Menu Close

गोरोचन क्या होता है

आपने पूजा में अक्सर गोरोचन का नाम सुना होगा। आप में से बहुत कम लोग जानते होंगे कि ‘Gorochan‘ वास्तव में क्या है? गोरोचन के कई उपयोग हैं, जिनमें से सबसे लोकप्रिय उपयोग वशीकरण का है। इस लेख में हम गोरोचन क्या होता है जानेंगे।

गोरोचन क्या होता है

गोरोचन क्या होता है

गोरोचन एक पीले रंग का सुगंधित पदार्थ होता है जिसमें हल्की लालिमा होती है। यह मोम की तरह होता है और सूखने पर सख्त हो जाता है। इसे गौ पित्त भी कहा जाता है क्योंकि यह गाय के पित्त में बनने वाला एक पत्थर है, जिसे गाय की मृत्यु के बाद निकाल दिया जाता है।

गोराचन सभी गायों में नहीं पाया जाता है। यह कुछ विशेष परिस्थितियों में ही गायों के पित्त में बनता है। यह किस गाय में बनाया जा रहा है इसका पता तो जानकार ही लगा सकते हैं। बाजार में यह पूजा सामग्री की दुकान पर उपलब्ध है। लेकिन इसे हासिल करने के लिए गाय को मारना बिल्कुल मना है।

गोरोचन गाय के पेट में बनने वाली एक अस्मारी (पत्थर) है, जो गाय की मृत्यु के बाद प्राप्त होती है। इसलिए यह थोड़ा महंगा भी है। आजकल लोग पैसे के लालच में गायों को मारते हैं और गोरोचन निकालते हैं, जो बिल्कुल गलत और नाजायज है। जीव को मारने से जो औषधि या पूंजी प्राप्त होती है वह सुख नहीं दुःख देगी।

आमतौर पर यह हर गाय में नहीं पाया जाता है, यह उस गाय से प्राप्त होता है जिसमें यह पत्थर बनता है। आजकल बाजार में गोरोचन के नाम पर धोखाधड़ी बढ़ती जा रही है। पूजा के लिए किराने की दुकान पर मिले गोरोचन का इस गोरोचन से कोई लेना-देना नहीं है। बाजार में मिलने वाला गोरोचन गाय के पित्त में कैल्शियम और रंग मिलाकर तैयार किया जाता है।

शुद्धता परीक्षण

गाय में पित्त के जमा होने से गोरोचन बनता है। इसलिए जब भी गोरोचन की जांच करनी हो, तो उसे तोड़कर देखें कि उसके अंदर गोलाकार आकृतियाँ दिखाई देंगी। इन वृत्तों को आवर्धक कांच के माध्यम से आसानी से देखा जा सकता है। लेकिन अगर गोरोचन कृत्रिम है तो उसे तोड़ने पर उसमें ये घेरे बिल्कुल नहीं मिलेंगे। कृत्रिम गोरोचन अंदर से चपटा होता है, बिना रेखाओं के।

इसका परीक्षण करने के लिए आप गोरोचन को पानी में घोलकर आजमाएं, अगर यह पानी में आसानी से घुल जाए तो यह कृत्रिम गोरोचन है, क्योंकि शुद्ध गोरोचन पानी में नहीं घुलता है। मूल गोरोचन को पानी से मलने पर उसका रंग नहीं बदलता है। अगर गोरोचन नकली है तो चूने के पानी से रगड़ने पर यह अपना रंग छोड़ देता है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!