मेन्यू बंद करे

राजकोषीय घाटा क्या है? उपाय, प्रभाव, सूत्र, उदाहरण

देश में जनता को विभिन्न सुविधाएं प्रदान करने के लिए बजट प्रस्तुत किया जाता है, जिसमें लोगों की सुविधा के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जाते हैं। इसी तरह राजकोषीय घाटा भी है। इसे अंग्रेजी में ‘Fiscal Deficit‘ कहा जाता है। यह एक ऐसा शब्द है, जिसे आपने बजट पेश करते समय कई बार सुना होगा। इस लेख में हम राजकोषीय घाटा क्या है और उसके उपाय, प्रभाव, सूत्र, उदाहरण को यहाँ जानेंगे।

राजकोषीय घाटा क्या है? उपाय, प्रभाव, सूत्र, उदाहरण

राजकोषीय घाटा क्या है (What is Fiscal Deficit)

सरकार के कुल व्यय (Capital expenditure and Revenue expenditure) और सरकार की कुल आय (राजस्व प्राप्तियां और ऋण और अग्रिम सहित पूंजीगत प्राप्तियां) के बीच के अंतर को राजकोषीय घाटा (Fiscal Deficit) कहा जाता है। सरल शब्दों में, राजकोषीय घाटा सरकार के व्यय की तुलना में सरकार की आय में कमी को दर्शाता है। जिस सरकार का Fiscal Deficit अधिक होता है, वह अपने संसाधनों से अधिक खर्च करती है। इसकी गणना जीडीपी के आधार पर की जाती है। राजस्व घाटा सरकार के राजस्व व्यय और राजस्व प्राप्तियों से संबंधित है। इसकी घाटी राजस्व व्यय और राजस्व प्राप्तियों के बीच का अंतर है।

सूत्र (Formula)

राजस्व घाटा = राजस्व व्यय – राजस्व प्राप्तियां
(Revenue Deficit = Revenue Expenditure – Revenue Receipts)

राजस्व व्यय (Revenue expenditure) से हमें यह पता चलता है कि सरकार की वर्तमान प्राप्तियाँ सरकार के वर्तमान व्यय से कितनी कम या अधिक हैं। इसे एक परिवार के उदाहरण से समझा जा सकता है।

उदाहरण के लिए यदि किसी परिवार की आय ₹10000 प्रति माह और व्यय ₹12,000 है, तो प्रत्येक माह ₹2000 की पूंजी प्राप्ति होती है, चाहे वह ऋण के रूप में हो या किसी संपत्ति की बिक्री से। यही बात सरकार पर भी लागू होती है, लेकिन अगर सरकार कर्ज लेकर या संपत्ति बेचकर राजस्व घाटे को पूरा करती रही, तो सरकार की वित्तीय स्थिति खराब हो जाएगी। इसलिए राजस्व घाटा सरकार के लिए चिंता का विषय है।

राजकोषीय घाटा कम करने के उपाय (Measures to reduce Fiscal Deficit)

राजस्व घाटा कम करने के दो उपाय हैं-

(i) राजस्व प्राप्तियों में वृद्धि – सरकार को कर और गैर-कर प्राप्तियों के माध्यम से राजस्व प्राप्तियों में वृद्धि करनी चाहिए। इसके लिए आय की दरों में वृद्धि की जा सकती है। सरकारी जुर्माना, फीस (लाइसेंस फीस, कॉपी राइट फीस)
आदि भी बढ़ सकते हैं।

(ii) राजस्व व्यय में कमी – वित्तीय सहायता को कम करके इसे भी समाप्त किया जा सकता है। इसके लिए सरकार वित्तीय सहायता को कम कर सकती है या सरकार अपने प्रशासनिक खर्च को भी कम कर सकती है।
लक्ष्य हासिल किया जा सकता है।

राजकोषीय घाटे का अर्थव्यवस्था पर प्रभाव (Impact of Fiscal Deficit on the Economy)

राजकोषीय घाटे का अर्थ है सरकार द्वारा लिए गए उधारों/ऋणों में वृद्धि। इस बढ़ते कर्ज के निम्नलिखित प्रभाव हो सकते हैं।

1. मुद्रास्फीति जाल (Inflation trap)

सरकार द्वारा लिए गए ऋण के कारण धन की आपूर्ति में वृद्धि हुई है। मुद्रा आपूर्ति में वृद्धि से मूल्य स्तर में वृद्धि होती है। मूल्य स्तर में वृद्धि उच्च लाभ की आशा में निवेश को प्रेरित करती है, लेकिन जब मूल्य स्तर भयभीत सीमा तक बढ़ने लगता है, तो निवेश में गिरावट आती है, जिससे मुद्रास्फीति का जाल बनता है। ऐसी स्थिति में, सकल घरेलू उत्पाद के प्रतिशत के रूप में राजकोषीय घाटा लंबे समय तक उच्च बना रहता है और दीर्घकालिक आर्थिक अस्थिरता रहती है।

2. आने वाली पीढ़ियों पर बोझ (Burden on future generations)

राजकोषीय घाटे के परिणामस्वरूप, भावी पीढ़ी को एक पिछड़ी अर्थव्यवस्था विरासत में मिलती है, जिसमें सकल घरेलू उत्पाद की विकास दर कम रहती है, क्योंकि सकल घरेलू उत्पाद का एक बड़ा हिस्सा कर्ज चुकाने पर खर्च किया जाता है।

3. सरकारी साख का नुकसान (Loss of government credibility)

उच्च राजकोषीय घाटे के कारण, घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा बाजार में सरकार की विश्वसनीयता कम हो जाती है। इससे अर्थव्यवस्था की क्रेडिट रेटिंग गिरने लगती है। विदेशी निवेशक अर्थव्यवस्था में निवेश करना बंद कर देते हैं और आयात महंगा हो जाता है। इससे भुगतान संतुलन का घाटा भी बढ़ जाता है। इससे सरकार को अधिक ऋण लेने या अपनी अर्थव्यवस्था को प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के लिए खोलने का कारण हो सकता है। यह ऋण के एक दुष्चक्र को जन्म देता है।

4. ऋण जाल (Debt trap)

सकल घरेलू उत्पाद के बढ़ते प्रतिशत के रूप में निरंतर उच्च राजकोषीय घाटा एक ऐसी स्थिति की ओर ले जाता है जहां –

(i) उच्च राजकोषीय घाटे के कारण सकल घरेलू उत्पाद की विकास दर कम है।
(ii) कम जीडीपी वृद्धि के कारण Fiscal Deficit अधिक है। ऐसे में सरकारी खर्च का बड़ा हिस्सा निवेश पर नहीं बल्कि कर्ज और ब्याज के भुगतान पर खर्च होता है।

यह भी पढ़ें –

Related Posts