Menu Close

जब रानी लक्ष्मीबाई शहीद हुई तब उसकी उम्र क्या थी ?

जब रानी लक्ष्मीबाई शहीद हुई तब उसकी उम्र क्या थी ?

जब रानी लक्ष्मीबाई शहीद हुई तब उसकी उम्र क्या थी ?

जब रानी लक्ष्मीबाई शहीद हुई तब उसकी उम्र 29 साल थी। रानी लक्ष्मीबाई मराठा शासित झांसी राज्य की रानी और 1857 के विद्रोह की दूसरी शहीद थीं। महज 29 साल की उम्र में उन्होंने ब्रिटिश साम्राज्य की सेना से लड़ाई लड़ी और युद्ध के मैदान में शहीद हो गए। प्रथम शहीद वीरांगना रानी अवन्ति बाई लोधी है, जिन्होंने 20 मार्च 1858 को अपना बलिदान दिया। कहा जाता है कि लक्ष्मीबाई की मृत्यु सिर पर तलवार लगने से हुई थी।

रानी लक्ष्मीबाई कौन थी

लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवंबर 1828 को वाराणसी में हुआ था। उनके बचपन का नाम मणिकर्णिका था लेकिन प्यार से उन्हें मनु कहा जाता था। उनकी माता का नाम भागीरथीबाई और पिता का नाम मोरोपंत तांबे था। मोरोपंत मराठी थे और मराठा बाजीराव की सेवा में थे। माता भागीरथीबाई एक सुसंस्कृत, बुद्धिमान और धर्मपरायण प्रकृति की थीं, जब उनकी माता का देहांत हुआ। क्योंकि घर में मनु की देखभाल करने वाला कोई नहीं था, पिता मनु को अपने साथ पेशवा बाजीराव द्वितीय के दरबार में ले जाने लगे। जहां चंचल और सुंदर मनु को सभी लोग प्यार से “छबीली” कहकर बुलाते थे। मनु ने बचपन में ही शास्त्रों की शिक्षा के साथ-साथ शस्त्रों की शिक्षा ग्रहण की थी।

1842 में, उनका विवाह झांसी के मराठा शासित राजा गंगाधर राव नेवलकर से हुआ और वह झांसी की रानी बनीं। शादी के बाद उनका नाम लक्ष्मीबाई रखा गया। सितंबर 1851 में रानी लक्ष्मीबाई ने एक बेटे को जन्म दिया। लेकिन चार महीने की उम्र में उनका निधन हो गया। 1853 में, जब राजा गंगाधर राव की तबीयत खराब हुई, तो उन्हें एक दत्तक पुत्र की सलाह दी गई। 21 नवंबर 1853 को एक बेटे को गोद लेने के बाद राजा गंगाधर राव की मृत्यु हो गई। दत्तक पुत्र का नाम दामोदर राव रखा गया।

Related Posts