Menu Close

न्यूक्लियर पावर प्लांट क्या है

परमाणु ऊर्जा कम कार्बन वाली बिजली उत्पादन का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्रोत है। वर्तमान में पूरे विश्व में 449 Nuclear Power Plant हैं जो विश्व की लगभग 11% ऊर्जा की आपूर्ति करते हैं। दुनिया में सबसे अधिक न्यूक्लियर पावर प्लांट संयुक्त राज्य अमेरिका में हैं। इस लेख में हम, न्यूक्लियर पावर प्लांट क्या होता है जानेंगे।

न्यूक्लियर पावर प्लांट क्या है

न्यूक्लियर पावर प्लांट क्या है

न्यूक्लियर पावर प्लांट (Nuclear Power Plant) एक प्रकार का बिजली स्टेशन है जो परमाणु प्रतिक्रियाओं से गर्मी का उपयोग करके बिजली उत्पन्न करता है। ये प्रतिक्रियाएं एक रिएक्टर के भीतर होती हैं। प्लांट में ऐसी मशीनें भी हैं जो भाप टरबाइन को संचालित करने और बिजली बनाने के लिए रिएक्टर से गर्मी निकालती हैं। परमाणु ऊर्जा संयंत्रों द्वारा बनाई गई बिजली को परमाणु ऊर्जा (Nuclear Power) कहा जाता है।

रिएक्टर द्वारा उत्पन्न गर्मी को दूर करने के लिए परमाणु ऊर्जा संयंत्र आमतौर पर पानी के पास होते हैं। कुछ परमाणु ऊर्जा संयंत्र ऐसा करने के लिए कूलिंग टावरों का उपयोग करते हैं। परमाणु ऊर्जा संयंत्र ईंधन के रूप में यूरेनियम (Uranium) का उपयोग करते हैं। जब रिएक्टर चालू होता है, तो रिएक्टर के अंदर यूरेनियम परमाणु दो छोटे परमाणुओं में विभाजित हो जाते हैं। जब Uranium परमाणु विभाजित होते हैं, तो वे बड़ी मात्रा में ऊष्मा छोड़ते हैं। परमाणुओं के इस विभाजन को Fission कहते हैं।

Fission के लिए सबसे लोकप्रिय परमाणु यूरेनियम और प्लूटोनियम (Plutonium) हैं। वे परमाणु थोड़े होते हैं। जब ईंधन के परमाणु टूटते हैं तो उत्पन्न होने वाले परमाणु अत्यधिक रेडियोएक्टिव (Radioactive) होते हैं। आज Fission केवल परमाणु रिएक्टरों में होता है। नाभिकीय रिएक्टरों में Fission तभी होता है जब रिएक्टर के पुर्जों को ठीक से व्यवस्थित किया जाता है। पुराने परमाणु ईंधन को नए ईंधन से बदलने पर परमाणु ऊर्जा संयंत्र अपने रिएक्टर बंद कर देते हैं।

दुनिया में लगभग चार सौ न्यूक्लियर पावर प्लांट हैं, जिनमें से कई संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस और जापान में हैं। परमाणु ऊर्जा संयंत्रों में कुछ प्रसिद्ध दुर्घटनाएँ जापान में 2011 फुकुशिमा परमाणु आपदा, 1986 में यूक्रेन में चेरनोबिल आपदा और संयुक्त राज्य अमेरिका में 1979 थ्री माइल द्वीप दुर्घटना थीं। ऑस्ट्रेलिया में एक परमाणु-विरोधी आंदोलन देश में किसी भी परमाणु ऊर्जा संयंत्र के निर्माण का विरोध करता है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!