Menu Close

पाकिस्तान में हिंदू आबादी कितनी है

पाकिस्तान (Pakistan) 22 करोड़ की आबादी वाला दुनिया का पांचवां सबसे अधिक आबादी वाला मुस्लिम देश है। पाकिस्तान में दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी मुस्लिम आबादी है। यहां बोली जाने वाली प्रमुख भाषाएं उर्दू, पंजाबी, सिंधी, बलूची और पश्तो हिंदी हैं। पाकिस्तान की राजधानी इस्लामाबाद है और अन्य महत्वपूर्ण शहर कराची और लाहौर रावलपिंडी हैं। 2022 में पाकिस्तान की आबादी 22 करोड़ तक पहुंच गई है। इस लेख में हम पाकिस्तान में हिंदू आबादी कितनी है और पाकिस्तान में हिंदुओं के हालात कैसे है, इसे संक्षेप में जानेंगे।

पाकिस्तान में हिंदू आबादी कितनी है

पाकिस्तान में हिंदू आबादी कितनी है

2017 की जनगणना के अनुसार, पाकिस्तान में हिंदू आबादी 44,44,437 थी, जो कुल जनसंख्या का 2.14% है। इस्लाम के बाद पाकिस्तान में हिंदू धर्म दूसरा सबसे बड़ा धर्म है। 2010 की प्यू रिपोर्ट के अनुसार, पाकिस्तान में दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी हिंदू आबादी थी। हिंदू पाकिस्तान के सभी प्रांतों में पाए जाते हैं लेकिन ज्यादातर सिंध में केंद्रित हैं, जहां उनकी आबादी 8.73% है। उमरकोट जिला (52.15%) पाकिस्तान का एकमात्र हिंदू बहुल जिला है। हालांकि, 2017 से 2022 तक कोई नया अध्ययन मौजूद नहीं है।

पाकिस्तान में हिंदू मुख्य रूप से सिंध में केंद्रित हैं, जहां अधिकांश हिंदू परिक्षेत्र पाकिस्तान में पाए जाते हैं। वे सिंधी, सरायकी, एर, धातकी, गेरा, गोरिया, गुरुगुला, जांडवरा, कबूत्रा, कोली, लोरकी, मारवाड़ी, सांसी, वाघरी और गुजराती जैसी कई भाषाएं बोलते हैं। पाकिस्तान के थारपारकर जिले में हिंदुओं की आबादी सबसे अधिक है। सिंध के चार जिले- उमरकोट, थारपारकर, मीरपुरखास और संघर पाकिस्तान में आधे से अधिक हिंदू आबादी की मेजबानी करते हैं।

पाकिस्तान हिंदुओं और अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों की तुलना में मुसलमानों को अधिक विशेषाधिकार देने वाला देश बना हुआ है। हिंदुओं के खिलाफ हिंसा और भेदभाव के कई मामले सामने आते रहते हैं। सख्त ईशनिंदा कानूनों के कारण हिंदुओं के साथ हिंसा और दुर्व्यवहार के कई मामले सामने आ चुके हैं।

पाकिस्तान में कुछ हिंदुओं को लगता है कि उनके साथ दूसरे दर्जे के नागरिक जैसा व्यवहार किया जाता है और कई ने भारत में प्रवास करना जारी रखा है। आज भी पाकिस्तानी हिंदुओं को मुस्लिम कट्टरपंथियों द्वारा हमले, जबरन धर्म परिवर्तन और अपहरण का सामना करना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें-

Related Posts