मेन्यू बंद करे

समांतर माध्य की विशेषताएं क्या हैं?

समान्तर माध्य (Arithmetic Mean), गणित और सांख्यिकी में डेटा के नमूने की केंद्रीय प्रवृत्ति का गणितीय माप है। इसे अक्सर ‘औसत’ या ‘माध्य’ कहा जाता है। लेकिन जब इसे अन्य प्रकार के साधनों से अलग करते हुए देखा जाता है, तो इसे ‘समान्तर माध्य’ कहा जाता है। उदाहरण के लिए, ज्यामितीय माध्य या हरात्मक माध्य। गणित और सांख्यिकी के अलावा अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, इतिहास आदि में अंकगणित माध्य अक्सर देखा जाता है। इस लेख में हम समांतर माध्य की विशेषताएं क्या है बताएंगे।

समांतर माध्य की विशेषताएं

समांतर माध्य की विशेषताएं

1. समांतर माध्य में श्रृंखला को क्रमबद्ध करने की कोई आवश्यकता नहीं है, किसी भी रूप में गणना से प्राप्त उत्तर स्थिर है।

2. समांतर माध्य में आँकड़ों के समूह की केन्द्रीय प्रवृत्ति की व्याख्या कीजिए।

3. दो संख्याओं a और b के बीच के अंकगणितीय माध्य को (a+b)/2 के औसत के रूप में व्यक्त किया जा सकता है।

4. समांतर माध्य में लिए गए सभी पदों के विचलनों के वर्गों का योग न्यूनतम होता है अर्थात d2X̄ न्यूनतम होता है।

5. समांतर माध्य से लिए गए सभी पदों के विचलनों का योग शून्य होता है। यानी dX̄ = 0

यह भी पढ़ें-

Related Posts