Menu Close

संत तुकाराम महाराज की जीवन कथा – कहानी

इस आर्टिकल में हम महाराष्ट्र के महान संत तुकाराम महाराज की पूरी जानकारी सरल भाषा में जानेंगे। यदि आप Sant Tukaram Maharaj के बारे में पर्याप्त नहीं जानते हैं तो इस लेख को पूरा अवश्य पढ़ें। भागवत धर्म के शिखर बनने के लिए तुकाराम भाग्यशाली थे, जिसकी नींव ज्ञानेश्वर ने रखी थी। तुकाराम ने अपने अभंग में संतों के लक्षणों का विस्तार से वर्णन किया है। जैसे कि-

संत तुकाराम महाराज (Sant Tukaram Maharaj) की कथा - कहानी

“जे का रंजले गांजले। त्यांसी म्हणे जो आपले।।
तोचि साधु ओळखावा। देव तेथेचि जाणावा।।”

” या “

“जगाच्या कल्याणा संतांच्या विभूति।
देह कष्टविती उपकारें।।
भूतांची दया हें भांडवल संतां।
आपली ममता नाहीं देहीं।।”

” या “

“संताचिया गावीं प्रेमाचा सुकाळ।
नाहीं तळमळ दुःख लेश॥ “

संतों के उपरोक्त सभी लक्षण स्वयं तुकाराम पर लागू होते हैं। जैसा कि उन्होंने एक अन्य स्थान पर कहा, ‘तुका म्हणे देही। संत जाहले विदेही।।’  मानवी शरीर में रहते हुए परमात्मा से एकरूप होना तुकाराम जैसे संत महात्मा ही करते है। इसीलिए तुकाराम ने महाराष्ट्र के आम लोगों के मन में बहुत सम्मान का स्थान प्राप्त किया है।

संत तुकाराम महाराज की कथा – कहानी

संत तुकाराम महाराज का पूरा नाम तुकाराम बोल्होबा अम्बिले था। तुकाराम का जन्म सन 1598 में देहु गांव में हुआ था। (कुछ का मानना ​​है कि उनका जन्म शक 1530 में हुआ था।) तुकाराम के पिता का नाम बोल्होबा और उनकी माता का नाम कनकाई था। उनके परिवार का नाम अंबिले है। तुकाराम का परिवार मराठा जाति का था। एक अर्थ में वे क्षत्रिय थे। हालांकि तुकाराम खुद अपनी जाति कुनबी बताते हैं और कहते हैं कि हम शूद्र जाति के हैं।


तुकाराम के पूर्वज देहू गांव के एक महाजन थे। उनका छोटा-बड़ा व्यवसाय था। इस परिवार में विट्ठल की भक्ति प्रचलित थी। तुकाराम का बचपन अपने माता-पिता की प्यार के साये में खुशी से बीता। यह देखा जा सकता है कि उन्होंने कम उम्र में ही ज्ञान प्राप्त कर लिया है। हालांकि बाद में उन पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा।

सत्रह साल की उम्र में, उन्होंने अपने माता-पिता की छाया खो दी। उसके बाद, उनके बड़े भाई सावजी जिंदगी से ऊब गए और तीर्थ यात्रा के लिए निकल गए; इसलिए, दुनिया का सारा बोझ उन पर आ गया। तभी उन्हें कारोबार में घाटा होने लगा। दुकान के दिवालिया होने का समय हो गया था। बाद में अकाल में मवेशी गए, पैसा भी डूब गया। इस प्रकार सांसारिक जीवन में उन्हें अनेक प्रतिकूलताओं का सामना करना पड़ा। नतीजतन, तुकोबा जिंदगी से बेहद निराश होकर दुनिया से बाहर निकलने का रास्ता खोजने लगे। वह आध्यात्मिकता और एकांत के लिए तरसने लगे। फिर वो भगवान के चिंतन में मन लगाने लगे। सन 1649 में संत तुकाराम की मृत्यु हुई।

संत तुकाराम महाराज अभंग और अर्थ

तुकाराम ने बड़ी संख्या में अभंगों की रचना की है और इन अभंगों को उनके गाथागीतों में शामिल किया गया है। इनके अभंगों की संख्या लगभग पांच हजार है। तुकोब का अभंग मराठी काव्य का शाश्वत शृंगार है। उनका अनुभव अपार था और वे असाधारण प्रतिभा के धनी थे। इसका उत्तर आपको उनके अभंगों के माध्यम से मिलता है।

उनकी वाकपटुता आज भी सबके दिलों को छू जाती है; क्योंकि वह उनके समग्र जीवन के अनुभवों से पैदा हुई थी। महान विद्वानों से लेकर आम आदमी तक सभी के मन को मोह लेने वाली उदात्त रेखाएँ उनके अभंगों पर बिखरी पड़ी हैं। उदाहरण के लिए, मैं यहां निम्नलिखित कुछ अभंगपंकतियों का उल्लेख करना चाहूंगा।

” पराविया नारी ” ” माऊली समान। परधनी बाटो नेदी मन। “
” ” भिक्षापात्र अवलंबिणें। जळो जिणे लाजिरवाणें। “

” आलिया भोगासी असावे सादर। देवावरी भार घालोनियां। ”
” महापुरे झाडे जाती। तेथे लव्हाळें वाचती। “

” तुका म्हणें तोचि संत। सोशी जगाचे आघात। “
” सुख पाहतां जवापाडे। दुःख पर्वताएवढे। “

” निश्चयाचें बळ। तुका म्हणे तेंचि फळ। ”
” ऐसी कळवळ्याची जाति। करी लाभाविण प्रीति। “

“ साधुसंत येती घरां। तोचि दिवाळी दसरा। “
” दया क्षमा शांति। तेथें देवाची वसती। “
” शुद्ध बीजापोटीं। फळें रसाळ गोमटी। “

तुकाराम ने अपने अभंगों के माध्यम से शुद्ध धर्म की शिक्षा दी। उन्होंने स्वयं भक्ति मार्ग का अनुसरण किया और नमस्कार और सत्संग के दो साधनों पर जोर दिया। सगुण-निर्गुण एकल आध्यात्मिक अनुभूति के पहलू हैं; वह कह रहा था कि उस अनुभूति का परिणाम वासना का पूर्ण विलय और पूर्ण और अचल अवस्था का अनुभव करना है।

Sant Tukaram Maharaj के गुरु कौन हैं

संत तुकाराम महाराज के गुरु बाबाजी चैतन्य थे। तुकाराम के विचार की एक महत्वपूर्ण विशेषता यह थी कि उनकी सामाजिक स्थिति थी। उन्होंने धर्म का पालन करके पाखंड का खंडन करना इसे अपने जीवन का काम माना। बिना किसी पर लगाम लगाए ये सामाजिक पाखंड का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में आप देख सकते हैं कि उनकी आवाज में एक अलग ही धार है। उन्होंने अपने साहित्य से पाठक पंडित, पाखंडी साधुओं, लालची भिक्षिकों आदि के बारे में कड़ा पक्ष लिया है। हालाँकि, उनकी आलोचना का मुख्य फोकस अहंकार और अधर्मी विद्वता पर है।

Sant Tukaram Maharaj सभी प्रकार के सामाजिक भेदभाव का विरोध करते हैं। सामाजिक असमानता का संकट उनके साहित्य में किसी का ध्यान नहीं जाता है। उन्होंने जाति और उच्च जाति के भेदभाव को खारिज कर दिया और पुरजोर विरोध किया। “दया करणें जे पुत्रासी। तेचि दासा आणि दासी।।” यह कहना होगा कि इतनी व्यापक मानवीय भूमिका की वकालत करने वाले तुकाराम वास्तव में एक संत की स्थिति तक पहुँच चुके थे।

उन्होंने बहुजन समाज के आम लोगों की नफरत और उम्मीदों और आकांक्षाओं को ईमानदारी से व्यक्त किया। तुकाराम के मन में मानदंडों और स्वतंत्र प्रेरणा के बीच संघर्ष लगातार चल रहा था। उनका मानवता का संदेश इस संघर्ष की पराकाष्ठा है।

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, भागवत धर्म के शिखर बनने के लिए तुकाराम भाग्यशाली थे, जिसकी नींव संत ज्ञानेश्वर ने रखी थी।; इसलिए संत बहिनाबाई कहती हैं-

“संतकृपा झाली। इमारत फळां आली।।
ज्ञानदेवें रचिला पाया। उभारिले देवालया।।
नामा तयाचा किंकर। तेणें केला हा विस्तार।।
जनार्दन एकनाथ। ध्वज उभारिला भागवत ।।
तुका झालासे कळस भजन करा सावकाश।।”

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!