Menu Close

Bank Manager कैसे बने: बैंक मैनेजर बनने की सम्पूर्ण प्रक्रिया जानें

भारत में बैंक जॉब को एक बड़ा प्रतिष्ठित पेशा माना जाता है। और अगर राष्ट्रीयकृत बैंक में नौकरी मिल जाती है तो उस व्यक्ति का जीवन सुखद हो बन जाता है। क्योंकि सरकारी बैंक में नौकरी एक बेहतर करियर प्रदान करती है। वैसे तो बैंकों में नौकरी पाना थोड़ा मुश्किल काम है, उसमें Bank Manager जैसा प्रतिष्ठित औदा पाना और कठिन है, लेकिन अगर आप अपना लक्ष्य निर्धारित करें और उसकी तैयारी में लग जाएं तो मुश्किल काम आसान हो जाता है। इस लेख में हम, बैंक मैनेजर कैसे बने और इसकी सैलरी, योग्यता और प्रक्रिया को जानेंगे।

Bank Manager कैसे बने: बैंक मैनेजर बनने की सम्पूर्ण प्रक्रिया जानें

उदाहरण के लिए जब आप जब भी एसबीआई ब्रांच में जाते हैं तो वहां के मैनेजर को देखकर आप भी यही सोचते होंगे SBI सरकारी बैंक मैनेजर कैसे बने और बनने की प्रक्रिया क्या है। हम इस लेख में आपको सभी सवालों का जवाब देंगे। बैंक मैनेजर किसी एक ब्रांच या ब्रांच के लिए जिम्मेदारी व्यक्ति होता है। जिसके बाद शाखा में कार्यरत सभी कर्मचारी Bank Manager की देखरेख में ही कार्य करते हैं।

बैंक मैनेजर कैसे बने

सबसे पहले आपको यह तय करना होगा कि आप सरकारी या निजी बैंक में नौकरी चाहते हैं या नहीं। क्योंकि दोनों में बैंक मैनेजर बनने की प्रक्रिया थोड़ी अलग होती है। अगर आप सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं तो आपको कड़ी मेहनत करनी होगी। अगर आप सफल हो जाते हैं तो आपको प्राइवेट से ज्यादा सैलरी मिलती है।

सरकारी बैंक

अगर आप भारत के 20 से ज्यादा सरकारी बैंकों में नौकरी पाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको आईबीपीएस परीक्षा क्रैक करनी होगी। आईबीपीएस पीओ का फुल फॉर्म इंस्टिट्यूट ऑफ बैंकिंग पर्सनल सिलेक्शन है। जिसे हिंदी में बैंकिंग कार्मिक चयन संस्थान कहा जाता है। इस परीक्षा को पास करने के बाद आप देश के लगभग सभी सरकारी बैंकों में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। एसबीआई बैंक अपने कर्मचारियों के चयन के लिए अपनी अलग प्रक्रिया अपनाता है।

निजी बैंक

निजी बैंकों में नौकरी पाने के लिए आपको पीओ परीक्षा पास करनी होगी। पीओ का फुल फॉर्म Probationary Officer होता है, जो मुख्य रूप से बैंक कर्मचारी के रूप में काम करता है। जब भी किसी प्राइवेट बैंक को कर्मचारियों की जरूरत होती है तो वह पीओ परीक्षा की मदद लेते हैं। इसमें पास होने वाले उम्मीदवारों को चयन की अगली प्रक्रिया से गुजरना होता है जिसकी जानकारी नीचे दी गई है।

बैंक मैनेजर बनने की योग्यता

सभी बैंकों में मैनेजर बनने की योग्यता और प्रक्रिया अलग-अलग होती है जिसकी जानकारी नीचे दी गई है।

  1. उम्मीदवार भारतीय नागरिक होना चाहिए।
  2. वह 18 से 30 साल के भीतर बैंक की नौकरी के लिए आवेदन कर सकता है।
  3. बैंक में स्नातक उम्मीदवारों को प्रायऑरिटी दी जाती है।
  4. सरकारी बैंक में मैनेजर बनने के लिए आईबीपीएस परीक्षा पास करना अनिवार्य है।
  5. पीओ परीक्षा पास करके आप प्राइवेट में भी नौकरी पा सकते हैं।
  6. इन सबके अलावा उम्मीदवार को कंप्यूटर कोर्स करना भी जरूरी है।

बैंक मैनेजर बनने के लिए क्या करें?

आपको किसी भी बैंक में प्रत्यक्ष शाखा प्रबंधक नहीं बनाया जाता है, चाहे वह निजी हो या सरकारी। इसके लिए आपको पहले बैंक में प्रोबेशनरी ऑफिसर (पीओ) के रूप में काम करना होगा। इसके बाद यदि आपकी पदोन्नति होती है तो आपकी नियुक्ति सहायक प्रबंधक के पद पर होगी, तभी आप बैंक मैनेजर के पद के लिए पात्र होंगे। हालांकि, इससे पहले क्या प्रक्रिया होती है, आइए जानते हैं।

12वीं पास

पहला कदम है अपने राज्य के सरकारी बोर्ड से 12वीं की परीक्षा पास करना। कुछ उम्मीदवार सोचते हैं कि बैंकिंग क्षेत्र में नौकरी पाने के लिए वाणिज्य को ही चुनना होगा। लेकिन ऐसा नहीं है, आप विज्ञान, वाणिज्य या कला विषय भी ले सकते हैं।

स्नातक

12वीं पास करने के बाद विज्ञान, वाणिज्य या कला विषय में स्नातक की डिग्री प्राप्त करें। इसके साथ कंप्यूटर कोर्स जरूर करें। क्योंकि आज के समय में सभी नौकरियों में कंप्यूटर की पढ़ाई जरूरी कर दी गई है।

बैंक पीओ परीक्षा

इसमें मुख्य रूप से दो चरणों की परीक्षा होती है, पहले चरण में उम्मीदवार को लिखित परीक्षा देनी होती है। जिसमें सामान्य ज्ञान और करंट अफेयर्स, सामान्य अंग्रेजी, गणित, तार्किक प्रश्न पूछे जाते हैं, इन सभी विषयों पर 100 प्रश्न पूछे जाते हैं, इसके लिए 1 घंटे का समय दिया जाता है।

दूसरे चरण में मुख्य परीक्षा होती है, जिसमें पहले चरण में उत्तीर्ण होने वाले कैंडिडेट को शामिल किया जाता है, जिसमें नेगटिव मार्किंग भी होती है। इसमें भी आपसे सामान्य ज्ञान और करंट अफेयर्स, सामान्य अंग्रेजी, गणित, तार्किक प्रश्न पूछे जाते हैं लेकिन इसमें कुछ कठिन प्रश्न होते हैं।

इंटरव्यू और बैंक पीओ प्रशिक्षण

यदि आप पीओ परीक्षा पास करते हैं तो आपको इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। हालांकि अब कई राज्यों में इंटरव्यू की व्यवस्था बंद कर दी गई है, ऐसे में परीक्षा के बाद 1 से 2 साल तक पीओ की ट्रेनिंग दी जाती है। जिसमें आपको बैंकिंग से जुड़ी हर चीज की ट्रेनिंग दी जाती है। जब आपकी ट्रेनिंग पूरी हो जाती है तो आपको बैंक में पीओ की नौकरी मिल जाती है।

सहायक प्रबंधक और बैंक प्रबंधक

यदि आप बैंक में पीओ के पद पर रहकर अच्छा कार्य करते हैं तो आपको सहायक प्रबंधक के पद पर दो-तीन वर्ष बाद प्रोन्नति के रूप में नियुक्त किया जाता है। असिस्टेंट मैनेजर बनने के 3-5 साल बाद आपको ब्रांच मैनेजर बना दिया जाता है।

बैंक मैनेजर की सैलरी कितनी होती है

जब आप किसी बैंक में पीओ अधिकारी के रूप में काम करते हैं, तो आपको करीब 25,000 रुपये का प्रारंभिक मूल वेतन दिया जाता है, जो कि बैंक मैनेजर बनने तक मासिक 90,000 रुपये तक हो सकता है। हालांकि, यह बैंक पर निर्भर करता है कि वे आपको कितना मासिक वेतन देना चाहते हैं। वैसे देखा गया है कि निजी बैंक अपने कर्मचारियों को सरकारी बैंकों की तुलना में कम वेतन देते हैं।

इस लेख में हमने, Bank Manager कैसे बने और बैंक मैनेजर बनने की सम्पूर्ण प्रक्रिया को जाना। बाकी ज्ञानवर्धक जानकारी के लिए नीचे दिए गए लेख पढ़े:

Related Posts