Menu Close

आयनिक साम्य किसे कहते हैं | आयनिक साम्य के प्रकार

सोडा की बोतल में कार्बोनेटेड पानी में कार्बोनिक एसिड से कार्बन डाइऑक्साइड (यानी बुलबुले) और पानी के बीच संतुलन होता है। यह आयनिक साम्य (Ionic Equilibrium) का एक छोटा उदाहरण है। इस लेख में हम आयनिक साम्य किसे कहते हैं और आयनिक साम्य के प्रकार को जानेंगे।

आयनिक साम्य किसे कहते हैं | आयनिक साम्य के प्रकार

आयनिक साम्य किसे कहते हैं

कमजोर इलेक्ट्रोलाइट समाधान में गैर-आयनित अणुओं और आयनों के बीच संतुलन को आयनिक साम्य कहा जाता है। उदाहरण के लिए, एसिटिक एसिड एसीटेट और हाइड्रोजन आयनों में टूट जाता है। सरल शब्दों में, दुर्बल विद्युत अपघट्यों के विलयन में संघीकृत अणुओं और आयनों के बीच स्थापित संतुलन को आयनिक साम्य कहते हैं।

उदाहरण के लिए – एसिटिक एसिड को एसीटेट आयनों और हाइड्रोजन आयनों में तोड़ें:

CH3 COOH → CH3 COO- + H+

आयनिक साम्य के प्रकार

आयनिक साम्य दो प्रकार के होते हैं-

  1. गैर इलेक्ट्रोलाइट्स (Non-Electrolytes)
  2. इलेक्ट्रोलाइट्स (Electrolytes)

1. गैर इलेक्ट्रोलाइट्स (Non-Electrolytes)

गैर-इलेक्ट्रोलाइट्स (Non-Electrolytes) को आयनोमर्स पर गैर-आयनिक सोखना के समान तरीके से अधिशोषित किया जाता है। विचाराधीन पदार्थ और पॉलीइलेक्ट्रोलाइट के बीच विशिष्ट अंतःक्रियाओं द्वारा रोकथाम की सुविधा है। ये इंटरैक्शन या तो पॉलिमर मैट्रिक्स (लंदन इंटरेक्शन) या काउंटरियन में हो सकते हैं

2. इलेक्ट्रोलाइट्स (Electrolytes)

इलेक्ट्रोलाइट्स ऐसे पदार्थ हैं जो आयनीकरण द्वारा जलीय घोल में बिजली का संचालन कर सकते हैं।

इलेक्ट्रोलाइट्स दो प्रकार के होते हैं-

  1. मजबूत इलेक्ट्रोलाइट्स (Strong Electrolytes)
  2. कमजोर इलेक्ट्रोलाइट्स (Weak Electrolytes)

1. मजबूत इलेक्ट्रोलाइट्स (Strong Electrolytes)

इलेक्ट्रोलाइट्स जो पूरी तरह से या लगभग पूरी तरह से आयनित होते हैं उन्हें मजबूत इलेक्ट्रोलाइट्स कहा जाता है। नमक जैसे मजबूत इलेक्ट्रोलाइट्स विपरीत रूप से चार्ज किए गए आयनों से बने होते हैं। ठोस अवस्था में ये आयन प्रबल स्थिरवैद्युत आकर्षण के कारण बने रहते हैं।

जब ये इलेक्ट्रोलाइट्स पानी में घुल जाते हैं, तो पानी का उच्च ढांकता हुआ स्थिरांक आयनों के बीच गुरुत्वाकर्षण खिंचाव को काफी कमजोर कर देता है।

उदाहरण – Hydrochloric Acid, Nitric Acid, Sulphuric Acid, HydroBromic Acid, HydroIodic Acid, Per Chloric Acid


2. कमजोर इलेक्ट्रोलाइट्स (Weak Electrolytes)

इलेक्ट्रोलाइट्स जिन्हें उनके जलीय उत्तर के कमजोर रूप से आयनित किया जा सकता है उन्हें कमजोर इलेक्ट्रोलाइट्स कहा जाता है।

कमजोर इलेक्ट्रोलाइट्स के जलीय उत्तर में, घटक आयन इलेक्ट्रोलाइट्स के असंबद्ध अणुओं के साथ संतुलन में होते हैं। जलीय उत्तर में आयनों से संबंधित संतुलन के इस रूप को आयनिक संतुलन कहा जाता है।

उदाहरण – Hydrocyanic acid, Ammonium hydroxide, Ammonia, Hydrofluoric acid, Carbonic acid, Mercuric chloride

यह भी पढ़ें-

Related Posts

error: Content is protected !!