Menu Close

भारत की सबसे बड़ी जनजाति कौन सी है 2022

क्या आपको पता है की 2022 में भारत की सबसे बड़ी जनजाति कौन सी है? अगर नहीं तो आप इस आर्टिकल में इसे विस्तार से जानने वाले है। भारत विविधता और कई संस्कृति समूहों का देश है। जहां आपको कई जीवन शैली, भाषाएं और अलग-अलग जातियां देखने को मिलेंगी। इतनी विविधता होने के बावजूद भारत में एकता है और यही भारत को दुनिया भर में पहचान दिलाती है।

आपकी जानकारी के लिए बता दे कि भारत की गिनती दुनिया के सबसे बड़े देशों में होती है और भारत दुनिया में सबसे ज्यादा जनजातियों का घर है. इन जनजातियों को भारत के संविधान में अनुसूचित जनजाति की श्रेणी में रखा गया है।

2021 में भारत की सबसे बड़ी जनजाति कौन सी है

सामान्य तौर पर यह देखा जाता है कि आदिवासी जनजाति आधुनिकता से ज्यादा जुड़ी नहीं है। वह अपना जीवन पारंपरिक तरीके से जीती है। यही कारण है कि जनजातियों में ज्यादा विकास नहीं हो रहा है, लेकिन भारत सरकार उनके विकास के लिए लगातार प्रयास कर रही है। और लगभग सभी सरकारी क्षेत्रों में जनजाति के लोगों को विशेष छूट दी जाती है। 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में जनजातीय आबादी 10.45 मिलियन है। चूंकि पिछली जनगणना के 10 साल हो चुके हैं, वर्तमान समय में आपको उनकी आबादी में और भी अधिक वृद्धि देखने को मिलेगी।

भारत की सबसे बड़ी जनजाति कौन सी है

भील जनसंख्या की दृष्टि से भारत की सबसे बड़ी जनजाति है। वर्ष 2011 में हुई जनगणना के अनुसार भारत में भील जनजाति के लोगों की जनसंख्या 1 करोड़ 69 लाख है। जिसमें 86 लाख पुरुष और 84 लाख महिलाएं शामिल थीं। मौजूदा समय में इनकी आबादी और भी ज्यादा बढ़ गई होगी। भील जनजाति मुख्य रूप से उत्तर, मध्य और दक्षिण भारत में निवास करती है।

इसके बाद दूसरा नाम गोंड का है जो मध्य प्रदेश की सबसे बड़ी जनजाति है। मध्य प्रदेश में जनजातियों की सबसे बड़ी आबादी है जिसमें पहला नाम गोंड और दूसरा भील है। भारत के सभी राज्यों की गिनती करें तो भारत में 705 जनजातियां रहती हैं। जो किसी एक देश में सबसे अधिक है, भारत की प्रमुख जनजातियों के नाम नीचे दिए गए हैं।

भारत की प्रमुख जनजातियों के नाम

भील
ओराओं
गारो
कोया
मिरी
हलबा
धरूया
त्रिपुरी
गोंड
कोल
वर्ली
कोकना
कवर
भुमीज
लुशाई
नाइकडा
संथाल
सुगाली
गुज्जर
मुंडा
खोंड
कोली महादेव
सहरिया
खासी

इन जनजातियों की आधी से अधिक आबादी मध्य भारत में रहती है। इनमें मध्य प्रदेश (14.69%), महाराष्ट्र (10.08%), उड़ीसा (9.2%), राजस्थान (8.86%), गुजरात (8.55%), झारखंड (8.29%), छत्तीसगढ़ (7.5%), और आंध्र प्रदेश (5.7%) शामिल हैं।) सम्मलित हैं। इसमें से 89.97% ग्रामीण क्षेत्र में और 10.03% शहरी क्षेत्र में रहते हैं।

तो अब आपको पता चल ही गया होगा कि भारत की सबसे बड़ी जनजाति कौन सी है, आदिवासी लोगों के अपने कपड़े, भाषा और रहन-सहन की आदतें होती हैं। सभी जनजातियों का अपना अलग धर्म है और वे अपने धर्म में ज्यादातर प्रकृति की पूजा करते हैं। लेकिन ब्रिटिश शासन के दौरान कई लोगों को जबरन अंग्रेजी धर्म में परिवर्तित कर दिया गया। जबकि स्वतंत्र भारत में अधिकांश जनसंख्या हिन्दू धर्म को मानती है। तो उम्मीद है कि यह पोस्ट आपके लिए जानकारीपूर्ण साबित होगी।

यह भी पढ़े –

Related Posts

error: Content is protected !!