता के बाद, वह ट्रिनिटी कॉलेज की फेलोशिप पाने वाले पहले भारतीय भी बने। लेकिन रामानुजन की तबीयत बिगड़ती जा रही थी और आखिरकार उन्हें डॉक्टरों की सलाह पर भारत लौटना पड़ा। भारत आने पर उन्हें मद्रास विश्वविद्यालय में प्रोफेसर की नौकरी मिल गई। भारत लौटने के बाद भी स्वास्थ्य ने उनका साथ नहीं दिया और उनकी हालत गंभीर होती जा रही थी। उनका बिगड़ता स्वास्थ्य सभी के लिए चिंता का विषय बन गया और आखिरकार 26 अप्रैल 1920 को केवल 33 वर्ष की आयु में उनका निधन हो गया।

यह भी पढ़े –

Related Posts