Menu Close

डीएनए क्रियात्मक खंड कौन सा है

डीएनए जीवित कोशिकाओं के गुणसूत्रों में पाए जाने वाले रेशेदार अणु को डीऑक्सीराइबोन्यूक्लिक एसिड या डीएनए को कहा जाता है। इसमें आनुवंशिक कोड होता है। डीएनए अणु की संरचना घुमावदार सीढ़ी की तरह होती है। डीएनए का एक अणु चार अलग-अलग घटकों से बना होता है जिन्हें न्यूक्लियोटाइड कहा जाता है। प्रत्येक न्यूक्लियोटाइड एक नाइट्रोजनयुक्त पदार्थ है। इन चार न्यूक्लियोटाइड्स को एडेनिन, ग्वानिन, थाइमिन और साइटोसिन कहा जाता है। इस लेख में हम, डीएनए क्रियात्मक खंड कौन सा है और डीएनए के क्रियात्मक खंड को क्या कहते हैं इसे जानेंगे।

डीएनए क्रियात्मक खंड कौन सा है और  डीएनए के क्रियात्मक खंड को क्या कहते हैं

डीएनए के क्रियात्मक खंड को क्या कहते हैं

डीएनए के क्रियात्मक खंड को जीन कहते हैं। जीन आनुवंशिकता की मूल भौतिक इकाई है। यानी इसमें हमें अपनी आनुवंशिक विशेषताओं के बारे में जानकारी होती है जैसे हमारे बालों का रंग क्या होगा, आंखों का रंग क्या होगा या हमें कौन से रोग हो सकते हैं। और यह जानकारी कोशिकाओं के केंद्र में मौजूद तत्व में रहती है, इसे डीएनए कहते हैं। जब किसी जीन के डीएनए में स्थायी परिवर्तन होता है तो उसे उत्परिवर्तन कहते हैं। यह कोशिका विभाजन में दोष, या पराबैंगनी विकिरण, या रासायनिक पदार्थों या वायरस के कारण हो सकता है।

डीएनए क्रियात्मक खंड कौन सा है

जीन डीएनए का कार्यात्मक खंड हैं क्योंकि वे एमआरएनए का उत्पादन करने में सक्षम होते हैं। जीन डीएनए का एक खंड होता है जो माता-पिता से संतानों तक जानकारी पहुंचाता है और संतानों में आनुवंशिकता के लक्षणों को भी निर्धारित करता है। मानव शरीर की व्यक्तिगत कोशिका में 30000 से अधिक जीन होते हैं। 

लगभग २५०० साल पहले, सुकरात चाहते थे कि हम पहले खुद को समझने की कोशिश करें। उनकी इच्छा पूरी होने की संभावना उन्नीसवीं शताब्दी के मध्य में बहुत समय बाद उठी, जब ग्रेगर मेंडल ने ऑस्ट्रिया के एक ईसाई मठ में यह पता लगाने के लिए शोध करना शुरू किया कि एक प्राणी ऐसा क्यों है। 1822 में जन्मे मेंडल एक पादरी थे, लेकिन उन्होंने वियना विश्वविद्यालय में विज्ञान का अध्ययन किया था। 1843 में, उन्होंने ईसाई मठ की कमान संभाली। इस दौरान यूरोप के धार्मिक संस्थान भी शोध में शामिल थे।

मेंडल ने भी अनुसंधान के माध्यम से अपनी जिम्मेदारियों से दूर अपने समय का उपयोग करने का निर्णय लिया। इसके लिए उन्होंने मठ के बगीचे में सुगंधित मटर उगाना शुरू कर दिया। उन्होंने आठ वर्षों तक मटर की विभिन्न विशेषताओं के प्रसार पर नज़र रखी। इस दौरान उन्होंने 30 हजार पौधे लगाए।

उन्होंने उनमें लक्षणों के प्रसार के आधार पर वंशानुक्रम के नियम बनाए। इन नियमों का पालन हर पौधा कर रहा है, हर प्राणी कर रहा है और हम खुद कर रहे हैं। उसी समय, मेंडल ने अनजाने में एक जीन की खोज की थी। उन्होंने इस ठोस विरासत इकाई के लिए “कारक” शब्द का इस्तेमाल किया, जिसके लिए डेनिश वैज्ञानिक जोहानसन ने 1909 में जीन नाम का प्रस्ताव रखा। यह नाम आज लोकप्रिय है।

इस लेख में हमने, डीएनए क्रियात्मक खंड कौन सा है और डीएनए के क्रियात्मक खंड को क्या कहते हैं इसे जाना। बाकी ज्ञानवर्धक जानकारी केलिए नीचे दिए गए लेख पढ़े:

Related Posts