Menu Close

डॉप्लर प्रभाव क्या है | Doppler effect in Hindi

डॉप्लर प्रभाव (Doppler effect) की खोज “Christian Doppler” ने की थी, जिन्होंने सबसे पहले इस प्रभाव को तारों के प्रकाश में वृद्धि और कमी के रूप में समझाया था क्योंकि तारे उस सापेक्ष गति करते रहते हैं जिससे उनका प्रकाश बढ़ता और घटता रहता है। डॉप्लर प्रभाव प्रकाश, जल तरंगों और ध्वनि तरंगों आदि में होता है लेकिन ध्वनि तरंगों के लिए हम डॉप्लर प्रभाव को आसानी से महसूस कर सकते हैं। इस लेख में हम डॉप्लर प्रभाव क्या है (Doppler effect in Hindi) जानेंगे।

डॉप्लर प्रभाव क्या है | Doppler effect in Hindi

डॉप्लर प्रभाव क्या है

डॉप्लर प्रभाव (Doppler effect) एक पर्यवेक्षक के संबंध में एक तरंग की आवृत्ति में परिवर्तन है जो तरंग स्रोत के सापेक्ष गतिमान है। इसका नाम ऑस्ट्रियाई भौतिक विज्ञानी Christian Doppler के नाम पर रखा गया है, जिन्होंने 1842 में इस घटना का वर्णन किया था।

डॉप्लर प्रभाव (Doppler effect) एक तरंग की आवृत्ति और तरंग दैर्ध्य में परिवर्तन है। यह तरंग बनाने वाली वस्तु और तरंग को देखने या सुनने को मापने वाली वस्तु के बीच की दूरी में परिवर्तन के कारण होता है। जब ध्वनि के स्रोत और श्रोता के बीच सापेक्ष गति होती है, तो श्रोता द्वारा सुनी जाने वाली ध्वनि की आवृत्ति मूल आवृत्ति से कम या अधिक होती है। इसे डॉप्लर प्रभाव कहते हैं।

प्रकाश स्रोत और प्रेक्षक के बीच सापेक्ष गति के साथ भी यही प्रभाव होता है, जिसमें पर्यवेक्षक को प्रकाश की आवृत्ति में परिवर्तन का अनुभव नहीं होता है क्योंकि प्रकाश की गति की तुलना में दोनों की सापेक्ष गति बहुत कम होती है। यदि प्रेक्षक और प्रकाश स्रोत के बीच सापेक्ष गति प्रकाश की गति का 3% भी है, तो प्रेक्षक ध्वनि की तरह प्रकाश की आवृत्ति में परिवर्तन का अनुभव करने में सक्षम होगा।

ब्रह्मांड का विस्तार हो रहा है, आकाशीय पिंड एक दूसरे से दूर जा रहे हैं। अरबों साल पहले सारा मामला एक बिंदु पर केंद्रित था। वे एक बड़े धमाके के साथ बिखरे हुए थे और तब से ब्रह्मांड का लगातार विस्तार हो रहा है, इस सिद्धांत को बिग-बैंग सिद्धांत के रूप में जाना जाता है, खगोलीय पिंडों के दूर जाने की गति उनके बीच की दूरी के समानुपाती होती है। इस सिद्धांत को प्रकाश के डॉप्लर प्रभाव द्वारा भी समझाया गया है।

उदाहरण

1. जब कोई हॉर्न वाली कार आपके पास आती है तो धीरे-धीरे हॉर्न की आवाज बढ़ती है, जब वह आपके पास होती है तो आवाज सबसे ज्यादा होती है। और जब यह आपको पार करके निकल जाता है, तो आवाज कम हो जाती है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि स्रोत और श्रोता के बीच सापेक्ष गति के कारण ध्वनि तरंग की पिच बदल जाती है। जैसे-जैसे कार पास आती है ध्वनि तरंगों की पिच बढ़ती जाती है और जब कार आपसे दूर जाती है, तो ध्वनि तरंगों की पिच बढ़ जाती है जैसा कि चित्र में दिखाया गया है।

2. आपने देखा होगा कि जब आप रेलवे स्टेशन पर खड़े होते हैं और ट्रेन हॉर्न देते हुए आपकी ओर आती है, तो हॉर्न की फ्रीक्वेंसी का मान धीरे-धीरे बढ़ता जाता है। यानी जैसे-जैसे ट्रेन पास आती है, ध्वनि तरंग की आवृत्ति (आवाज) बढ़ती जाती है और जब यह आपसे दूर जाती है, तो ध्वनि धीरे-धीरे कम हो जाती है। अर्थात् आवृत्ति का मान घट जाता है, सापेक्ष गति के कारण ध्वनि तरंगों की आवृत्ति में परिवर्तन को डॉप्लर प्रभाव कहते हैं।

यह भी पढ़ें-

Related Posts

error: Content is protected !!