Menu Close

राष्ट्रीय गणित दिवस कब और क्यों मनाया जाता है

भारत के सभी राज्य अलग-अलग तरीकों से राष्ट्रीय गणित दिवस मनाते हैं। स्कूलों, कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में विभिन्न प्रतियोगिताओं और गणितीय प्रश्नोत्तरी का आयोजन किया जाता है। इन कार्यक्रमों और कार्यशालाओं में पूरे भारत से गणित की प्रतिभा और छात्र भाग लेते हैं। अगर आप नहीं जानते की, राष्ट्रीय गणित दिवस कब और क्यों मनाया जाता है तो हम इसके बारे में बताने जा रहे है।

National Mathematics Day - राष्ट्रीय गणित दिवस कब और क्यों मनाया जाता है

National Mathematics Day

National Mathematics Day का महत्व सभी के लिए महत्वपूर्ण है, इस दिन को मनाने के पीछे मुख्य उद्देश्य मानवता के विकास के लिए गणित के महत्व के बारे में लोगों में जागरूकता बढ़ाना है। इस दिन गणित शिक्षकों और छात्रों को शिविरों के माध्यम से प्रशिक्षण भी प्रदान किया जाता है और संबंधित क्षेत्रों में गणित और अनुसंधान के लिए शिक्षण-शिक्षण सामग्री के विकास, उत्पादन और प्रसार पर प्रकाश डाला जाता है।

राष्ट्रीय गणित दिवस कब और क्यों मनाया जाता है

22 दिसंबर 2012 को, भारत के पूर्व प्रधान मंत्री डॉ मनमोहन सिंह ने महान गणितज्ञ श्रीनिवास रामानुजन की 125 वीं जयंती को मनाने के लिए चेन्नई में आयोजित एक समारोह में घोषणा की कि हर साल 22 दिसंबर को राष्ट्रीय गणित दिवस के रूप में मनाया जाएगा। यह दिन उनके गणित के प्रति समर्पण को सम्मानित करने के लिए भी मनाया जाएगा। इस प्रकार पूरे देश में हर साल 22 दिसंबर 2012 से राष्ट्रीय गणित दिवस मनाया जा रहा है।

श्रीनिवास रामानुजन अयंगर एक महान भारतीय गणितज्ञ थे। उन्हें आधुनिक समय के महानतम गणितीय विचारकों में गिना जाता है। उन्होंने गणित में कोई विशेष प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया, फिर भी उन्होंने विश्लेषण और संख्या सिद्धांत के क्षेत्रों में व्यापक योगदान दिया। उन्होंने अपनी प्रतिभा और समर्पण से न केवल गणित के क्षेत्र में अद्भुत आविष्कार किए बल्कि भारत को अतुलनीय गौरव दिलाया।

वे बचपन से ही असाधारण प्रतिभा के धनी थे। उन्होंने स्वयं गणित सीखा और अपने जीवनकाल में गणित के 3,884 प्रमेयों का संकलन किया। इनमें से अधिकतर प्रमेय सही साबित हुए हैं।

यह भी पढ़े –

Related Posts

error: Content is protected !!