Menu Close

मेन मेमोरी क्या है

मेमोरी एक उपकरण या प्रणाली है जिसका उपयोग कंप्यूटर या संबंधित कंप्यूटर हार्डवेयर और डिजिटल इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में तत्काल उपयोग के लिए जानकारी संग्रहीत करने के लिए किया जाता है। मेमोरी शब्द अक्सर Primary Storage या Main Memory शब्द का पर्याय है। इस लेख में हम, मेन मेमोरी क्या है जानेंगे।

मेन मेमोरी क्या है

मेन मेमोरी क्या है

मेन मेमोरी वह जगह है जहां प्रोग्राम और डेटा को तब रखा जाता है जब प्रोसेसर सक्रिय रूप से उनका उपयोग कर रहा हो। जब प्रोग्राम और डेटा सक्रिय हो जाते हैं, तो उन्हें सेकेंडरी मेमोरी से मेन मेमोरी में कॉपी किया जाता है जहां प्रोसेसर उनके साथ इंटरैक्ट कर सकता है। एक कॉपी सेकेंडरी मेमोरी में रहती है। मेन मेमोरी कंप्यूटर में प्राथमिक, आंतरिक कार्यक्षेत्र है, जिसे आमतौर पर RAM के रूप में जाना जाता है।

मेन मेमोरी भौतिक मेमोरी को संदर्भित करती है जो कंप्यूटर के लिए आंतरिक होती है। मेन शब्द का प्रयोग इसे डिस्क ड्राइव जैसे बाहरी द्रव्यमान भंडारण उपकरणों से अलग करने के लिए किया जाता है। मेन मेमोरी के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य शब्दों में RAM और Primary Storage शामिल हैं।

कंप्यूटर केवल उस डेटा में हेरफेर कर सकता है जो मेन मेमोरी में है। इसलिए, आपके द्वारा निष्पादित प्रत्येक प्रोग्राम और आपके द्वारा एक्सेस की जाने वाली प्रत्येक फ़ाइल को स्टोरेज डिवाइस से मेन मेमोरी में कॉपी किया जाना चाहिए।

कंप्यूटर पर मेन मेमोरी की मात्रा महत्वपूर्ण है क्योंकि यह निर्धारित करती है कि एक समय में कितने प्रोग्राम निष्पादित किए जा सकते हैं और एक प्रोग्राम के लिए कितना डेटा आसानी से उपलब्ध हो सकता है।

चूंकि कंप्यूटर में अक्सर आवश्यक सभी डेटा रखने के लिए बहुत कम मेन मेमोरी होती है, कंप्यूटर इंजीनियरों ने स्वैपिंग नामक एक तकनीक का आविष्कार किया, जिसमें डेटा के कुछ हिस्सों को मेन मेमोरी में कॉपी किया जाता है, जैसा कि उनकी आवश्यकता होती है।

स्वैपिंग तब होती है जब आवश्यक डेटा के लिए मेमोरी में कोई जगह नहीं होती है। जब डेटा के एक हिस्से को मेमोरी में कॉपी किया जाता है, तो जगह बनाने के लिए एक समान आकार के हिस्से को कॉपी (स्वैप) किया जाता है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!