Menu Close

रेव पार्टी क्या होती है? इसका आयोजन कैसे किया जाता है? जानिये

रेव पार्टी आमतौर पर इवेंट कंपनियों द्वारा आयोजित और प्रचारित की जाती है। 1990 के दशक के दौरान इंग्लैंड में डीजे तकनीक विकसित होने से डीजे का प्रयोग बड़े तौर पर होने लगा; इससे दिन-रात को बड़ी मात्रा में पार्टीयों का आयोजन होने लगा। इंग्लैंड के साथ यह प्रयोग अन्य देशों में भी फैलता गया, जिसमें भारत देश भी शामिल है। भारत में पिछले करीब 10-12 सालों से रेव पार्टी का आयोजन बड़ी संख्या में हो रहा है। इस लेख में हम, रेव पार्टी क्या होती है? इसका आयोजन कैसे किया जाता है और इसमें हर वक्त बवाल की स्थिति क्यू उत्पन्न होती है इसे जानेंगे।

रेव पार्टी क्या होती है

रेव पार्टी क्या होती है

रेव पार्टी किसी निजी संपत्ति पर एक नृत्य पार्टी का वर्णन करता है, आमतौर पर डीजे द्वारा इलेक्ट्रॉनिक नृत्य संगीत बजाता है। रेव पार्टियों का आयोजन गुपचुप तरीके से किया जाता है। इसमें ड्रग्स, शराब, संगीत, नृत्य और कभी-कभी सेक्स भी शामिल है। रेव पार्टियां केवल पार्टी सर्किट से संबंधित कुछ चुनिंदा लोगों के लिए आयोजित की जाती हैं।

इन पार्टियों में नए लोगों को आने की इजाजत नहीं है, ताकि जानकारी न फैले. रेव पार्टियां नशा करने वालों और बेचने वालों के लिए सुरक्षित जगह होती हैं। हालांकि कई बार यह आरोप भी लगते रहे हैं कि रेव पार्टियों में बड़ी मात्रा में ड्रग्स लिया जाता है।

पार्टी के दौरान लाउड इलेक्ट्रिक ट्रान्स म्यूजिक बजाया जाता है ताकि ड्रग यूजर्स लंबे समय तक एक ही मूड में रहें। लोग ड्रग्स लेते हैं और इस संगीत पर डांस करते हैं। रेव पार्टियां 24 घंटे से लेकर तीन दिन तक चलती हैं। रेव पार्टी में एक खास तरह का म्यूजिक सिस्टम होता है, जिससे इलेक्ट्रिक ट्रान्स म्यूजिक ज्यादा मात्रा में चलाया जा सकता है।

रेव पार्टी का आयोजन कैसे किया जाता है

रेव पार्टियों का आयोजन बेहद गोपनीय तरीके से किया जाता है। इसलिए जांच एजेंसियों की नजर से बचने के लिए कई तरीके अपनाए जाते हैं। रेव पार्टियों को आमंत्रित करने के लिए सोशल मीडिया और कोड लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता है। पार्टी के आयोजक इसके लिए कुछ सीक्रेट कोड का इस्तेमाल करते हैं। कोई भी जब चाहे इन पार्टियों में शामिल नहीं हो सकता। कई बार पार्टी की जानकारी एक-दूसरे के जरिए बोलकर ही दी जाती है।

रेव पार्टी के बारे में जानकारी देने के लिए सोशल मीडिया का इस्तेमाल पिछले कुछ सालों में काफी बढ़ा है। इन पार्टियों का हिस्सा बनने वाले लोगों का एक छोटा समूह बनता है जो पार्टी की जानकारी दूसरों को देते हैं। चूंकि रेव पार्टियों में बड़ी मात्रा में ड्रग्स का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए वे जंगलों या उन इलाकों में किए जाते हैं जो पुलिस की पहुंच से बाहर हैं।

यह भी पढ़े:

Related Posts