Menu Close

रेखीय संवेग संरक्षण का नियम क्या है

किसी वस्तु के द्रव्यमान और वेग के गुणनफल को संवेग कहते हैं। संवेग एक सदिश राशि है क्योंकि इसमें परिमाण और दिशा भी होती है। एक संबंधित मात्रा कोणीय गति है। संवेग एक संरक्षित मात्रा है। अर्थात् किसी विलगित निकाय में कुल संवेग स्थिर रहता है। इस लेख में हम रेखीय संवेग संरक्षण का नियम (Law Of Conservation Of Linear Momentum) क्या है जानेंगे।

रेखीय संवेग संरक्षण का नियम क्या है

रेखीय संवेग संरक्षण का नियम क्या है

रेखीय संवेग का संरक्षण का नियम प्रकृति का मूलभूत सिद्धान्त है। “यदि किसी बंद निकाय पर कोई बाहरी बल नहीं लगाया जाता है, तो उस निकाय का कुल संवेग स्थिर रहता है। इस नियम का एक परिणाम यह है कि किसी भी निकाय के द्रव्यमान का केंद्र तब तक निरंतर वेग से गति करता रहेगा जब तक कि उस पर कोई बाहरी बल नहीं लगाया जाता।”

किसी कण के रैखिक संवेग को उस कण के द्रव्यमान के गुणनफल के रूप में परिभाषित किया जाता है जो उस कण के वेग से गुणा होता है। एक कण के संवेग का संरक्षण किसी भी कण द्वारा प्रदर्शित एक गुण है जहाँ संवेग की कुल मात्रा कभी नहीं बदलती है।

एक कण का रैखिक संवेग एक सदिश राशि है। हमें यह याद रखना होगा कि निकाय का संवेग संरक्षित है न कि व्यक्तिगत कणों का। सिस्टम में अलग-अलग निकायों की गति स्थिति के अनुसार बढ़ या घट सकती है, लेकिन सिस्टम की गति हमेशा संरक्षित रहेगी, जब तक कि उस पर कोई बाहरी शुद्ध बल अभिनय न हो।

संवेग संरक्षण का सिद्धांत कहता है कि यदि दो वस्तुएँ टकराती हैं, तो टकराने से पहले और बाद में कुल संवेग समान होगा यदि टकराने वाली वस्तुओं पर कोई बाहरी बल कार्य नहीं करता है। रेखीय संवेग का संरक्षण सूत्र गणितीय रूप से व्यक्त करता है कि शुद्ध बाह्य बल शून्य होने पर निकाय का संवेग स्थिर रहता है।

प्रारंभिक संवेग = अंतिम संवेग

Pi = Pf

यह भी पढ़े:

Related Posts

error: Content is protected !!