Menu Close

दबाव समूह किसे कहते हैं

दबाव समूह कभी-कभी हित समूहों के रूप में राष्ट्रीय एकता के लिए खतरा उत्पन्न करते हैं। जहां राजनीतिक शक्ति कमजोर होती है, वहां एक अधिक शक्तिशाली दबाव समूह सरकारी तंत्र को अपने हाथ में ले सकता है। दबाव समूह संबंधित संगठनों और सरकार पर अपनी मांगों को पूरा करने के लिए दबाव डालते हैं, मंत्रियों और कर्मचारियों को लुभाते हैं, राजनीतिक दलों को पैसा देते हैं और चुनाव में कार्यकर्ताओं को सुविधाएं देते हैं। इस लेख में हम, दबाव समूह किसे कहते हैं जानेंगे।

दबाव समूह किसे कहते हैं

दबाव समूह किसे कहते हैं

दबाव समूह शब्द का प्रयोग उन हित समूहों को संदर्भित करने के लिए किया जाता है जिनके प्रभाव डालने के तरीके सामान्य साधनों की तुलना में अधिक जबरदस्त होते हैं। जबरदस्ती के अलावा ये समूह अपने लक्ष्यों को हासिल करने के लिए असंवैधानिक तरीके अपनाने से भी नहीं हिचकिचाते। दबाव समूह ऐसे संगठन हैं जो औपचारिक रूप से राजनीतिक प्रक्रिया में भाग नहीं लेते हैं और न ही अपने स्वयं के उम्मीदवार खड़े करते हैं। इसके बजाय वे अपने सदस्यों के हितों को प्राप्त करने के लिए राजनीति को प्रभावित करते हैं। वर्तमान समय में ‘नागरिक समाज संगठनों’ को प्रमुख दबाव समूह के रूप में देखा जाता है।

भारत जैसे बहु-धार्मिक, बहुभाषी और लोकतांत्रिक देश में दबाव समूहों की प्रकृति उनके विविध लक्ष्यों से निर्धारित होती है। कुछ दबाव समूहों को जाति समूहों के रूप में देखा जा सकता है, कुछ सामाजिक संरचना पर आधारित दबाव समूह हैं, उदा. अखिल भारतीय दलित महासभा, तमिल संघ आदि।

दबाव समूह औपचारिक, संगठित, बड़ी और सीमित सदस्यता वाले संगठन होते हैं। वे लॉबिंग के माध्यम से अपने हितों की सेवा करने की कोशिश करते हैं। राजनीतिक दलों के विपरीत, दबाव समूहों का कामकाज किसी विचारधारा या वैचारिक लक्ष्य से नियंत्रित नहीं होता है। उनका मूल लक्ष्य हितों की रक्षा, अभिव्यक्ति, समूहीकरण, सरकार पर दबाव डालना आदि है।

यह भी पढे –

Related Posts

error: Content is protected !!