Menu Close

डेंगू के मच्छर सबसे ज्यादा किस समय काटते है? जानिये डेंगू के लक्षण, इलाज और बचाव

देश के कई राज्यों में डेंगू के मामले गंभीर हैं. डेंगू बुखार डेंगू वायरस से संक्रमित एडीज मच्छर के काटने से फैलता है। डेंगू वायरस से संक्रमित व्यक्ति का खून चूसने पर यह मच्छर संक्रमित हो जाता है। यह सीधे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता है। डेंगू का संक्रमण डेन-1, डेन-2, डेन-3 और डेन-4 वायरस से फैलता है। इन चारों विषाणुओं को सीरोटाइप कहा जाता है क्योंकि ये एंटीबॉडी को अलग-अलग तरीकों से प्रभावित करते हैं। आप अलग-अलग स्ट्रेन से चार बार तक डेंगू से संक्रमित हो सकते हैं। इस लेख में हम, डेंगू के मच्छर सबसे ज्यादा किस समय काटते है? समेत डेंगू के लक्षण, इलाज और बचाव को जानेंगे।

डेंगू के मच्छर सबसे ज्यादा किस समय काटते है? जानिये डेंगू के लक्षण, इलाज और बचाव

डेंगू के मच्छर सबसे ज्यादा किस समय काटते है

डेंगू फैलाने वाले मच्छर ज्यादातर दोपहर में काटते हैं। खासकर सूर्योदय के दो घंटे बाद और सूर्यास्त से एक घंटा पहले। हालांकि, डेंगू के मच्छर रात में भी सक्रिय रहते हैं, खासकर अच्छी रोशनी वाले इलाकों में। कार्यालयों, मॉल, इनडोर ऑडिटोरियम और स्टेडियम के अंदर डेंगू मच्छर के काटने का खतरा अधिक होता है क्योंकि हर समय कृत्रिम रोशनी का उपयोग किया जाता है और प्राकृतिक प्रकाश नहीं आता है।

डेंगू के लक्षण (Dengue Symptoms)

डेंगू के लक्षण आमतौर पर संक्रमण के चार से छह दिन बाद दिखने लगते हैं और 10 दिनों तक चलते हैं। इन लक्षणों में अचानक, तेज बुखार, बहुत तेज सिरदर्द, आंखों के पीछे दर्द, जोड़ों और मांसपेशियों में तेज दर्द, थकान, मितली, उल्टी, त्वचा पर लाल चकत्ते और नाक या मसूड़ों से खून बहने जैसे हल्के रक्तस्राव शामिल हैं। डेंगू बुखार से पूरे शरीर में तेज दर्द होता है इसलिए कुछ लोग इसे हड्डी तोड़ बुखार भी कहते हैं। कई बार इसके लक्षण हल्के होते हैं और लोग इसे फ्लू या अन्य वायरल संक्रमण समझ लेते हैं।

ऐसे करें डेंगू से बचाव  (Dengue Precautions)

डेंगू मच्छरों से फैलने वाली बीमारी है और इससे बचाव बेहद जरूरी है। डेंगू का मच्छर अक्सर दिन में काटता है। इसलिए दिन में मच्छरों के काटने से खुद को बचाएं। इन दिनों पैरों में पूरी बाजू के कपड़े और जूते पहनें। शरीर को कहीं से भी खुला न छोड़ें। घर के आसपास या घर के अंदर पानी को जमने न दें। साथ ही कूलर, गमले, टायरों में जमा पानी को भी निकाल दें। कूलर में पानी हो तो उसे भी खाली कर दें, नहीं तो उसमें मच्छर पनप सकते हैं। रात को सोते समय मच्छरदानी लगाना बचाव का सबसे अच्छा तरीका है।

डेंगू का इलाज (Dengue Treatment)

डेंगू के इलाज के लिए कोई निश्चित दवा नहीं है। डेंगू बुखार में बहुत आराम करना चाहिए। खून में प्लेटलेट्स की नियमित जांच कराएं। शरीर में पानी की कमी न होने दें और भरपूर मात्रा में लिक्विड डाइट लें। इस समय नारियल पानी पीना सबसे अच्छा है। यह प्लेटलेट्स को बढ़ाने का भी काम करता है। इसके अलावा आहार में गिलोय, पपीता, कीवी, अनार, चुकंदर और हरी सब्जियों को शामिल करें। डॉक्टर के संपर्क में रहें और उसे अपने प्लेटलेट्स के बारे में जानकारी देते रहें। डॉक्टर आपको किसी भी तरह की समस्या या प्लेटलेट्स गिरने की स्थिति में अस्पताल में भर्ती होने की सलाह भी दे सकते हैं।

यह भी पढ़े:

Related Posts

error: Content is protected !!