Menu Close

शिलान्यास क्या होता है

टीवी, अखबार या हमारे स्थानिक लोगों के माध्यम से हम शिलान्यास से जुड़ी खबरें सुनते रहते हैं। शिलान्यास के साथ उद्घाटन और लोकार्पण से जुड़ी खबरें भी हम सुनते रहते है। ऐसे में काफी लोग कन्फ्यूज़ हो जाते है और उन्हे नहीं समझ आता की शिलान्यास क्या होता है और उद्घाटन और लोकार्पण से यह कैसे अलग है, तो चलिए जानते है।

शिलान्यास क्या होता है

शिलान्यास क्या होता है

शिलान्यास का मतलब नवीन भवन- निर्माण के समय नींव में पूजना आदि करके शिला का स्थापन करना होता है। शिला + न्यास का अर्थ है किसी चीज की रचना का पहला (नया) पत्थर रखना और यह घटना किसी भी चीज के बनने से पहले होती है। उदाहरण के लिए – भवन आदि बनाने से पहले उसकी नींव पर पत्थर, ईंट आदि रखे जाने की क्रिया मतलब शिलान्यास होता है।

शिलान्यास का अर्थ है किसी भी कार्य की शुरुआत से पहले उसकी नींव रखना (शिला) यानी आधार से शुरू करना। उद्घाटन किसी भी प्रतिष्ठान में काम शुरू करने से पहले किया जा सकता है। उद्घाटन = उद् + घाटन यहां पर ‘उद्’ शब्द लिया गया है उद्भव से जिसका अर्थ है – जन्म होना, जबकि ‘घाटन’ का अर्थ होता है – घटित होना।

लोकार्पण का अर्थ है जनता को कोई सेवा या उससे संबंधित और निर्मित सामग्री आदि की पेशकश करना। लोकार्पण = लोक् + अर्पण, यहाँ पर ‘लोक’ का अर्थ है लोग और ‘अर्पण’ का अर्थ है अर्पित करना यानि किसी ऐसी चीज का बनकर तैयार होना जो जनता के प्रयोग के लिए हो।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!