Menu Close

दबाव समूह क्या होते है? जानिये सरल भाषा में

इस लेख में आप दबाव समूह क्या होते है और भारत में इनके प्रकार और कौन से दबाव समूह अस्तित्व में है इसे जानेंगे।

दबाव समूह क्या होते है

दबाव समूह क्या होते है

वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था में दबाव समूहों का विशेष स्थान है। दबाव समूहों के संदर्भ में, यह कहा जा सकता है कि जब कोई संगठन अपने सदस्यों के हितों की पूर्ति के लिए राजनीतिक शक्ति को प्रभावित करता है और उनकी पूर्ति के लिए दबाव डालता है, तो उस संगठन को ‘दबाव समूह’ कहा जाता है।

भारत में दबाव समूह के प्रकार

भारत में औपचारिक दबाव समूह निम्न प्रकार के होते हैं:

  1. व्यापार समूह जैसे फिक्की, एसोचैम, एमओ आदि।
  2. ट्रेड यूनियन – जैसे एटक, इंटक, एचएमएस, सीटू आदि।
  3. कृषि समूह – जैसे भारतीय किसान संघ, अखिल भारतीय किसान सभा, भारतीय किसान सभा आदि।
  4. छात्र संगठन जैसे एबीवीपी, एनएसयूआई, आइसा आदि।
  5. प्रोफेशनल सोसाइटीज – ​​जैसे इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, बार काउंसिल ऑफ इंडिया आदि।
  6. धार्मिक संगठन जैसे आरएसएस, विहिप, जमात-ए-इस्लामी, शिरोमणि अकाली दल आदि।
  7. जातीय समूह – जैसे हरिजन सेवक संघ, कायस्थ समूह, ब्राह्मण सभा, राजपूत समूह आदि।
  8. भाषाई समूह – तमिल संघ, नागरी प्रचारिणी सभा, हिंदी साहित्य सम्मेलन आदि।
  9. जनजातीय संगठन समूह – NSSCN, PLA, JMM, TNU आदि।
  10. नीतिवादी, गांधीवादी, पर्यावरणविद् आदि जैसे वैचारिक समूह।

Related Posts

error: Content is protected !!