Menu Close

घड़ी का आविष्कार किसने किया और यह आविष्कार कब हुआ

आज के इस लेख में हम जानेंगे कि घड़ी का आविष्कार किसने किया और कब हुआ? जैसा कि हम सभी जानते हैं कि आज के समय में घड़ी का हमारे जीवन में बहुत महत्व है क्योंकि सुबह उठते ही हमें समय दिखाई देता है और इसी समय के साथ हमारा दिन भी बीत जाता है। आज आप जो भी घड़ी देखते हैं वह शुरुआत में ऐसी नहीं है, बहुत सारे बदलावों के बाद इसे इस तरह बनाया गया है, किसी ने पहले घंटे की घड़ी बनाई और किसी ने मिनट की घड़ी बनाई, इस तरह इसे कई चरणों में बनाया गया है।

घड़ी का आविष्कार किसने किया और यह आविष्कार कब हुआ

बहुत से लोग सोच रहे होंगे कि जब घड़ी का आविष्कार नहीं हुआ तो लोगों ने समय को कैसे देखा, इसलिए प्राचीन काल में लोग इसके लिए धूप का सहारा लेते थे। जबकि बारिश में जब सूरज नहीं निकला तो लोग पानी से भी समय का अंदाजा लगा लेते थे। वाटर क्लॉक के आविष्कार का श्रेय चीन के सु सांग नाम के व्यक्ति को जाता है, लेकिन यह कारगर नहीं रहा क्योंकि इन्हें एक जगह से दूसरी जगह नहीं ले जाया जा सकता था। ऐसे में आविष्कारक के पास एक पोर्टेबल घड़ी बनाने का विचार आया, जिसे लोग अपने साथ ले जा सकते हैं और किसी भी समय समय देख सकते हैं।

घड़ी का आविष्कार किसने किया और कब हुआ

आपको बता दें कि घड़ी का आविष्कार जर्मनी के नूर्नबर्ग शहर में पीटर हेनलेन ने किया था, यह एक ऐसी घड़ी थी जिसे लोग अपने साथ ले जा सकते थे और यह आज की तरह ही सटीक समय बताती है। इस घड़ी को आज भी बहुत अच्छे से रखा गया है, जिसे आप संग्रहालय में देख सकते हैं। पीटर हेनलेन द्वारा बनाई गई घड़ी की तकनीक का उपयोग करके आज की उन्नत घड़ियों को बनाया गया है।

लोग पीटर हेनलेन द्वारा बनाई गई घड़ी को अपनी जेब में रख सकते थे, लेकिन इसमें एक समस्या थी क्योंकि समय देखने के लिए इसे बार-बार जेब से निकालना पड़ता था। इस समस्या को खत्म करने का विचार फ्रांसीसी गणितज्ञ और दार्शनिक ब्लेज़ पास्कल के पास आया क्योंकि उन्होंने हाथ से पहनी जाने वाली घड़ी को विकसित किया था, यह भी ब्लेज़ पास्कल ही हैं जिन्होंने कैलकुलेटर का आविष्कार किया था।

सन् 1650 तक लोग जेब में घड़ी लेकर इधर-उधर घूमते थे, लेकिन उसके बाद ब्लेज़ पास्कल ने इस घड़ी को हाथ में बांधने में सक्षम बना दिया और यह प्रयास आज भी लोगों के लिए काम कर रहा है। भले ही आज हमारे पास उन्नत डिजिटल घड़ियाँ हैं लेकिन वे हाथ में भी पहनी जाती हैं और इन हाथ पहनने का विचार ब्लेज़ पास्कल को आया।

भारत में घड़ी का आविष्कार

ऐसा नहीं है कि भारत में टाइम-वॉचिंग तकनीक बनाने का प्रयास नहीं किया गया था, लेकिन भारत में ब्रिटिश शासन से सैकड़ों साल पहले, 18 वीं शताब्दी की शुरुआत में, जयपुर के महाराजा जय सिंह द्वितीय ने जयपुर शहर की स्थापना की, नई दिल्ली, उज्जैन, मथुरा और वाराणसी। कुल मिलाकर, पांच जंतर मंतर बनाए गए थे। इनका निर्माण 1724 और 1735 के बीच पूरा हुआ था, जो सभी सूरज की रोशनी से समय बताते हैं।

पीटर हेनलेन द्वारा बनाई गई घड़ी की बात करें तो यह एक बॉक्स के आकार की थी जो आप फोटो में देख सकते हैं। इसके निचले हिस्से में छोटे-छोटे हिस्से लगे होते हैं जबकि ऊपरी हिस्से को ढक्कन से ढका जाता है जिसे खोला और बंद किया जा सकता है। यह घड़ी तांबे और सोने से बनी थी, जिसकी वर्तमान कीमत 3 से 50 मिलियन यूरो आंकी गई है।

तो अब आप समझ ही गए होंगे कि घड़ी का आविष्कार किसने किया और यह आविष्कार कब हुआ आज के समय में हमारे पास घड़ी का एक आधुनिक रूप है, स्मार्ट घड़ी, जो समय बताने के अलावा मोबाइल, स्वास्थ्य आदि के बारे में भी जानकारी देती है। आज कई चीजों का विकास हो चुका है।

यह भी पढ़े –

Related Posts