Menu Close

संतरा पानी पर तैरता है लेकिन छिलका हटाते ही क्यों डूब जाता है? जानें वजह

पानी में क्या तैरेगा और कौन सा डूबेगा, इसके बारे में लोग जवाब भी दें तो इसका कारण नहीं बता पा रहे हैं। दरअसल, पानी में डूबने वाली चीज न केवल उसके वजन से संबंधित होती है, बल्कि उसके घनत्व से भी जुड़ी होती है, इसलिए एक टन लोहे का जहाज पानी में तैरता है लेकिन एक छोटा कंकड़ पानी में डूब जाता है। इस लेख में हम जानेंगे कि संतरा पानी पर तैरता है लेकिन छिलका हटाते ही क्यों डूब जाता है। इसका कारण आपको पता इस लेख चल जाएगा।

संतरा पानी पर तैरता है लेकिन छिलका हटाते ही क्यों डूब जाता है

अगर आपने गौर किया है तो आपने देखा होगा कि अगर संतरे को पानी में डाल दिया जाए तो वह आराम से तैरता है, लेकिन अगर उसका छिलका हटा दिया जाए तो वह पानी में डूब जाता है। बिना छिलके वाले संतरे की कली भी पानी में तैर नहीं पाती है, जबकि छिलका के साथ रहने पर पूरा संतरा पानी में तैरता रहता है। जबकि छिलका उतारने के बाद संतरे का वजन कम हो जाता है और ऐसे में बिना छिलके वाला संतरा पानी में तैरना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं होता।

संतरा पानी पर तैरता है लेकिन छिलका हटाते ही क्यों डूब जाता है

दरअसल, छिलके का वजन उसके घनत्व से कम होता है। इसके अलावा संतरे के छिलके के अंदर छेद हो जाते हैं और उसकी दौड़ में रस भर जाता है, जिससे वजन उसके घनत्व से अधिक हो जाता है। ऐसे में छिलके वाला संतरा पानी में डालते ही डूब जाता है। इसे आर्किमिडीज के सिद्धांत से आसानी से समझा जा सकता है, जिसमें कहा गया है कि किसी भी वस्तु को पानी पर तैरने के लिए वस्तु के वजन के बराबर पानी को विस्थापित करना पड़ता है। अगर वह चीज इतना पानी निकाल दे तो आराम से पानी में तैर सकती है।

संतरे के रस में भी जब संतरे के छिलके सहित गोल स्लाइस काटकर डाल दिया जाता है तो वह भी तैरने लगता है। इसके पीछे यह भी कारण है कि इसका घनत्व इसके वजन से ज्यादा रहता है।

यह भी पढ़े –

Related Posts