मेन्यू बंद करे

कर्जदार की मृत्यु होने पर, बैंक कर देगा लोन माफ? जानिए क्या है नियम

Bank Loan Recovery: आजकल बैंकों से कर्ज लेना बहुत आसान हो गया है। कई बैंक अपने ग्राहकों को Home Loan, Business Loan, Personal Loan के लिए अप्लाई करने की ऑनलाइन सुविधा भी देते हैं। आमतौर पर लोग सोचते हैं कि कर्ज चुकाने से पहले अगर किसी की मौत हो गई तो बैंक उसका कर्ज माफ कर देता है, लेकिन ऐसा नहीं है। इस लेख में हम, कर्जदार की मृत्यु होने पर बैंक लोन रिकवरी किससे और कैसे करता है जानेंगे।

कर्जदार की मृत्यु होने पर बैंक लोन रिकवरी किससे और कैसे करता है

कर्जदार की मृत्यु होने पर बैंक लोन रिकवरी किससे करता है

यदि किसी व्यक्ति की मृत्यु बैंक से किसी भी प्रकार के लोन जैसे Car Loan, Home Loan, Business Loan आदि को चुकाने से पहले लेने के बाद हो जाती है, तो बैंक लोन माफ नहीं करता है। कर्जदार की मृत्यु के बाद, उसके उत्तराधिकारी को लोन चुकाना पड़ता है। ऐसे कर्ज की वसूली के लिए बैंक ने कई अलग-अलग नियम बनाए हैं। आजकल ज्यादातर होम लोन, कार लोन आदि का भुगतान करते समय टर्म इंश्योरेंस करवा लिया जाता है। इससे यदि किसी कर्जदार की मृत्यु हो जाती है तो टर्म इंश्योरेंस के पैसे से बची हुई राशि का भुगतान कर शेष राशि को कर्ज मुक्त किया जा सकता है।

कर्जदार की मृत्यु के बाद लोन कैसे वसूल किया जाता है

किसी भी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसकी सारी संपत्ति उसके उत्तराधिकारी के पास ही जाती है। ऐसे में संपत्ति के साथ कर्ज चुकाने का भार वारिस को उठाना पड़ता है। ऐसे में अगर लोन के साथ इंश्योरेंस है तो इंश्योरेंस के पैसे से लोन आसानी से चुकाया जा सकता है। यदि संपत्ति (होम लोन) खरीदते समय टर्म इंश्योरेंस नहीं किया जाता है, तो ऐसी स्थिति में बैंक घर को कुर्क कर उसे नीलाम कर उसके लोन का पैसा वसूल कर लेता है।

अगर किसी व्यक्ति ने बैंक से होम लोन लिया है और उसकी मृत्यु हो जाती है, तो ऐसे में बैंक पहले यह जांचता है कि उसका परिवार इस कर्ज को चुकाने में सक्षम है या नहीं। यदि वह लोन चुकाने की स्थिति में नहीं है, तो बैंक उसके लोन को संपत्ति, सोना, शेयर, Fixed Deposit आदि के माध्यम से वसूल करता है, जिसे व्यवसाय लोन लेते समय लोन गारंटी के रूप में रखा गया है।

कई लोग कर्ज लेते समय बीमा करा लेते हैं, ऐसे में इस बीमा के जरिए बची हुई रकम की वसूली कर ली जाती है। वहीं, बीआईएन जैसे क्रेडिट कार्ड का भुगतान भी मृतक के उत्तराधिकारी को करना होगा। वहीं पर्सनल लोन में भी यही नियम फॉलो किया जाता है।

यह भी पढ़ें-

Related Posts