Menu Close

डिकोडिंग क्या होता है

मनुष्य और कंप्यूटर कई मायनों में एक जैसे हैं। मानव संचार प्रक्रिया में Encoding और Decoding शामिल हैं, जो डिजिटल संचार में मूलभूत प्रक्रियाएं भी हैं। इस लेख में हम, डिकोडिंग क्या होता है जानेंगे।

डिकोडिंग क्या होता है

डिकोडिंग क्या है

डिकोडिंग कोड को सादे पाठ या किसी भी प्रारूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया है, जो बाद की प्रक्रियाओं के लिए उपयोगी है। Decoding, वास्तव में Encoding का उल्टा है। यह एन्कोडेड डेटा संचार प्रसारण और फ़ाइलों को उनकी मूल स्थिति में परिवर्तित करता है। डिकोडिंग एक कोडित रूप से किसी चीज़ को सामान्य रूप में बदलने की क्रिया या प्रक्रिया है।

अधिकांश कंप्यूटर डेटा को स्थानांतरित करने, सहेजने या उपयोग करने के लिए एक एन्कोडिंग पद्धति का उपयोग करते हैं। एन्कोड किए जाने वाले डेटा को एक एन्कोडिंग तंत्र के माध्यम से रूपांतरित किया जाता है और संचार माध्यम के माध्यम से प्रेषित किया जाता है।

डिकोडिंग एक कोडित फ़ाइल की सामग्री को अनलॉक करने की प्रक्रिया है जिसे ट्रांसमीट किया गया है। मीडिया फ़ाइलें, जैसे मूवी और संगीत, सामान्य रूप से एन्कोडेड होती हैं ताकि वे ट्रांसमिशन के दौरान अधिक बैंडविड्थ न लें। वीडियो देखने या संगीत सुनने के लिए उन्हें उनके मूल रूप में वापस डिकोड किया जाना चाहिए।

उदाहरण के तौर पर, ईमेल भेजते समय, कुछ अनुलग्नकों और छवियों सहित सभी डेटा को ‘Multipurpose Internet Mail Extensions’ (MIME) जैसे प्रारूप का उपयोग करके एन्कोड किया जाता है। जब डेटा आता है, तो डिकोडिंग ईमेल संदेश सामग्री को उसके मूल रूप में बदल देती है।

मनुष्यों के बीच, संवाद एक विचार से शुरू होता है, जो एक संदेश में रूपांतरित हो सकता है। अब, यह संदेश बोले गए या लिखित शब्दों या अशाब्दिक इशारों का भी रूप ले सकता है। मनुष्य विभिन्न संचार चैनलों जैसे चैट या फोन और आमने-सामने बातचीत के माध्यम से भी एक संदेश प्रसारित कर सकता है। जो व्यक्ति संदेश प्राप्त करता है, वह इसे एक विचार में बदलकर इसे ‘डिकोड’ कर देता है, जिससे वह व्याख्या कर सकता है और अर्थ प्राप्त कर सकता है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!