Menu Close

भाषा का लिखित रूप क्या कहलाता है

भाषा वह माध्यम है जिसके द्वारा हम अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं और इसके लिए हम बोली जाने वाली ध्वनियों का उपयोग करते हैं। किसी भाषा की सभी ध्वनियों के प्रतिनिधि स्वर एक साथ मिलकर एक संपूर्ण भाषा की अवधारणा का निर्माण करते हैं। सामान्यतः भाषा को वैचारिक आदान-प्रदान का माध्यम कहा जा सकता है। भाषा आंतरिक अभिव्यक्ति का सबसे विश्वसनीय माध्यम है। इस लेख में हम भाषा का लिखित रूप क्या कहलाता है जानेंगे।

भाषा का लिखित रूप क्या कहलाता है

भाषा का लिखित रूप क्या कहलाता है

भाषा का लिखित रूप को लिखित भाषा कहते हैं। लिखित भाषा वह भाषा है जिसमें भावनाओं को लिखकर व्यक्त किया जाता है। जैसे हम किसी को पत्र के माध्यम से संदेश देते हैं। लिखित भाषा का हमारे जीवन में बहुत महत्व है। हम लिखित भाषा के माध्यम से अपने विचार व्यक्त कर सकते हैं। लिखित भाषा के माध्यम से हम ऐसी कहानियाँ और कविताएँ लिख सकते हैं जिन्हें दुनिया का हर व्यक्ति पढ़ सकता है।

समाचार पत्र लिखित भाषा के माध्यम से मुद्रित होते हैं, जिसके माध्यम से हमें दुनिया के बारे में जानकारी मिलती है। इस प्रकार, लिखित भाषा का वह रूप जिसमें एक व्यक्ति अपने विचारों या भावनाओं को लिखकर व्यक्त करता है और दूसरा व्यक्ति उसकी बात को पढ़ता और समझता है। आप अपने विचार लिखित भाषा के माध्यम से या पुस्तकों और पत्रिकाओं में लेखों के माध्यम से व्यक्त कर सकते हैं।

भाषा हमारे विचारों और विचारधाराओं का संचार है। सदियों से, दार्शनिक विचार, सभ्यता और संस्कृति मौखिक रूप से एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को प्रेषित की जाती रही है। मौखिक संचार में कई विसंगतियां थीं और कभी-कभी प्रस्तुत विचारों की व्याख्या भी बदल दी जाती थी। भाषा के लिखित संस्करण ने सभ्यता के विकास में एक नई क्रांति ला दी।

जब अभिव्यक्ति को लिपि का समर्थन मिला, तो इसकी व्यावहारिकता और प्रामाणिकता को सदियों का जीवन मिला। ज्ञान और विज्ञान के संरक्षण के लिए भाषा का लिखित रूप बहुत महत्वपूर्ण है। दुनिया भर में कई सभ्यताएं समय की गति में बसी और नष्ट हो गईं, लेकिन जिन सभ्यताओं का इतिहास लिखित में दर्ज किया गया था, वे आज भी अमर हैं और उनका ज्ञान आज भी कई संदर्भों में व्यावहारिक साबित होता है।

यह भी पढ़ें –

Related Posts

error: Content is protected !!