Menu Close

किस देश के घड़ी में कभी 12 नहीं बजते

हम बचपन से घड़ी में एक से 12 बजे तक नंबर देखते रहे हैं। घड़ी की सुइयां उनके बीच लगातार 24 घंटे टिक टिकती रहती हैं। हमारी दिनचर्या इसी घड़ी के हिसाब से चलती है, लेकिन अगर आप कहें कि घड़ी से एक घंटा हमेशा के लिए कम हो जाएगा तो आपको लगेगा कि आपकी रोजमर्रा की जिंदगी से एक घंटा कम हो जाएगा। लेकिन क्या आपने सबसे अनोखी घड़ी के बारे में सुना है जिसमें 12 कभी नहीं टकराती? इसलिए इस लेख में आप, किस देश के घड़ी में कभी 12 नहीं बजते और हम इसके पीछे का कारण जानेंगे।

किस देश के घड़ी में कभी 12 नहीं बजते

किस देश के घड़ी में कभी 12 नहीं बजते

स्विट्जरलैंड देश के सोलोथर्न शहर के घड़ी में कभी 12 नहीं बजते। दुनिया की यह अनोखी घड़ी है। सोलोथर्न, 2,000 साल पहले रोमनों द्वारा स्थापित किया गया शहर था, लेकिन आज कई पर्यटकों द्वारा भुला दिया गया है क्योंकि यह पास की राजधानी बर्न के निकट है, यह 11 के साथ व्यस्त शहर है। इस शहर की खासियत है की यह शहर 11 चर्चों का घर है, इसमें 11 पूजास्थल, 11 फव्वारे, 11 टावर और 11 संग्रहालय है, यह केवल एक सनोग नहीं है।

क्या है 11 नंबर के पीछे का राज

सेंट उर्सुस (Saint Ursus) के मुख्य चर्च में 11 नंबर का महत्व स्पष्ट रूप से देखने को मिलता है। यह चर्च भी 11 साल में बनकर तैयार हो गया था। तीन सीढ़ियों का एक सेट है और प्रत्येक सेट में इसके 11 पंक्तियाँ हैं। इसके अलावा 11 दरवाजे और 11 घंटियां भी हैं। इसीलिए यहा 11 नंबर का महत्व ज्यादा है। यहां के लोग 11 नंबर को इतना पसंद करते हैं कि वे अपना 11वां जन्मदिन बेहद खास तरीके से मनाते हैं। इस अवसर पर दिए जाने वाले उपहारों को 11 अंक से भी जोड़ा जाता है। यहां के लोग 11 का अंक शुभ मानते है।

किस देश के घड़ी में कभी 12 नहीं बजते

11 नंबर की सदियों पुरानी है ये मान्यता

यहां के लोगों का 11 नंबर के प्रति इतना लगाव होने के पीछे एक सदियों पुरानी मान्यता है। बीबीसी रिपोर्ट अनुसार गौरतलब है कि एक समय में सोलोथर्न के लोग बहुत मेहनत किया करते थे, लेकिन इसके बावजूद उनके जीवन में समस्याएं थीं। कुछ समय बाद, एल्फ पहाड़ियों से आया और उन लोगों को प्रोत्साहित करने लगा।

एल्फ के आने से वहां के लोगों के जीवन में खुशियां आने लगीं। जर्मनी की पौराणिक कथाओं में एल्फ की कहानी सुनाई देती है। यहां के लोगों का मानना ​​है कि उनके पास अलौकिक शक्तियां हैं और जर्मन भाषा में एल्फ का मतलब 11 होता है। इसलिए सोलोथर्न के लोगों ने एल्फ को 11 नंबर से जोड़ा और तब से यहां के लोग 11 नंबर को काफी अहमियत देने लगे।

यह भी पढ़े:

Related Posts