Menu Close

शूटिंग स्टार क्या होता है

कहा जाता है कि जब भी आसमान में कोई टूटता हुआ तारा दिखे तो विश मांगनी चाहिए। तो अगर आप इसे देखने के बाद कोई इच्छा मांगते हैं, तो वह पूरी नहीं हो सकती है। लेकिन फिर भी आपको विश मांगने से पीछे नहीं हटना चाहिए। क्योंकि किसी चीज में विश्वास और आशा रखना गलत नहीं है, हो सकता आपकी Shooting Star को देखते हुए मनोकामना पूरी हो। इस लेख में हम, शूटिंग स्टार क्या होता है जानेंगे।

शूटिंग स्टार क्या होता है

शूटिंग स्टार क्या है

शूटिंग स्टार टूटते हुए तारे को कहा जाता है। आकाश में प्रकाश की एक लकीर सभी को अपनी ओर आकर्षित करती है। कई बच्चे उन्हें देखकर अपनी मनोकामना पूरी करने की प्रार्थना करते हैं। मूल रूप से यह अंतरिक्ष से निकलने वाले छोटे-छोटे कणों/धूल के टुकड़ों के कारण होता है जो पृथ्वी की सतह से 65 से 135 किमी ऊपर जलते हैं। क्योंकि वे ऊपरी वायुमंडल में तेजी से उतरते हैं। पृथ्वी 29 किमी/सेकेंड की गति से सूर्य के चारों ओर घूम रही है और धूल के ये टुकड़े लगभग 40 किमी/सेकेंड पर यात्रा कर रहे हैं, इसलिए जब वे हमारे वायुमंडल में प्रवेश करते हैं, तो उनके पास 30 से 70 किमी/सेकंड की संयुक्त गति होती है।

शूटिंग स्टार क्या है

आमतौर पर उल्कापिंड (Meteorite) से अलग होकर पृथ्वी की ओर आने वाले उल्कापिंड के टुकड़े गिरते हुए तारे की तरह दिखाई देते हैं। कभी ये बिना वातावरण को छुए ही गुजर जाते हैं तो कभी ये आग के गोले की तरह दिखते हैं। इन गोले के पीछे उल्कापिंड और प्रकाश हैं, जिन्हें देखा जा सकता है। इसे एक गिरता हुआ तारा कहा जाता है लेकिन यह वास्तव में तारे नहीं बल्कि उल्का पिंड हैं। यह जुलाई के बाद सबसे अधिक दिखाई देता है। अगस्त के दूसरे सप्ताह में उल्कापिंडों की बारिश तेज हो जाती है।

आकाश में कभी-कभी बड़ी तेजी से एक ओर से दूसरी ओर गति करते हुए या पृथ्वी पर गिरते हुए जो वस्तुएं दिखाई देती हैं उन्हें उल्कापिंड कहते हैं और आम बोलचाल की भाषा में ‘टूटते तारे’ कहलाते हैं। उल्काओं का वह भाग जो वायुमण्डल में जलने से बचकर पृथ्वी पर पहुँचता है, उल्कापिंड कहलाता है। Perseids उल्का पृथ्वी के वायुमंडल में 60 किमी/सेकंड की दर से प्रवेश करती है।

हम इसे आकाश में प्रकाश की एक लकीर के रूप में देखते हैं। उल्का बौछार तब होती है जब हमारी पृथ्वी उल्कापिंडों के समूह से होकर गुजरती है। उल्का वर्षा आमतौर पर उस समय ‘आकाश के क्षेत्र’ के नाम पर होती है, जहां वे उत्पन्न होती हैं।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!