मेन्यू बंद करे

फर्जी कॉल की शिकायत कैसे और कहां करें

कई लोग अनजान नंबर से कॉल आने से परेशान हैं। कॉल करने वाले कभी-कभी अलग-अलग तरीकों से लोगों को परेशान करते हैं। जैसे-जैसे इंटरनेट का इस्तेमाल बढ़ रहा है वैसे ही साइबर फ्रॉड के मामले भी उसी रफ्तार से बढ़ रहे हैं। साइबर ठग नए-नए हथकंडे अपनाकर लोगों को ठग रहे हैं। बैंकों से लेकर सभी वित्तीय सेवा प्रदाताओं और सरकार तक समय-समय पर ऑनलाइन फ्रॉड को लेकर लोग अलर्ट करते रहते हैं। इस लेख में हम, फर्जी कॉल की शिकायत कैसे और कहां करें, फ्रॉड कॉल करने की सजा क्या है, फर्जी कॉल से बचने के लिए किन बातों ध्यान रखना चाहिए और विदेशी फर्जी कॉल की शिकायत कैसे करें इन सभी बिंदुओं पर प्रकाश डालेंगे।

फर्जी कॉल की शिकायत कैसे और कहां करें

फर्जी कॉल की शिकायत कैसे और कहां करें

भारत के गृह मंत्रालय ने फर्जी कॉल की शिकायतों के लिए 1930 यह हेल्पलाइन नंबर जारी किया है। अगर आप किसी भी तरह के ऑनलाइन फ्रॉड के शिकार हैं तो तुरंत इस नंबर पर कॉल करें। इसके साथ दिल्ली पुलिस ने ऑनलाइन धोखाधड़ी से संबंधित शिकायतों के लिए एक नया हेल्पलाइन नंबर 1900 भी दिया है।

अगर आपके साथ इंटरनेट से जुड़ा कोई अपराध हुआ है तो आप इस नंबर पर कॉल करके अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके अलावा आप साइबर क्राइम की वेबसाइट www.cybercrime.gov.in पर भी अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। यदि आप हेल्पलाइन नंबर पर कॉल करते हैं, तो आपसे घटना का नाम, नंबर और समय पूछा जाएगा। बेसिक डिटेल्स लेते हुए, इसे संबंधित पोर्टल और उस बैंक, ई-कॉमर्स के डैश बोर्ड पर भेज दिया जाएगा। साथ ही पीड़ित के बैंक से भी जानकारी साझा की जाएगी।

फ्रॉड कॉल करने की सजा क्या है

कोई आपको अनजान नंबरों से फ्रॉड कॉल करके परेशान करता है या कुछ पॉलिसी और नए ऑफर बताकर आपको बार-बार प्लान देने की कोशिश करता है। अगर कोई मदद के नाम पर इमोशनल कॉल करता है और पैसे मांगता है तो ऐसे सभी मामले इंडियन टेलीग्राफ एक्ट की धारा 25सी के तहत अपराध की श्रेणी में आते हैं। ऐसे मामलों में तीन साल तक कारावास या जुर्माना, दोनों से दंडित किया जा सकता है।

फ्रॉड कॉल करने की सजा क्या है

फर्जी कॉल से बचने के लिए किन बातों ध्यान रखना चाहिए

डिजिटलाइजेशन के दौर में साइबर क्राइम की संख्या में जबरदस्त इजाफा हुआ है। जालसाज लोगों को ठगने के लिए नए-नए हथकंडे अपनाते रहते हैं। ऐसे में आपको बेहद सावधान रहने की जरूरत है। जालसाज लोगों को ठगने के लिए सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं। क्योंकि लोग अपना ज्यादातर समय सोशल मीडिया साइट्स पर ही बिताते हैं। साइबर अपराधी सोशल मीडिया साइट्स पर तरह-तरह के डिस्काउंट का लालच दिखाकर लोगों को लूटते हैं.

बंपर छूट, लॉटरी जीतने या पुरस्कार जीतने के लिए सोशल मीडिया पर विज्ञापनों के झांसे में न आएं। अगर आप भी डिस्काउंट का विज्ञापन देखकर कुछ शॉपिंग करने का प्लान कर रहे हैं तो सबसे पहले उस वेबसाइट के बारे में अच्छे से जान लें। अगर कुछ भी संदिग्ध लगे तो खरीदारी न करें। अगर आप कोई सामान ले जा रहे हैं तो कैश ऑन डिलीवरी का ही विकल्प चुनें या ऑफलाइन मार्केट चुने। इससे आपकी बैंक डिटेल्स साइबर अपराधियों तक नहीं पहुंच पाएंगी।

विदेशी फर्जी कॉल की शिकायत कैसे करें

कई बार लोगों के फोन पर विदेश से कॉल आते हैं। भारत में पाकिस्तान, नेपाल और अन्य देशों के सिम कार्ड लाकर जालसाज आपके नंबर पर मैसेज या कॉल करके बैंकों आदि से जुड़ी जानकारी हासिल कर लेते हैं। ऐसे विदेशी फर्जी कॉल की शिकायत आप ट्राई के टोल फ्री नंबर 1800110420 पर कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें-

Related Posts