मेन्यू बंद करे

घड़ी का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया था

समय हमारे जीवन में सबसे महत्वपूर्ण कारकों में से एक है। हम हर चीज को समय के हिसाब से मापते हैं। घड़ी एक ऐसा उपकरण है जिसका उपयोग सदियों से समय मापने के लिए किया जाता रहा है। यह अब तक के सबसे महत्वपूर्ण आविष्कारों में से एक है। इस लेख में, हम घड़ी का आविष्कार किसने, कब और कैसे किया था जानेंगे।

मापने के समय की उत्पत्ति समय को मापने की अवधारणा को प्राचीन दुनिया में देखा जा सकता है। समय मापने की सबसे पुरानी ज्ञात विधि धूपघड़ी थी। सूर्यघड़ी का उपयोग सूर्य की स्थिति से दिन के समय को मापने के लिए किया जाता था। सूंडियल का उपयोग सदियों से किया जाता रहा है, और यह घड़ी के आविष्कार तक समय मापने की प्राथमिक विधि थी।

घड़ी का आविष्कार किसने किया था

घड़ी का आविष्कार घड़ी का आविष्कार 14वीं सदी में यूरोप में हुआ था। पहली यांत्रिक घड़ी का आविष्कार 1364 में Giovanni de Dondi नाम के एक व्यक्ति ने किया था। वह एक इतालवी चिकित्सक, इंजीनियर और खगोलशास्त्री थे। घड़ी को एस्ट्रारियम कहा जाता था, और यह एक जटिल यांत्रिक उपकरण था जो सूर्य, चंद्रमा और ग्रहों की स्थिति प्रदर्शित करता था।

एस्ट्रारियम एक बड़ी घड़ी थी जो छह फीट से अधिक लंबी थी। इसमें कई डायल थे जो आकाशीय पिंडों की स्थिति दिखाते थे। घड़ी वज़न द्वारा संचालित थी, और इसमें एक जटिल तंत्र था जो डायल की गति को नियंत्रित करता था।

घड़ी का आविष्कार कैसे हुआ

समय को सटीक रूप से मापने की आवश्यकता के कारण घड़ी का आविष्कार किया गया था। धूपघड़ी बहुत सटीक नहीं थी क्योंकि यह सूर्य की स्थिति पर निर्भर थी। यह बहुत विश्वसनीय नहीं था क्योंकि यह रात में, बादलों के दिनों में, या सर्दियों के दौरान जब दिन छोटे होते थे, काम नहीं करता था।

इन सीमाओं को पार करने के लिए घड़ी का आविष्कार किया गया था। घड़ी एक यांत्रिक उपकरण थी जो मौसम या दिन के समय की परवाह किए बिना समय को सटीक रूप से माप सकती थी। घड़ी को वज़न या स्प्रिंग्स द्वारा संचालित किया गया था, और इसमें एक तंत्र था जो हाथों की गति को नियंत्रित करता था।

शुरुआती घड़ियाँ बहुत सरल थीं और बहुत सटीक नहीं थीं। उन्होंने हाथों की गति को नियंत्रित करने के लिए बैलेंस व्हील और वर्ज एस्केपमेंट का इस्तेमाल किया। बैलेंस व्हील एक सरल तंत्र था जो आगे और पीछे दोलन करता था, और कगार से निकलने से हाथों की गति नियंत्रित होती थी।

पेंडुलम घड़ी का आविष्कार 17वीं शताब्दी में हुआ था। पेंडुलम घड़ी पहले की घड़ियों की तुलना में एक बड़ा सुधार था। पेंडुलम घड़ी हाथों की गति को नियंत्रित करने के लिए पेंडुलम का उपयोग करती थी, और यह पहले की घड़ियों की तुलना में कहीं अधिक सटीक थी।

कन्क्लूजन

अंत में, घड़ी अब तक के सबसे महत्वपूर्ण आविष्कारों में से एक है। इसने हमें समय को सटीक रूप से मापने की अनुमति दी है, जिसका हमारे जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा है। घड़ी का आविष्कार 14वीं शताब्दी में Giovanni de Dondi द्वारा किया गया था, और यह एक जटिल यांत्रिक उपकरण था जो सूर्य, चंद्रमा और ग्रहों की स्थिति प्रदर्शित करता था। घड़ी का आविष्कार समय को सटीक रूप से मापने की आवश्यकता के कारण किया गया था और सदियों से इसमें कई सुधार हुए हैं। घड़ी मानव सरलता और नवीनता का एक वसीयतनामा है, और यह भविष्य में समय को मापने के लिए एक आवश्यक उपकरण बनी रहेगी।

Related Posts