Menu Close

इंद्रधनुष क्या है इसका निर्माण कैसे होता है

आपने अक्सर आसमान में इंद्रधनुष को देखा होगा और उसके खूबसूरत रंगों को निहारा होगा। सुंदर सा लगनेवाला यह सप्तरंगी इंद्रधनुष देखकर आपके मन में जरूर सवाल आया होगा की वास्तव में इंद्रधनुष क्या है इसका निर्माण कैसे होता है? तो इस लेख में इन सभी प्रश्नों का जवाब आसान हिन्दी में देने जा रहे है।

इंद्रधनुष क्या है इसका निर्माण कैसे होता है

इंद्रधनुष क्या है

इंद्रधनुष यह आसमान में लाल, नारंगी, पीला, हरा, आसमानी नीला और बैंगनी इन सात रंगों का अर्धगोलकर वक्र है जो पानी के बूंदों से बनता है। इन्द्रधनुष के सुंदर रंगों का कारण बारिश या बादल में पानी की छोटी-छोटी बूंदों या कणों पर पड़ने वाली सूर्य की किरणों का बिखराव है। सूर्य की किरणें वर्षा की बूंदों से अपवर्तित और परावर्तित होकर इंद्रधनुष का निर्माण करती हैं। इंद्रधनुष हमेशा तभी दिखाई देता है जब सूर्य पीछे होता है। इंद्रधनुष तब भी देखा जा सकता है जब सूर्य की किरणें पानी के छींटे पर गिरती हैं।

इंद्रधनुष कैसे बनता है

एक इंद्रधनुष तब बनता है जब सफेद प्रकाश पानी की एक बूंद में प्रवेश करते समय मुड़ा हुआ (अपवर्तित) होता है, अलग-अलग रंगों में विभाजित होता है, और वापस परावर्तित होता है। इंद्रधनुष वास्तव में एक सर्कल की तरह गोल होता है। इंद्रधनुष अक्सर बारिश और तूफानों के बाद दिखाई देते हैं।

इंद्रधनुष एक मौसम संबंधी घटना है जो पानी की बूंदों में प्रकाश के परावर्तन, अपवर्तन और फैलाव के कारण होती है जिसके परिणामस्वरूप आकाश में प्रकाश का एक स्पेक्ट्रम दिखाई देता है। यह एक बहुरंगी वृत्ताकार चाप का रूप धारण कर लेता है। सूर्य के प्रकाश के कारण होने वाले इंद्रधनुष हमेशा सूर्य के ठीक विपरीत आकाश के खंड में दिखाई देते हैं। इंद्रधनुष पूर्ण गोलाकार हो सकते हैं। हालांकि, प्रेक्षक आम तौर पर जमीन के ऊपर प्रबुद्ध बूंदों द्वारा बनाई गई एक चाप को देखता है, और सूर्य से पर्यवेक्षक की आंख तक एक रेखा पर केंद्रित होता है।

इंद्रधनुष का निर्माण कैसे होता है

वर्षा ऋतु में जब जल की बूंदें सूर्य पर गिरती हैं तो सूर्य की किरणों के विक्षेपण से सुन्दर रंग से बने इंद्रधनुष का निर्माण होता है। लाल, नारंगी, पीला, हरा, आसमानी नीला और बैंगनी रंग का एक विशाल गोलाकार वक्र कभी-कभी शाम को, पूर्व में और सुबह पश्चिम में आकाश में दिखाई देता है। यह इंद्रधनुष कहलाता है।

जब वर्षा की बूंदों पर पड़ने वाली सूर्य की किरणें दो बार अपवर्तित होती हैं और एक बार परावर्तित होती हैं, तो प्राथमिक इंद्रधनुष बनता है। प्राथमिक इंद्रधनुष में, लाल रंग बाहर की तरफ होता है और बैंगनी रंग अंदर की तरफ होता है। इसमें आंतरिक बैंगनी किरण आंख से 40°8′ का कोण बनाती है और बाहरी लाल किरण आंख से 42°8′ का कोण बनाती है।

यह भी पढ़े –

Related Posts