Menu Close

ITI और IIT में क्या अंतर है? टॉप 10 Difference जानें

आपने कभी न कभी ITI और IIT का नाम जरूर सुना होगा। चूंकि ये दोनों नाम लेने में एक जैसे लगते हैं, ऐसे में कई लोग इस नाम को लेकर भ्रमित हो जाते हैं और दोनों को भ्रमित कर देते हैं। लेकिन आपको बता दें कि दोनों में काफी अंतर है। दोनों में कुछ समानताएं भी हैं, जैसे दोनों टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में आते हैं और अपना कोर्स करने के बाद नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है। इस लेख में, ITI और IIT में क्या अंतर है यह जानेंगे।

ITI और IIT में क्या अंतर है

हालाँकि आपको IIT में उच्च श्रेणी की नौकरी मिल जाती है लेकिन इसकी डिग्री प्राप्त करने के लिए अधिक समय और धन दोनों की आवश्यकता होती है। एक ही आईटीआई आप आईआईटी से कम पैसे और कम समय में कर सकते हैं। दोनों के लिए भर्ती प्रक्रिया थोड़ी अलग है। एक तरफ जहां आप 10वीं या 12वीं पास करके आईटीआई में एडमिशन ले सकते हैं, वहीं आईआईटी में एडमिशन लेने के लिए आपको 12वीं पास करने के साथ-साथ इसकी एंट्रेंस परीक्षा भी पास करनी होती है।

ITI और IIT में क्या अंतर है

भारत में IIT का इतिहास बहुत पुराना है, वर्ष 1951 में देश के पहले संस्थान खड़गपुर की स्थापना हुई थी। तब से धीरे-धीरे विभिन्न राज्यों में IIT संस्थान स्थापित किए गए। अब तक देश में 23 आईआईटी हैं, जिनमें से हर साल लाखों छात्र पास आउट होते हैं। वहीं, रोजगार बढ़ाने के लिए ITI की स्थापना की गई है क्योंकि मध्यम और गरीब परिवार के छात्र इससे आसानी से सीख सकते हैं, आइए अब जानते हैं दोनों के बीच मुख्य क्या अंतर है।

1. आईटीआई को हिंदी में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान कहा जाता है जबकि आईआईटी को भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कहा जाता है।

2. ITI का पूर्ण रूप औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान है जबकि IIT का पूर्ण रूप भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान है।

3. एक तरफ जहां आप 10वीं और 12वीं पास कर आईटीआई में एडमिशन ले सकते हैं। वहीं दूसरी ओर आईआईटी में एडमिशन लेने के लिए साइंस सब्जेक्ट में 12वीं पास करने के साथ-साथ इसकी कठिन एंट्रेंस एग्जाम पास करना होता है जिसमें सिर्फ दो चांस होते हैं।

4. IIT के छात्र B.Tech करते हैं जो कि एक स्नातक की डिग्री है जबकि ITI एक डिप्लोमा कोर्स है।

5. अब आप भी दोनों की फीस का अंतर जानना चाहेंगे तो बता दें कि आईटीआई मध्यम और गरीब परिवार का छात्र भी कर सकता है क्योंकि इसकी फीस बहुत कम होती है। लेकिन IIT करने के लिए हर साल लाखों रुपये की फीस लगती है.

6. दोनों कोर्स करने से नौकरी मिलने की संभावना बढ़ जाती है, लेकिन ज्यादातर कंपनियां आईआईटी पास छात्रों को ही नौकरी देना पसंद करती हैं।

7. दोनों कोर्स को करने में समय का भी बड़ा अंतर होता है जैसे ITI को सिर्फ 2 साल में पूरा किया जा सकता है जबकि IIT को करने में 4 से 5 साल लगते हैं।

8. अगर आपके पास बहुत पैसा है तो आपको IIT की ओर जाना चाहिए। क्योंकि यह अपने आप में एक बेहतर भविष्य प्रदान करता है, निम्न आर्थिक स्थिति वाले छात्र आईटीआई करके सरकारी, निजी या अपना खुद का व्यवसाय कर सकते हैं।

9. वहीं, दोनों कोर्स के सालाना पैकेज में बड़ा अंतर है। आईटीआई पास करने वाले छात्रों को 10 से 20 हजार महीने का वेतन मिलता है। वहीं कंपनी IIT पास छात्रों को लाखों रुपये सैलरी ऑफर करती है।

10. दोनों के संस्थानों की संख्या में भी बड़ा अंतर है, देश में कुल 23 IIT संस्थान हैं जबकि लगभग सभी जिलों में आपको ITI संस्थान मिल जाएंगे।

तो अब आप जान गए होंगे कि ITI और IIT में क्या अंतर है, ज्यादातर छात्र इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने का सपना देखते हैं। लेकिन इसमें समय और पैसा भी अधिक लगता है,

इस पोस्ट में हमने, ITI और IIT में क्या अंतर है और टॉप 10 Difference क्या है यह सब जाना बाकी ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए नीचे दिए आर्टिकल जरूर पढ़े।

यह भी पढ़े –

Related Posts