मेन्यू बंद करे

वास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान का काउंटर किस दिशा में होना चाहिए

वास्तु शास्त्र एक प्राचीन भारतीय विज्ञान है जो दुकानों सहित इमारतों के डिजाइन, निर्माण और लेआउट से संबंधित है। वास्तु शास्त्र के अनुसार, दुकान काउंटर की स्थिति और दिशा व्यवसाय की सफलता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। इस लेख में, हम वास्तुवास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान का काउंटर किस दिशा में होना चाहिए जानेंगे।

वास्तु शास्त्र में दुकान काउंटर दिशा का महत्व

शॉप काउंटर किसी भी खुदरा व्यापार का केंद्र बिंदु होता है। यह वह स्थान है जहां ग्राहक अपनी खरीदारी करते हैं और दुकानदार से बातचीत करते हैं। वास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान के काउंटर की स्थिति और दिशा दुकान में ऊर्जा के प्रवाह को प्रभावित कर सकती है, जो व्यवसाय की सफलता को प्रभावित कर सकती है।

यदि दुकान का काउंटर गलत दिशा में रखा गया है, तो इससे ऊर्जा का नकारात्मक प्रवाह हो सकता है, जिसके परिणामस्वरूप व्यापार और राजस्व की हानि हो सकती है। इसलिए, दुकान का लेआउट डिजाइन करते समय और दुकान काउंटर लगाते समय वास्तु सिद्धांतों का पालन करना आवश्यक है।

दुकान का काउंटर किस दिशा में होना चाहिए

वास्तु शास्त्र के अनुसार दुकान के काउंटर की आदर्श दिशा दुकान का आग्नेय कोना है। इस दिशा को “अग्नि कोण” के रूप में जाना जाता है और यह अग्नि तत्व से संबंधित है। व्यावसायिक गतिविधियों के लिए दक्षिण-पूर्व दिशा को शुभ माना जाता है और इस दिशा में दुकान का काउंटर रखने से सकारात्मक ऊर्जा और सफलता मिलती है।

यदि दुकान के काउंटर को आग्नेय कोण में रखना संभव न हो तो अगली सबसे अच्छी दिशा उत्तर या पूर्व दिशा है। उत्तर दिशा धन के देवता कुबेर से जुड़ी हुई है और इस दिशा में दुकान काउंटर रखने से आर्थिक समृद्धि आ सकती है। पूर्व दिशा सूर्य से जुड़ी हुई है और इस दिशा में दुकान का काउंटर रखने से सकारात्मक ऊर्जा और सफलता मिलती है।

दुकान का काउंटर दक्षिण-पश्चिम या उत्तर-पश्चिम दिशा में रखने से बचना चाहिए। नैऋत्य दिशा पृथ्वी तत्व से जुड़ी है और व्यावसायिक गतिविधियों के लिए शुभ नहीं मानी जाती है। दुकान का काउंटर इस दिशा में रखने से व्यापार और राजस्व की हानि हो सकती है। उत्तर-पश्चिम दिशा हवा से जुड़ी हुई है और इस दिशा में दुकान का काउंटर रखने से व्यवसाय में स्थिरता और स्थिरता की कमी हो सकती है।

शॉप काउंटर के लिए अन्य वास्तु टिप्स

दिशा के अलावा, अन्य वास्तु टिप्स भी हैं जिन्हें दुकान के काउंटर को डिजाइन करते समय ध्यान में रखना चाहिए। इनमें से कुछ युक्तियों में शामिल हैं:

  1. दुकान का काउंटर आयताकार या वर्गाकार होना चाहिए।
  2. दुकान का काउंटर बहुत ऊंचा या बहुत नीचा नहीं होना चाहिए।
  3. दुकान का काउंटर लकड़ी या अन्य प्राकृतिक सामग्री से बना होना चाहिए।
  4. दुकान का काउंटर साफ और अव्यवस्था मुक्त होना चाहिए।
  5. दुकान का काउंटर सीधे दुकान के प्रवेश द्वार के सामने नहीं होना चाहिए।
  6. दुकान के काउंटर पर कैश बॉक्स या कैश रजिस्टर दक्षिण-पूर्व दिशा में होना चाहिए।
  7. दुकान के काउंटर में उत्तर पूर्व दिशा में जल तत्व, जैसे फव्वारा या एक्वेरियम होना चाहिए।

कन्क्लूजन

अंत में, वास्तु शास्त्र के अनुसार किसी व्यवसाय की सफलता के लिए शॉप काउंटर की दिशा महत्वपूर्ण है। दुकान के काउंटर को दक्षिण-पूर्व दिशा में रखने से सकारात्मक ऊर्जा और समृद्धि आकर्षित हो सकती है, वहीं गलत दिशा में रखने से व्यापार और राजस्व में हानि हो सकती है। सकारात्मक ऊर्जा और सफलता के प्रवाह को सुनिश्चित करने के लिए दुकान के लेआउट को डिजाइन करते समय वास्तु सिद्धांतों का पालन करना आवश्यक है।

Related Posts