Menu Close

केसर इतना महंगा क्यों होता है

केसर को अंग्रेजी में ‘Saffron’ कहते हैं। यह एक सुंदर पौधा है जिसमें फूल लगते हैं। यह दुनिया का इतना महंगा पौधा है, जिसमें लाखों रुपए प्रति किलो के केसर का उत्पादन होता है। लेकिन एक पौधे में कितना केसर निकलेगा और अगर केसर लगाया भी जाए तो क्या जल्दी पैसा कमाया जा सकता है? सवाल कई हैं, लेकिन वास्तव में यह एक बहुत ही गंभीर फसल है। इस लेख में हम केसर इतना महंगा क्यों होता है जानेंगे।

केसर इतना महंगा क्यों होता है

भारत के कश्मीर में केसर की खेती की जाती है। इसके उत्पादन में अधिक भूमिका जम्मू के किश्तवाड़ और कश्मीर के पंपोर की है। केसर की खेती के लिए कश्मीर जैसी खास जलवायु की जरूरत होती है जिसमें Saffron की खेती की जा सके। भारत के अलावा, केसर की खेती इटली, ग्रीस, तुर्की, चीन, ईरान और स्पेन में भी की जाती है। लेकिन कश्मीर और हिमालय के केसर की गिनती उच्च कोटि के केसर में होती है और इसकी डिमांड पूरी दुनिया में है।

केसर इतना महंगा क्यों होता है

दरअसल, केसर के पौधे के फूलों से केसर निकाला जाता है। केसर के फूल को क्रोकस कहते हैं। Saffron के फूल को किसी मशीन से नहीं तोड़ा जाता है और हाथ से हटाया जाता है। इसलिए केसर के फूल जब भी खिलते हैं तो आमतौर पर उसी दिन तोड़े जाते हैं। ये फूल लंबे समय तक खिलते रहते हैं, इसलिए इन्हें तोड़ना आसान होता है। इन बैंगनी फूलों में केसर के धागे केसर होते हैं। प्रत्येक फूल में ऐसे केसर के केवल तीन नाजुक धागे होते हैं, जिसके अनुसार लगभग 90 हजार फूलों से केवल 500 ग्राम केसर ही प्राप्त होता है। यही कारण है कि केसर इतना महंगा है।

 केसर इतना महंगा क्यों है और केसर के क्या फायदे है?

कश्मीर या हिमालय में उगाया जाने वाला केसर दुनिया में उच्चतम गुणवत्ता के लिए प्रसिद्ध है। इसे सबसे महंगा और असरदार भी माना जाता है। कश्मीर में इसकी खेती सालों से होती आ रही है, कश्मीर की खूबसूरत घाटियों में ऐसे खूबसूरत और बेशकीमती पौधे लगाना स्वाभाविक है।

केसर मन और बुद्धि को खुश रखने में मदद करता है, मानसिक तनाव से दूर रखता है। यह गर्भवती महिला के गर्भ में मौजूद बच्चे के लिए भी उपयुक्त है। Saffron चेहरे पर चमक लाता है और यह वात नाशक भी है। Saffron के गर्म गुण के कारण इसे दूध के साथ लेने से प्रकृति में निखार आता है। हिमालयन केसर, अमेरिकी केसर, अफगान केसर, चीन केसर, हिमालयन केसर या कश्मीरी केसर बाजार में उपलब्ध सबसे अच्छे हैं।

केसर का उपयोग पाक प्रयोजनों के लिए या व्यंजनों के स्वाद के लिए किया जाता था। साथ ही यह दिमाग को शांत और ठंडा भी रखता है। यह भारतीय मीठे व्यंजनों में विशेष रूप से प्रयोग किया जाता है। इसके साथ ही आयुर्वेद में भी केसर का महत्व बताया गया है। यह दवा और उन्मूलन दोनों बनाता है। इसके शहद और बादाम के मिश्रण से बनी केसर के स्वाद वाली चाय कश्मीर में बहुत लोकप्रिय है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!