Menu Close

पुदीना के फायदे और नुकसान

पुदीना (Pudina) अपने अनोखे स्वाद के लिए जाना जाता है। पुदीने की चटनी खाने का स्वाद तो बढ़ाती ही है साथ ही सेहतमंद भी होती है। पुदीना का उपयोग सदियों से आयुर्वेद में औषधि के रूप में किया जाता रहा है। सामान्य तौर पर पुदीने का उपयोग टूथपेस्ट, च्युइंगम, माउथ फ्रेशनर, कैंडी, इनहेलर आदि में किया जाता है। पुदीने की पत्तियों का उपयोग मुख्य रूप से चटनी बनाने में किया जाता है। इसके अलावा पुदीने की पत्तियां औषधीय गुणों से भरपूर होती हैं। इस लेख में हम, पुदीना के फायदे और नुकसान क्या है जानेंगे।

पुदीना के फायदे और नुकसान

पुदीना के फायदे

1. सिर दर्द से राहत दिलाती है पुदीने की चाय – अक्सर देखा गया है कि खराब पाचन शक्ति के कारण सिर में दर्द होता है। ऐसे में पुदीने की चाय काफी फायदेमंद साबित हो सकती है, क्योंकि यह अपने दीपन-पाचन गुण के कारण भोजन को ठीक से पचाने में मदद करती है, जिससे आपका पाचन तंत्र मजबूत होता है।

2. कान के दर्द से बचाता है पुदीना – पुदीने के फायदे कान से संबंधित समस्याओं जैसे कान दर्द आदि में जल्दी आराम देता है। कभी-कभी सर्दी के कारण या कान में पानी जाने पर कान में दर्द होता है। ऐसे में पुदीने का रस कान में डालने से आराम मिलता है। आपको पुदीने की पत्तियों का रस निकालना है, और इसकी 1-2 बूंद कान में डालना है।

3. बालों का झड़ना रोकने में फायदेमंद – पुदीना अपने एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के कारण बालों के रूखेपन को कम करने में मदद करता है। इससे बालों का झड़ना और टूटना कम होता है, जिससे बाल प्राकृतिक रूप से बढ़ने लगते हैं।

4. मुंह के छालों की समस्या से राहत – मुंह के छालों की समस्या में पुदीने की पत्तियों का काढ़ा बनाकर सेवन करें। इससे गरारे करने से मुंह के छालों की समस्या दूर हो जाती है।

5. दांत दर्द से बचाता है – दांत दर्द की समस्या किसे नहीं होती है। पुदीने की पत्तियों का चूर्ण बनाकर दांतों पर मलने से दांत का दर्द दूर होता है। पुदीने के औषधीय गुण दांत दर्द को कम करने में मदद करते हैं। पुदीने के फायदे दर्द से राहत दिलाने में काफी मदद करते हैं।

6. भूख बढ़ाता है पुदीना – कभी-कभी दवा की वजह से या लंबी बीमारी के कारण भूख कम लगने लगती है। अगर आप भी इस समस्या से पीड़ित हैं तो इसके लिए 6-6 ग्राम वृक्षाम्ल, पुदीना, सोंठ और मारीच, 50 मिलीलीटर अनार का रस लें। इसके साथ ही 3 ग्राम पिप्पली, 1 ग्राम लौंग, 3 ग्राम बड़ी इलायची, 18 ग्राम सेंधा नमक और 35 ग्राम जीरा लें। मिश्री उतनी ही मात्रा में डालें जितनी जितनी थी। इसका पाउडर बना लें। इसका सेवन 1-5 ग्राम की मात्रा में करें। यह भूख न लगने की समस्या को दूर करता है।

7. अस्थमा में फायदेमंद पुदीना – पुदीना अपने वात-कफ शामक गुण के कारण अस्थमा में भी फायदेमंद होता है। इसके गर्म प्रभाव के कारण यह फेफड़ों में जमा बलगम को पिघलाकर बाहर निकालने में मदद करता है। यह इस बीमारी के लक्षणों को कम करने में मदद करता है।

पुदीना के नुकसान

पुदीने के ज्यादा सेवन से सेहत को निम्न प्रकार के नुकसान हो सकते है-

  1. किडनी से जुड़े विकार
  2. आंत्र विकार
  3. सेक्स करने की इच्छा में कमी आदि।
  4. यदि किसी व्यक्ति को कब्ज या पेशाब संबंधी कोई समस्या हो तो उसे पुदीने का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि पुदीना मल-मूत्र का स्तंभ है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!