Menu Close

कव्वाली क्या है

कहा जाता है कि इस शैली से प्रेरित होकर, अमीर खुसरो (1253-1325) ने शास्त्रीय संगीत में ‘ख्याल’ नामक एक मुखर रूप विकसित किया है। तानसेना के प्रभाव के उदय तक ध्रुपदगिका, कलावंत और कव्वाल की प्रतिष्ठा समान थी। अगर आप नहीं जानते की कव्वाली क्या है तो हम आसान शब्दों में बताने जा रहे है।

कव्वाली क्या है

कव्वाली इस्लामी जड़ से जन्मा और भारत में पला-बड़ा संगीतप्रकार है। कव्वाली को भारत के पारंपरिक भजनों की नकल करते हुए फ़ारसी संगीत की एक रचना के रूप में वर्णित किया जा सकता है। कव्वाली में धार्मिक और धर्मनिरपेक्ष दोनों विषयों पर रचनाएँ हैं। जो लोग धर्मनिरपेक्ष विषयों पर रचनाएँ गाते हैं उन्हें कलाकार कहा जाता है और जो धार्मिक रचनाएँ करते हैं उन्हें कव्वाल कहा जाता है। इस प्रकार की कव्वाली ताल की विशेषताओं में से एक समूह तरीके से गीत के ताना और ध्रुपद का जप करने का अभ्यास है।

कव्वाली भारत में सूफीवाद और सूफी परंपरा के भीतर भक्ति संगीत की एक धारा के रूप में उभरा एक संगीत परकर है। इसका इतिहास 700 साल से भी ज्यादा पुराना है। यह वर्तमान में भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश सहित कई अन्य देशों में संगीत का एक लोकप्रिय रूप है। कव्वाली का अंतर्राष्ट्रीय संस्करण नुसरत फतेह अली खान और अन्य के गायन के साथ उभरा है।

यह भी पढ़े –

Related Posts

error: Content is protected !!