मेन्यू बंद करे

वंशलोचन के फायदे और नुकसान

वंशलोचन (Banslochan) या तबाशीर (Tabasheer) बांस के पेड़ की एक किस्म से बनाया जाता है। इसका इस्तेमाल च्यवनप्राश बनाने में भी किया जाता है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर मांसपेशियों की जकड़न को दूर करता है। तबाशीर का कोई स्वाद नहीं है। लेकिन यह जीभ पर लगाते ही पानी सोख लेता है। यह गंधहीन और औषधीय गुणों से भरपूर है और बड़ों से लेकर बच्चों तक सभी के लिए फायदेमंद है। इस आर्टिकल में हम, वंशलोचन के फायदे और नुकसान क्या है जानेंगे।

वंशलोचन के फायदे और नुकसान

वंशलोचन या तबाशीर क्या है

वंशलोचन या तबाशीर एक प्रकार का कैल्शियम है जो बांस के पेड़ से मिलता है। वंशलोचन की खास बात यह है कि इसमें सिलिकॉन डाइऑक्साइड होता है, जो हड्डियों, जोड़ों और त्वचा के लिए बहुत फायदेमंद होता है। वंशलोचन के सेवन से शरीर के ऊतकों का पूर्ण विकास होता है। आयुर्वेद के अनुसार, यह एक इम्यूनो-मॉड्यूलेटर के रूप में कार्य करता है जो प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाने में मदद करता है। इस तरह यह रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है, मौसमी बीमारियों से बचाने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें-

वंशलोचन के फायदे

1. एसिडिटी की समस्या को दूर करता है (Removes Acidity Problem)

एसिडिटी पेट में अत्यधिक एसिड उत्पादन के कारण होती है। ऐसे में वंशलोचन आपकी काफी मदद कर सकती हैं। वंशलोचन को सुबह खाली पेट खाने से एसिडिटी की समस्या कम होती है। साथ ही जिन लोगों को कब्ज की समस्या रहती है उनके लिए भी वंशलोचन बहुत फायदेमंद होता है।

2. चेहरे को निखारता है (Brightens The Face)

वंशलोचन चेहरे की रंगत में निखार लाती है और आपको गोरा बनाने में मदद करती है। दरअसल, कहा जाता है कि जो महिलाएं गर्भावस्था के दौरान तबशीर का सेवन करती हैं, उनके बच्चे गोरे होते हैं। इसके अलावा वंशलोचन खून को साफ करने में मदद करता है, जिससे कील-मुंहासों से छुटकारा मिलता है और रंगत भी साफ होती है।

3. महिलाओं के लिए फायदेमंद (Beneficial for Women)

वंशलोचन महिलाओं के लिए बहुत फायदेमंद होता है। यह पीरियड्स की ऐंठन को कम करने में मदद करता है और शरीर में एनीमिया को भी रोकता है। इसके साथ ही जिन महिलाओं में आयरन की कमी होती है उनके लिए वंशलोचन बहुत फायदेमंद होता है। इससे उन्हें एनीमिया के लक्षणों को कम करने में मदद मिलती है।

4. हड्डियों को मजबूत करता है (Strengthens Bones)

वंशलोचन में कैल्शियम की मात्रा बहुत अधिक होती है जो हड्डियों को मजबूत बनाती है। यदि आप इसे गर्भावस्था के दौरान खाती हैं, तो आपके बच्चे की हड्डियों का विकास होता है। बड़े बच्चों को अगर यह खिलाया जाए तो उनकी हड्डियां मजबूत होती हैं।

5. पित्त को शांत करता है (Pacifies Bile)

तबशीर ठंडी तासीर की होती है इसलिए जिन लोगों के हाथ पैरों में जलन होती है और हाथों से पसीना आता है उनके लिए भी वंशलोचन का सेवन फायदेमंद होता है। यह पित्त को शांत करता है और शरीर के बाकी दोषों जैसे वात, पित्त और कफ में संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें-

6. पेट में सूजन कम करता है (Reduces Bloating in Stomach)

पेट फूलने के पीछे कई कारण हो सकते हैं, जैसे पेप्टिक अल्सर, अल्सरेटिव कोलाइटिस और क्रोहन रोग आदि। इन सभी में पेट की परत प्रभावित होती है और पेट फूल जाता है। ऐसे में मुलेठी की कुछ वंशावली लेकर आप लाभ पा सकते हैं।

7. मुंह के छाले दूर करता है (Removes Mouth Ulcers)

जिन लोगों को हर कुछ दिनों में मुंह में छाले होने की समस्या होती है, उन्हें वंशलोचन को शहद में मिलाकर सेवन करना चाहिए। साथ ही जिन लोगों का पित्त अधिक होता है उन्हें भी अधिक समस्या होती है। वंशलोचन पेट की गर्मी को शांत करता है और शहद का जीवाणुरोधी गुण मुंह के संक्रमण को कम करता है।

8. शरीर को डिटॉक्स करता है (Detoxes The Body)

वंशलोचन शरीर को डिटॉक्स करता है और शरीर के सभी अंगों के कामकाज में सुधार करने में मदद करता है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है और आंतों को साफ करने में मदद करता है। इसके अलावा वंशावली चयापचय को तेज करने में भी सहायक होती है, जो खाने-पीने की क्रिया को सही करने में मदद करती है।

9. बालों के विकास में सहायक (Aids in Hair Growth)

वंशलोचन बालों के विकास को प्रोत्साहित करता है और बालों को मजबूत बनाता है। यह प्रभाव इसमें प्राकृतिक सिलिका सामग्री के कारण होता है। इसमें मौजूद सिलिका बालों को पतला होने और बालों को झड़ने से रोकता है। इसके नियमित सेवन से स्कैल्प में ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है।

10. बच्चों में मिट्टी खाने की आदत को दूर करता है (Stop The Habit of Eating Mud)

कुछ बच्चों को मिट्टी खाने की आदत होती है जो आसानी से नहीं जाती है। ऐसे में इस आदत को दूर करने के लिए वंशावली आपकी मदद कर सकती है। ऐसे में वंशलोचन को पीसकर शहद में मिलाकर इसकी गोलियां बनाकर बच्चों को दें। इससे बच्चों में कैल्शियम की कमी दूर होगी और उनकी मिट्टी खाने की आदत दूर हो जाएगी।

यह भी पढ़ें-

वंशलोचन के नुकसान

वंशलोचन एक प्राकृतिक कैल्शियम है जो बांस के पेड़ से प्राप्त होता है। आयुर्वेद की दृष्टि से इसका प्रयोग कई प्रकार की औषधियों को बनाने में किया जाता है। जिस तरह इसके कई फायदे हैं उसी तरह इसके कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। इसलिए डॉक्टर या विशेषज्ञ के अनुसार सीमित मात्रा में ही इसका सेवन करें।

Related Posts