Menu Close

भारत में वायु परिवहन की शुरुआत

हवाई परिवहन (Air Transport), परिवहन का सबसे तेज और सबसे आधुनिक साधन है। भारत जैसे विशाल देश के लिए यह निश्चित रूप से उपयोगी है, लेकिन संसाधनों और धन की कमी के कारण इसका पर्याप्त विकास नहीं हो पाया है। इस लेख में हम भारत में वायु परिवहन की शुरुआत कब हुई इसे विस्तार से जानेंगे।

भारत में वायु परिवहन की शुरुआत

भारत में वायु परिवहन की शुरुआत कब हुई

भारत में वायु परिवहन की शुरुआत वर्ष 1911 में हुई। भारत में पहली व्यावसायिक उड़ान 18 फरवरी, 1911 को हुई, जो इलाहाबाद और नैनी के बीच 6 मील की दूरी पर थी। इसमें 6500 डाक विमान से भेजे गए, जिसे हेनरी पिकेट ने चलाया था। इसे दुनिया की पहली एयरमेल सेवा और भारत में नागरिक उड्डयन की शुरुआत के रूप में जाना जाता है।

दिसंबर 1912 में, यूनाइटेड किंगडम स्थित इंपीरियल एयर सर्विस के सहयोग से इंडियन स्टेट एयर सर्विस ने लंदन, कराची-दिल्ली एयरलाइन की शुरुआत की, जो भारत से पहली अंतरराष्ट्रीय उड़ान थी। 1915 में टाटा संस लिमिटेड ने कराची और मद्रास के बीच नियमित एयरमेल सेवा शुरू की और 24 जनवरी 1920 को रॉयल एयर फोर्स ने कराची और बॉम्बे के बीच नियमित एयरमेल सेवा शुरू की।

भारत में नागरिक हवाई अड्डों का निर्माण 1924 में शुरू किया गया था। कलकत्ता (अब कोलकाता) में दम-दम, इलाहाबाद में बमरौली और बॉम्बे (अब मुंबई) में गिल्बर्ट हिल में हवाई अड्डे बनाए गए थे। 1932 में टाटा संस लिमिटेड का एक डिवीजन टाटा एयरलाइंस के रूप में अस्तित्व में आया। 15 अक्टूबर को कराची, अहमदाबाद, बॉम्बे, बेल्लारी, मद्रास के बीच एयरलाइन शुरू की गई थी। उन्हें डाक ले जाने का काम सौंपा गया था।

भारत की स्वतंत्रता के बाद, एयर इंडिया इंटरनेशनल लिमिटेड के नाम से अंतरराष्ट्रीय सेवाओं को संचालित करने के लिए 1948 में एयर इंडिया और भारत सरकार के बीच एक समझौते पर हस्ताक्षर किए गए थे। आजादी के बाद हवाई अड्डे और हवाई सेवाओं का विस्तार किया गया। वर्तमान में 126 हवाई अड्डे हैं, जिनमें से कई अंतरराष्ट्रीय महत्व के हैं।

मार्च 1953 में, भारतीय संसद ने वायु निगम अधिनियम पारित किया और हवाई परिवहन का राष्ट्रीयकरण किया गया। सभी एयरलाइनों को दो नव निर्मित निगमों में मिला दिया गया। एक निगम का नाम इंडियन एयरलाइंस था, जिसका काम देश के अंदरूनी हिस्सों में हवाई सेवाएं चलाना है। इसे पड़ोसी देशों के साथ भी हवाई संपर्क स्थापित करने का काम सौंपा गया था।

2004 से भारत के हवाई यातायात में प्रति वर्ष लगभग 18 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। भविष्य में उच्च स्तरीय विकास की भी काफी संभावनाएं हैं। ऐसी विकास संभावनाओं के सामने कई दिशाओं में चुनौतियां भी आएंगी।

भारत में प्रमुख अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे

  • छत्रपति शिवाजी एयरपोर्ट सांताक्रूज, मुंबई
  • इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – पालम, दिल्ली
  • सुभाष चंद्र बोस हवाई अड्डा – दम दम, कोलकाता
  • मीनांबकम एयरपोर्ट चेन्नई
  • श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – श्रीनगर
  • श्री गुरु रामदास जी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा राजा सांसी, अमृतसर, पंजाब
  • चंडीगढ़ अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा
  • जॉली ग्रांट एयरपोर्ट-देहरादून, उत्तराखंड
  • चौधरी चरण सिंह अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा लखनऊ, उत्तर प्रदेश
  • लाल बहादुर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बाबतपुर, वाराणसी, उत्तर प्रदेश
  • जयप्रकाश नारायण अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – पटना, बिहार
  • बिरसा मुंडा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा-रांची, झारखंड
  • जयपुर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा-सांगनेर, जयपुर
  • महाराणा प्रताप डोमेस्टिक एयरपोर्ट डबोक, उदयपुर
  • सरदार वल्लभभाई पटेल अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा हुनसोल, अहमदाबाद, गुजरात
  • राजा भोज अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – गांधीनगर, मध्य प्रदेश
  • देवी अहिल्याबाई होल्कर एयरपोर्ट इंदौर, मध्य प्रदेश
  • स्वामी विवेकानंद अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – माना, रायपुर, छत्तीसगढ़
  • लोकप्रिय गोपीनाथ बोरदोलोई अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा बोरझार, गुवाहाटी, असम
  • बीजू पटनायक अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा-भुवनेश्वर, उड़ीसा
  • भारत रत्न बाबासाहेब डॉ. बी.आर. अम्बेडकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – नागपुर, महाराष्ट्र
  • गोवा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – डाबोलिम, वास्को डी गामा, गोवा
  • केम्पेगौड़ा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा देवनहल्ली, कर्नाटक
  • राजीव गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – शमशाबाद, तेलंगाना
  • कोच्चि अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा नेदुम्बसेरी, केरल
  • त्रिवेंद्रम अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा तिरुवनंतपुरम, केरल
  • वीर सावरकर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा – पोर्ट ब्लेयर, अंडमान और निकोबार द्वीप समूह

यह भी पढ़े –

Related Posts

error: Content is protected !!