मेन्यू बंद करे

Banni Buffalo: बन्नी नस्ल भैंस की पहचान, विशेषताएं और कीमत

बन्नी भैंस (Banni Buffalo) भैंस की पहचान, विशेषताएं और कीमत: बन्नी भैंस जिसे कच्छी या कुंडी के नाम से भी जाना जाता है, भैंस की एक नस्ल है जो मुख्य रूप से भारत के गुजरात के कच्छ जिले में पाई जाती है। भैंस की इस नस्ल को आमतौर पर कच्छ में पाए जाने वाले एक स्थानीय समुदाय द्वारा पाला जाता है, जिसे ‘मालधारी’ कहा जाता है। एक औसत बनी भैंस प्रतिदिन लगभग 12 से 18 लीटर दूध देती है।

Banni Buffalo: बन्नी नस्ल भैंस की पहचान, विशेषताएं और कीमत

बन्नी नस्ल भैंस की जानकारी

बन्नी भैंस (Banni Buffalo) में अधिक सामान्य नस्लों की तुलना में ज्यादा दूध देती है। यह ‘मालधारी’ समुदाय के लिए आजीविका का मुख्य स्रोत भी बन गया है, और वे धीरे-धीरे मुंबई जैसे अन्य क्षेत्रों में भी लोकप्रियता प्राप्त कर रही हैं। 

बन्नी भैंस भारत के किसी भी वातावरण में रहने के लिए अनुकूल है। इस तरह भैंस की बाकी प्रजाति अनुकूल नहीं है। जैसे – मुर्रा और जाफराबादी। यह प्राकृतिक रूप से खाने योग्य सभी तरह की घाँस कहती है औ विभिन्न जलवायु प्रदेशों में दूध उत्पादन करती है। यह बौद्धिक रूप से काफी तेज भैंस मानी जाती है।

स्वभाव में शांत और तेज दिमाग के साथ यह चरने के बाद अपने आप अपने मालिक के स्थान पर लौट आती है। साथ में दूध निकलते समय काफी शांति के साथ व्यवहार करती है।

बन्नी नस्ल भैंस की पहचान

बन्नी भैंस का शरीर छोटा, पच्चर के आकार का होता है जो मध्यम से बड़े आकार का हो सकता है। उनके शरीर की लंबाई 61 इंच, चेहरे की लंबाई 21 इंच है, उनकी पूंछ की लंबाई 35 इंच है। औसतन, एक नर और मादा बन्नी भैंस का वजन क्रमशः 500 – 580 किलोग्राम तक होता है। उनके कान की लंबाई लगभग 12इंच होती है। इसके सिर का सींगों के आधार की ओर कोई ढलान नहीं होता है। 

मादी में गर्दन का क्षेत्र मध्यम और पतला पाया जाता है जबकि नर में यह मोटा और भारी होता है। व्यापक उत्पादन प्रणालियों के तहत चराई के अनुकूलन के प्रभाव के कारण, उनके खुर काले, छोटे और मजबूती से जुड़े होते हैं। बन्नी भैंसों का शरीर अच्छी तरह विकसित होता है। 

सामान्यतः बन्नी भैंस का रंग काला होता है, जिसमें से 5% भूरे रंग के होते हैं। अन्य विशिष्ट रूपों में उनके माथे, पूंछ और उनके निचले पैरों पर सफेद धब्बे शामिल हैं। इनकी आंखों का रंग काला होता है और पूंछ सफेद और काले दोनों रंग की होती है।

बन्नी भैंस की विशेषताएं 

बन्नी भैंस की विशेषताएं 

बन्नी भैंस रात में चरने में सक्षम होती है। झुंड में भी यह काफी शांति के साथ चरती है। झुंड और उनमें जानवरों की विशालता के बावजूद, भैंस शायद ही कभी खो जाती है या एक अलग झुंड के साथ मिल जाती है। रात में चरने का यह गुण उन्हें कठोर दिन के तापमान से बचने और तापमान के अंतर को समायोजित करने की अनुमति देता है।

National Bureau of Animal Genetic Research (NBAGR), Karnal और Sardar Krishinagar Dantiwada Agricultural University (SDAU) द्वारा किए गए जीनोटाइपिंग के अनुसार, यह पुष्टि की गई है कि बन्नी भैंस एक अलग नस्ल है। बन्नी भैंस को कुछ विशेष विशेषताओं के लिए जाना जाता है। इन विशेषताओं में से एक उच्च दूध उत्पादन के लिए उनकी आनुवंशिक क्षमता है। औसत वार्षिक दूध उपज 6000 लीटर है और दैनिक दूध की उपज 18-19 लीटर है। 

बन्नी भैंस की कीमत

बन्नी भैंस अच्छे नस्ल की दुधारी भैंस मानी जाती है। वर्तमान में, इसकी न्यूनतम कीमत ₹90 हजार के ऊपर है। बाजार में इसकी मांग को देखते हुआ लगता है की आने वाले दिनों में इसकी कीमत और बढ़ सकती हैं।

यह भी पढे:

Related Posts